Wednesday - 12 August 2020 - 8:03 PM

लिपुलेख : पहले नेपाल ने किया दावा और अब पहुंचे चीनी सैनिक

जुबिली न्यूज डेस्क

लिपुलेख पर नेपाल की दावेदारी के बाद अब वहां चीनी सेना की गतिविधि बढ़ गई है। चीन ने पीपल्स लिब्रेशन ऑर्मी की एक बटालियन को उत्तराखंड में लिपुलेख पास के नजदीक तैनात किया है। चीनी सैनिकों की बढ़ती गतिविधि देखकर सवाल उठ रहा है कि क्या नेपाल चीन के साथ मिलकर कोई नई चाल चल रहा है?

जानकारों के मुताबिक यह लद्दाख सेक्टर के बाहर लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर मौजूद उन ठिकानों में से एक है जहां पिछले कुछ सप्ताह में चाइनीज सैनिकों की आवाजाही दिखी है।

यह भी पढ़ें :   राम मंदिर : भूमि पूजन से पहले लॉक होगी अयोध्या

यह भी पढ़ें :   वियतनाम में कोरोना से हुई पहली मौत

यह भी पढ़ें : सुशांत की बहन ने पीएम मोदी से की अपील

अधिकारियों के मुताबिक लिपुलेख पास पर पीएलए ने एक बटालियन को तैनात किया है, जिसमें करीब 1000 सैनिक हैं, ये सीमा से कुछ दूरी पर हैं। एक दूसरे सैन्य अधिकारी ने कहा, ”यह सिग्नल है कि चीनी सैनिक तैयार हैं।” उन्होंने कहा कि भारत ने पीएलए सैनिकों के बराबर संख्या बढ़ा दी है और नेपाल पर भी नजर रखी जा रही है।

एक वरिष्ठ सैन्य अधिकारी के मुताबिक ”लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर स्थिति लगातार बदल रही है। चीनी सैनिक लद्दाख के अलावा दूसरे जगहों पर मौजूदगी बढ़ा रहे हैं और इन्फ्रास्ट्रक्चर को भी मजबूत किया जा रहा है।” लद्दाख और दूसरे जगहों पर चीनी सैनिकों की आवाजाही के मुताबिक भारत ने भी अपने सैनिकों को तैयार रखा है। भारत लद्दाख में सर्दियों के लिए भी तैयारी में जुटा है।

मालूम हो कि मई माह के पहले सप्ताह में भारत और चीनी सैनिकों के बीच पूर्वी लद्दाख में तनाव की शुरुआत हुई और 15 जून को दोनों देशों के सैनिकों में हिंसक झड़प हुई, जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए। चीन ने अब तक अपने हताहत सैनिकों की संख्या का खुलासा नहीं किया है। पिछले 45 साल में ऐसा पहली बार हुआ था कि दोनों देशों के सैनिकों में इस तरह खूनी झड़प हुई।

यह भी पढ़ें :  नेपाल में सत्तारूढ़ पार्टी ओली का क्यों कर रही है विरोध ?

यह भी पढ़ें :  लोकल हेलमेट लगाने वाले हो जाए सावधान

यह भी पढ़ें : लापता वकील की लाश मिलने पर क्या बोली प्रियंका गांधी

सैन्य स्तर और राजनायिक स्तर की बातचीत के बाद भारत और चीन के बीच सहमति बनी की चीन एलएसी से अपनी सेना को हटायेगा लेकिन चीन ने ऐसा नहीं किया। एक तरफ चीन ने सैनिकों को पीछे हटा लेने का दावा किया तो भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि प्रक्रिया की शुरुआत जरूर हुई है, लेकिन काम अभी पूरा नहीं हुआ है।

इसके साथ ही लद्दाख में भारतीय सेना के अधिकारियों ने नोटिस किया है कि पिछले इलाकों में चीनी सैनिकों की संख्या बढ़ रही है, वे इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करने में जुटे हैं। एलएसी पर दूसरे जगहों पर भी चीन अपनी मौजूदगी बढ़ा रहा है।

एक टॉप सैन्य कमांडर के मुताबिक, ”लिपुलेख पास, उत्तरी सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में एलएसी पर पीएलए सैनिकों का जमावड़ा है।” लिपुलेख पास मानसरोवर यात्रा रूट पर है, जो इन दिनों नेपाल से विवाद को लेकर सुर्खियों में बना हुआ है। यहां भारत की ओर से बनाए गए 80 किलोमीटर सड़क पर नेपाल ने आपत्ति जताई थी। लिपुलेख पास के जरिए एलएसी के आरपार रहने वाले भारत और चीन के आदिवासी जून-अक्टूबर के दौरान वस्तु व्यापार करते हैं।

काठमांडू ने अपने नए राजनीतिक नक्शे में बदलाव करके भारत के साथ तनाव पैदा किया। नेपाल ने नए नक्शे में भारतीय इलाकों कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को शामिल कर लिया। लिपुलेख भारत-चीन-नेपाल सीमा के ट्राइजंक्शन पर है।

यह भी पढ़ें :  भगवान राम को लेकर ये क्या बोल गये नेपाल पीएम केपी शर्मा ओली

यह भी पढ़ें :  ओली को भारी पड़ रहा है भारत विरोध

यह भी पढ़ें :  जमीन के बाद अब इतिहास पर नेपाल की दावेदारी

यह भी पढ़ें : भारतीय मीडिया की किस रिपोर्ट से नाराज है नेपाल ?

 

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com