Saturday - 8 May 2021 - 1:30 AM

कोरोना को हराने के लिए यूपी सरकार ने दी लखनऊ को बड़ी राहत

जुबिली न्यूज़ डेस्क

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार ने कोरोना की दूसरी लहर से निपटने के लिये राजधानी लखनऊ में रहने वाले लोगों को बड़ी राहत दी है। सरकार की तरफ से गोल्डेन ब्लॉसम होटल और हज हाउस में इलाज के लिये 2100 बेडों की व्वयस्था की जा रही है। जिससे बीमारी से ग्रसित लोगों को इलाज की तत्काल सुविधा मिलेगी।

सरकार की मदद के लिये डीआरडीओ की टीम भी जमीन पर उतर चुकी है। उसकी ओर से लखनऊ के चारों कोनों पर 500 से 600 बेड वाले अस्पताल संचालित किए जाऐंगे। दिल्ली से डॉक्टरों की विशेष टीम भी लखनऊ के लिये रवाना हो चुकी है जो गंभीर मरीजों को इलाज मुहैया कराएगी।

ये भी पढ़े:ऑक्सीजन की कमी पर पीएम मोदी ने दिए ये निर्देश

ये भी पढ़े: नीरव मोदी को भारत लाने का रास्ता साफ

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री पहले ही निर्देश दे चुके हैं कि अस्पताल प्रशासन को किसी प्रकार की जरूरत हो तो वह तत्काल शासन को पूरी जानकारी दे। उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से मरीजों के बेहतर इलाज देने के लिये पूरी मुस्तैदी से काम शुरू कर दिया गया है।

उन्होंने संसाधनों की आवश्यकता के लिये भारत सरकार को भी जानकारी दी है। जिसके बाद से बीमारी से रोकथाम की व्यवस्था को और मजबूती मिली है। केन्द्र सरकार की ओर से बीमारी की रोकथाम के लिये विशेष इतजाम उत्तर प्रदेश के लिये किये जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर अब डीआरडीओ भी कोरोना की जंग जीतने में सरकार के साथ नजर आएगा। बहुत जल्द ही डीआरडीओ की टीम लखनऊ पहुंचकर यहां विभिन्न स्थलों पर 500 से 600 बेड वाले अस्पतालों का संचालन शुरू करने जा रहा है। कोविड अस्पताल के रूप में काम करने वाले इन अस्पतालों में मिशन मोड पर काम किया जाएगा।

ये भी पढ़े:UP में फायर ब्रिगेड की गाड़ियों से हो रहा सेनिटाइजेशन

ये भी पढ़े: कोरोना ने तोड़े पुराने रिकॉर्ड, 27426 नए संक्रमित मिले, लखनऊ की हालत खराब

राजधानी लखनऊ में कोरोना के बढ़ते मामलों पर नियंत्रण पाने के लिये दिल्ली से अतरिक्त वेंटिलेटर मंगाए गये हैं। सरकार का उद्देश्य प्रत्येक मरीज को इलाज और उसकी जिंदगी को बचाना है। मरीजों के इलाज के लिये डॉक्टरों की टीम भी लखनऊ आने के लिये रवाना हो चुकी है।

कोरोना की दूसरी लहर में मरीजों को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिये प्रतिबद्ध लखनऊ ने केजीएमयू और बलरामपुर हॉस्पिटल को पूरी तरह से ‘डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल’ ब नाकर वहां इलाज देना शुरू कर दिया है। इन डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटलों में आइसोलेशन बेड, वेंटिलेटर, बाइपैप मशीन और एचएफएनसी मशीन की अतिरिक्त सुविधा मरीजों को उपलब्ध कराई जा रही है।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में टीएस मिश्र हॉस्पिटल, इंटीग्रल और हिन्द मेडिकल कॉलेजों को डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल के रूप में क्षमता विस्तार किए जाने के निर्देश दिये थे। मुख्यमंत्री के निर्देश पर इन अस्पतालों में भी कोविड के मरीजों का इलाज किया जाना शुरू हो चुका है।

कोरोना के बढ़ते मामलों की रोकथाम के लिये उत्तर प्रदेश की सरकार ने उत्तर प्रदेश के दस जनपदों में रात्रि कर्फ्यू में जहां दो घंटे का इजाफा किया है। वहीं सरकार की पहल को देखते हुए उत्तर प्रदेश के व्यापारी भी आगे आए हैं। उन्होंने सरकार का सहयोग करते हुए स्वयं से बाजारों को बंद करने का निर्णय लिया है। जिससे बीमारी के फैलने पर रोक लगेगी और कोरोना के खिलाफ जंग जीतने में बड़ी सफलता हासिल होगी।

ये भी पढ़े:ये कैसा वक़्त है ! पहले इलाज के लिए लगना पड़ता था लाइन में लेकिन अब लाश …

ये भी पढ़े: देश में जल्द खुलेंगे कई नए Bank, क्या है RBI का प्‍लान

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com