Friday - 25 June 2021 - 12:51 AM

मई में 1.5 करोड़ लोगों ने गवाई अपनी नौकरी

जुबिली न्यूज डेस्क

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने खूब तांडव मचाया। एक ओर भारी संख्या में लोग संक्रमित हुए, तो वहीं संक्रमण रोकने के लिए हुई तालाबंदी के चलते लाखों-करोड़ों लोगों की नौकरी चली गई।

इस बार कोरोना संक्रमण रोकने के लिए अधिकांश राज्यों में तालाबंदी का सहारा लिया, जिसके चलते देश की अर्थव्यवस्था ठप्प हो गई।

तालाबंदी के दौरान करोड़ों लोग अपनी नौकरी से हाथ धो बैठे। एक प्राइवेट रिसर्च ग्रुप द्वारा किए गए सर्वे के अनुसार इस साल मई में देश में करीब 1.5 करोड़ से अधिक लोगों ने अपनी नौकरियां गवाई है।

बेरोजगारी की दर में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है। कोरोना की दूसरी लहर के चलते पिछले महीने मई में बेरोजगारी दर 11.9 फीसदी हो गई जबकि उसके पिछले महीने अप्रैल में यह 7.97 फीसदी पर थी।

यह पिछले साल किए गए लॉकडाउन के बाद से सबसे अधिक है। पिछले साल जून में बेरोजगारी 10.18 फीसदी थी। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) के अनुसार, कामकाजी आयु वर्ग के लगभग 14.73 प्रतिशत लोग शहरी क्षेत्रों में और 10.63 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगार हुए।

पिछले साल अप्रैल में हुए देशव्यापी तालाबंदी के चलते सबसे अधिक बेरोजगारी दर थी। इसकी दर 23.52 फीसदी थी। हालांकि इसके बाद इस दर में अगले ही महीने से गिरावट आने लगी और मई 2020 में देश की बेरोजगारी दर 21.73 फीसदी पर पहुंच गई।

ये भी पढ़े: WHO ने आखिर अब किस बात की भारत को दी चेतावनी

ये भी पढ़े: दिल्ली में खुली दुकानें, मेट्रो भी चली 

सीएमआईई के मुताबिक मई के महीने में 37.545 करोड़ लोगों के पास रोजगार है। इसमें विभिन्न प्रकार के अनौपचारिक कार्य शामिल हैं। अप्रैल में 39.079 करोड़ लोगों को रोजगार मिला, जिसका मतलब है कि मई में 1.53 करोड़ से अधिक नौकरियां चली गईं।

ये भी पढ़े: बंगाल : महुआ मोइत्रा ने किसको ‘अंकलजी’ कहकर संबोधित किया

ये भी पढ़े: फेसबुक पर लौटने में दिलचस्पी नहीं ले रहे ट्रंप 

सूत्रों के अनुसार कोरोना संक्रमित होने का डर और लचर वैक्सीनेशन के चलते कई कर्मियों के मन में काम को लेकर डर बढ़ा जिसके चलते लेबर फोर्स पार्टिसिपेशन रेट (LFPR)  में गिरावट आई।

एलएफपीआर किसी खास आयु-वर्ग के लोगों द्वारा काम करने वाले या सक्रिय रूप से काम की तलाश कर रहे लोगों और उस खास आयु-वर्ग की कुल जनसंख्या का अनुपात है।

इस रेट में आमतौर पर 15 वर्ष और इससे ऊपर के लोगों को शामिल किया जाता है। वहीं बेरोजगारी दर सक्रिय रूप से काम की तलाश कर रहे बेरोजगारों और कुल श्रमिक बल (लेबर फोर्स) के बीच का अनुपात है।

ये भी पढ़े: योगी ही नहीं इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों का भी समय नहीं चल रहा सही

ये भी पढ़े: 14 महीनों में हर मिनट में 30 नए निवेशकों की हुई शेयर बाजार में एंट्री

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com