Monday - 27 September 2021 - 1:25 AM

Tag Archives: डंके की चोट पर

डंके की चोट पर : यह जनता का फैसला है बाबू, यकीन मानो रुझान आने लगे हैं

शबाहत हुसैन विजेता प्रतापगढ़ में बीजेपी सांसद संगम लाल गुप्ता को भीड़ ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा. तो देश में इस तरह से हंगामा खड़ा हो गया है जैसे कि कोई आश्चर्यजनक घटना हो गई है. सांसद तो एक महीना पहले भी पीटे गए थे. राज्यसभा की घटना देश भूल थोड़े …

Read More »

डंके की चोट पर : फोकट की सुविधाएं सिर्फ आपको ही चाहिए मंत्री जी

शबाहत हुसैन विजेता पत्रकारों की एक पुरानी मांग है कि उनके लिए टोल प्लाज़ा फ्री कर दिया जाए. राज्य सरकार के माध्यम से केन्द्र सरकार को कई बार प्रत्यावेदन भेजा गया. जिसमें यह कहा गया कि पत्रकारों को कवरेज के लिए कई शहरों में जाना पड़ता है. सरकार अगर उनके …

Read More »

डंके की चोट पर : पता नहीं कौन सा दुश्मन कब हुर में बदल जाए

शबाहत हुसैन विजेता मोहर्रम शुरू होने वाला है. इस्लामिक कलैंडर का पहला महीना. दूसरे कलैंडर में नया साल आता है तो खुशियाँ मनाई जाती हैं, मुबारकबाद दी जाती हैं मगर इस्लामिक कलैंडर का नया साल स्याह चादर में लिपटकर आता है. मातम-मजलिस का सिलसिला शुरू हो जाता है. काले झंडे …

Read More »

डंके की चोट पर : इसे मैंने आखिर लिख क्यों दिया?

शबाहत हुसैन विजेता पश्चिम अफ्रीका के एक फुटबाल खिलाड़ी हैं सादियो माने सेनेगल. 27 साल का यह खिलाड़ी छह करोड़ रुपये महीना कमाता है. एक प्रेस कांफ्रेंस में उनके मोबाइल के टूटे हुए स्क्रीन को देखकर एक पत्रकार ने सवाल किया कि आप टूटा हुआ मोबाइल लेकर घूम रहे हैं. …

Read More »

डंके की चोट पर : लाशों के बीच वो लड़की और …

शबाहत हुसैन विजेता पत्रकारिता में मेरी शुरुआत क्राइम रिपोर्टिंग से हुई. रोजाना शाम को एसएसपी के दफ्तर में ब्रीफिंग होती थी. वहां एक प्रेस नोट मिल जाता था. उसमें दिन भर की घटनाएं होती थीं. यानि रूटीन का इंतजाम हो जाता था. एक्सक्लूसिव के लिए इधर-उधर भटकना होता था. वह …

Read More »

डंके की चोट पर : बिना परीक्षा पास करने का अहसान क्यों किया सरकार

शबाहत हुसैन विजेता शिक्षा के क्षेत्र में दो पड़ाव सबसे अहम हैं हाईस्कूल और इंटरमीडिएट. इससे पहले की कक्षाओं में कितने पर्सेन्ट नम्बर मिले उसके कोई मायने नहीं होते. हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा देने वालों की सही समीक्षा इसलिए हो पाती है क्योंकि न परीक्षा केन्द्र अपना होता है, …

Read More »

डंके की चोट पर : हर तरफ मौत है, हर तरफ तबाही है

शबाहत हुसैन विजेता अस्पतालों में जगह नहीं है. रिश्तेदार अपने मरीजों को गाड़ियों में लेकर इस अस्पताल से उस अस्पताल भाग रहे हैं. अस्पताल की गैलरी में भी इलाज को तैयार हैं. स्ट्रेचर पर भी इलाज मिल जाए तो भी शुक्र का सजदा करे ले रहे हैं. अस्पतालों में बेड …

Read More »

डंके की चोट पर : पहले लोग गिद्ध कहते थे तो शर्मिंदगी लगती थी

शबाहत हुसैन विजेता दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है. साल 2020 में कोरोना आया था तब इसका नाम तक नया था. इसकी कभी दवा भी बन पायेगी यह ख्वाबों की बात थी. साल बीतते-बीतते लोगों को इस बीमारी से काफी हद तक सुकून मिल गया. कोरोना की वैक्सीन भी …

Read More »

डंके की चोट पर : पांच साल पहले मिथुन दा को ममता ज़रूरी लगी थीं और अब…

शबाहत हुसैन विजेता पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी को सत्ता से बेदखल कर वहां भगवा झंडा फहराने के मकसद से बीजेपी ने अपना नया दांव मिथुन चक्रवर्ती के रूप में चला है. सियासी पार्टियां हमेशा से ज़रूरत पड़ने पर सत्ता पर काबिज़ होने के लिए ग्लैमर का तड़का लगाती रही …

Read More »

डंके की चोट पर : आज अगर खामोश रहे तो कल सन्नाटा छाएगा

शबाहत हुसैन विजेता वो मेरे बचपन का दौर था. सड़क पर नारे लग रहे थे नसबंदी के तीन दलाल इन्दिरा-संजय-बंसीलाल. तब न नसबंदी का मतलब मालूम था, न दलाल की परिभाषा पता थी, न बंसीलाल और संजय के बारे में ही कुछ मालूम था. हाँ यह पता था कि इन्दिरा …

Read More »
English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com