Thursday - 29 October 2020 - 1:58 AM

बिहार चुनाव की असल खिचड़ी रांची में पक रही है

प्रमुख संवाददाता

नई दिल्ली. बिहार चुनाव को लेकर देश भर में चर्चा है. चर्चा कई वजहों से है. नीतीश-बीजेपी साथ चुनाव लड़ रहे हैं. राजग का घटक रामविलास पासवान का बेटा चिराग जदयू को आँख दिखा रहा है. लालू के बगैर तेजस्वी और तेजप्रताप क्या तीर मार पायेंगे इस पर सबकी निगाहें हैं. रघुवंश प्रसाद सिंह की मौत को भी जदयू कैश करने की फिराक में है मगर सच बात तो यह है बिहार चुनाव की असल खिचड़ी रांची में पक रही है.

लालू यादव चारा घोटाले की सजा भुगत रहे हैं. उन्हें झारखंड की जेल में रखा गया है. लालू कई गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं लिहाजा रांची का जेल प्रशासन उन्हें रिम्स निदेशक के बंगले में रखकर उनका इलाज करवा रहा है. पहले उन्हें अस्पताल में ही भर्ती कराया गया था लेकिन कोरोना संक्रमण के डर से उन्हें यहाँ रखा गया है.

लालू यादव भले ही कैद में हैं लेकिन बिहार के चुनाव का ऊँट किस करवट बैठेगा यह तय करने की ताकत सिर्फ लालू यादव के हाथ में है. महागठबंधन में झारखंड मुक्ति मोर्चा की डील पक्की करने के लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन खुद लालू प्रसाद यादव से मुलाक़ात कर गए हैं. बताया जाता है कि झारखंड मुक्ति मोर्चा बिहार की बारह सीटों पर चुनाव लड़ने वाला है.

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना लाल गुप्ता भी लालू यादव से मुलाक़ात करने के लिए रिम्स निदेशक के बंगले में आये. गुप्ता जी हालांकि उन डाक्टरों को सम्मानित करने आये थे जिन्होंने कोरोना संक्रमितों का इलाज किया और खुद संक्रमित हो गए. ऐसे डाक्टरों को सम्मानित करने पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री ने दस डाक्टरों को सम्मानित करने के बाद अपने बाडीगार्ड और सरकारी कार को कार्यक्रम स्थल पर छोड़ दिया और लालू यादव के डाक्टर उमेश प्रसाद की कार में सवार होकर लालू यादव से मुलाक़ात करने पहुँच गए.

स्वास्थ्य मंत्री ने अपना पूरा काम बड़ी चालाकी से किया ताकि किसी को कानोकान खबर न हो कि वह लालू यादव से मुलाक़ात कर आये हैं लेकिन जब बात खुल गई तो उन्होंने कहा कि वह तो निदेशक बंगले का निरीक्षण करने गए थे तो राजद सुप्रीमो के इलाज की जानकारी भी ले ली. उनका हालचाल भी जान लिया और आशीर्वाद भी ले लिया. उन्होंने कहा कि लालू यादव की शुगर बढ़ी हुई है. डाक्टर उन पर बराबर निगाह जमाये हैं.

यह भी पढ़ें : रिमांड पर लिया जाएगा करोड़पति पुलिस अधिकारी

यह भी पढ़ें : अखिलेश सरकार के अधूरे पुल से बीजेपी कैसे पूरा करेगी अपना सपना

यह भी पढ़ें : राफेल डील पर CAG ने ही खड़े किए सवाल, अब क्या करेगी सरकार ?

यह भी पढ़ें : डंके की चोट पर : वीर बहादुर का सपना पूरा कर रहे हैं योगी

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री की बात करें तो वह महीने में एक बार लालू प्रसाद यादव से आशीर्वाद लेने ज़रूर आते हैं और हर बार यह सतर्कता बरतते हैं कि किसी को पता न चल जाए. इसी तरह झारखंड के मुख्यमंत्री खुद भी लालू यादव से मुलाक़ात करने आ चुके हैं. बिहार में दो दिन पहले राजद के एक वरिष्ठ नेता ने कहा भी था कि चुनाव लालू यादव के दिशा-निर्देश पर ही लड़ा जाएगा. उन्होंने बताया था कि लालू यादव से रोजाना बात होती है.

हालात साफ़ कर रहे हैं कि बिहार की राजनीति आज भी लालू प्रसाद यादव के चारों तरफ ही घूम रही है. भले ही लालू सजा काट रहे हों और उनका मूवमेंट बंद कर दिया गया हो लेकिन हकीकत यही है कि बिहार चुनाव की असल खिचड़ी रांची में ही पक रही है. चुनावी संग्राम का रिमोट रांची में है. चुनाव का नतीजा भी वहीं से तय होगा.

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com