Saturday - 23 October 2021 - 2:02 PM

पेगासस पर बवाल के बीच पाकिस्तान ने भारत पर लगाया ये आरोप

जुबिली न्यूज डेस्क

पिछले दो दिन से भारत का सियासी पारा चढ़ा हुआ है। संसद से लेकर सोशल मीडिया पर स्पाईवेयर पेगासस को लेकर बवाल मचा हुआ है।

इस बवाल के बीच पाकिस्तान ने भारत पर एक बड़ा आरोप लगाया है। पाकिस्तान ने कहा है कि स्पाईवेयर पेगासस के जरिए भारत ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान का फोन हैक किया।

भारत में इजरायल की साइबर सुरक्षा कंपनी एनएसओ के स्पाईवेयर पेगासस को लेकर बवाल मचा हुआ है। ऐसा दावा किया जा रहा है कि भारत में इसके जरिए कई पत्रकारों और चर्चित हस्तियों के फोन की जासूसी की गई।

यह भी पढ़ें : संसदीय दल की बैठक में मोदी ने क्या कहा?

यह भी पढ़ें : यूरोपीय आयोग ने कहा- पेगासस जैसी घटनाएं पूरी तरह अस्वीकार्य 

यह भी पढ़ें : राज कुंद्रा की व्हाट्सऐप चैट से हुआ बड़ा खुलासा, हर हफ्ते रिलीज…

अब इस बवाल में पाकिस्तान ने भी एंट्री कर ली है। पाकिस्तान ने कहा है कि प्रधानमंत्री इमरान खान के फोन की भी इस इजरायली सॉफ्टवेयर के जरिए कथित तौर पर जासूसी की बातें सामने आई हैं।

अब पाकिस्तान ने इसे लेकर भी भारत पर आरोप लगा दिए हैं और कहा है कि वह इस मुद्दे को बड़े मंच पर उठाएगा।

भारत पर इमरान के फोन की जासूसी के आरोप

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के फोन की जासूसी को लेकर सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने डॉन न्यूज को बताया, “हम भारत द्वारा हैकिंग के ब्योरे का इंतजार कर रहे हैं।”

चौधरी ने कहा- एक बार डीटेल पता होने के बाद इस मुद्दे को उचित मंचों पर उठाया जाएगा। इससे पहले एक ट्वीट में, चौधरी ने उन रिपोर्टों पर चिंता व्यक्त की थी जिसमे कहा गया था कि भारत सरकार ने कथित रूप से पत्रकारों और राजनीतिक विरोधियों की जासूसी करने के लिए इजरायल के सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया है।

यह भी पढ़ें :पेगासस जासूसी कांड पर संसद में हंगामा, सरकार ने कहा- उनका इससे….

यह भी पढ़ें : बकरीद : केरल सरकार के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट हुआ नाराज

पेगासस पर भारत में सियासी तूफान

मालूम हो कि पेगासस जासूसी मामले के सामने आने के बाद भारत में सियासी तूफान खड़ा हो गया है। पेगासस जासूसी कांड की सूची में भारत में जिन लोगों के नाम शामिल हैं उनमें 40 से अधिक पत्रकारों के अलावा सत्ता पक्ष और विपक्ष के कई नेता भी शामिल हैं। सबसे बड़ा नाम कांग्रेस नेता राहुल गांधी का है।

साल 2019 में जब यह मामला उठा था तब भारत सरकार ने पेगासस सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल से इनकार किया था और अब भी केंद्र सरकार ने इस रिपोर्ट की टाइमिंग को लेकर सवाल खड़े किए हैं।

एनएसओ ने दी सफाई

वहीं इसको लेकर मचे हंगामे के बीच पेगासस स्पाईवेयर को तैयार करने वाली कंपनी एनएसओ ने सफाई दी है। एनएसओ ने कहा है कि यह एक अंतरराष्ट्रीय साजिश है।

यह भी पढ़ें : कोरोना की ‘वार्म वैक्सीन’ बनाने के करीब पहुंचे भारतीय वैज्ञानिक    

एनएसओ से जब पूछा गया कि क्या पेगासस सॉफ्टवेयर भारत सरकार या भारत सरकार से जुड़ी किसी अन्य संस्था द्वारा खरीदा गया है? इस पर जवाब मिला- हम किसी भी कस्टमर का जिक्र नहीं कर सकते, जिन देशों को हम पेगासस बेचते हैं, उनकी सूची सीक्रेट जानकारी है।

हम विशिष्ट ग्राहकों के बारे में नहीं बोल सकते लेकिन इस पूरे मामले में जारी देशों की सूची पूरी तरह से गलत है, इस सूची में से कुछ तो हमारे ग्राहक भी नहीं हैं। हम केवल सरकारों और सरकार के कानून प्रवर्तन और खुफिया संगठनों को बेचते हैं। हम बिक्री से पहले और बाद में संयुक्त राष्ट्र के सभी सिद्धांतों की सदस्यता लेते हैं। किसी भी अंतरराष्ट्रीय प्रणाली का कोई दुरुपयोग नहीं होता है।

यह भी पढ़ें : जारी है सियासी अदावत…कैप्टन ने रखी लंच पार्टी लेकिन सिद्धू को न्योता नहीं

यह भी पढ़ें : अश्लील फिल्में बनाने के आरोप में शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा गिरफ्तार 

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com