Wednesday - 27 October 2021 - 4:18 PM

‘मोदी’ की अवमानना के मामले में अदालत में हाजिर हुए राहुल

जुबिली न्यूज डेस्क

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी गुरुवार को मानहानि के एक मामले में गुजरात के सूरत की एक अदालत में पेश हुए।

अदालत में राहुल ने कहा कि ‘मोदी’ सरनेम वाले लोगों के खिलाफ उन्होंने कोई अपमानजनक टिप्पणी नहीं की है।

गुुजरात में एक विधायक पूर्णेश मोदी ने मोदी सरनेम वालों के खिलाफ कथित तौर पर अपमानजनक टिप्पणी करने का आरोप लगाते हुए राहुल गांधी के खिलाफ आपराधिक मानहानि की शिकायत करते हुए अदालत का दरवाजा खटखटाया था।

यह भी पढ़ें : …तो अब दिल्ली भाजपा में भी सब ठीक नहीं है?

यह भी पढ़ें : टोक्यो ओलंपिक की तैयारी में नहीं छोड़ी कोई कसर

यह भी पढ़ें : जलवायु परिवर्तन ने बदला भारतीय मानसून का मिजाज़

सूरत में चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट जस्टिस एएन दवे के सामने दिए बयान में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने साल 2019 लोकसभा चुनावों के दौरान कर्नाटक के कोलार में हुई एक रैली में मोदी समाज के लोगों के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने से इनकार किया है।

कोर्ट में जब मजिस्ट्रेट ने राहुल गांधी से सवाल किया कि क्या उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक व्यवसायी को 30 करोड़ रुपये दिए थे, तो राहुल गांधी ने कहा कि वो एक राष्ट्रीय नेता हैं और लगातार भ्रष्टाचार और बेरोजगारी से जुड़े मुद्दे उठाते रहे हैं। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि राष्ट्रहित में इस तरह के मुद्दों को उठाना उनका अधिकार है।

अदालत ने सांसद राहुल गांधी से पूछा कि क्या उन्होंने कहा था कि ‘सभी चोरों के नाम में मोदी क्यों है’, तो उन्होंने कभी भी इस तरह का बयान देने से इनकार किया। इसके अलावा सबूतों और बयानों के बारे में कोर्ट में पूछे गए सवालों पर उन्होंने कहा कि “उन्हें कोई जानकारी नहीं है।”

इस मामले में अगली सुनवाई अब 12 जुलाई को होने वाली है। इससे पहले अक्तूबर 2019 में राहुल गांधी अदालत में पेश हुए थे और उस समय भी उन्होंने टिप्पणी करने से इनकार किया था।

अप्रैल 2019 में विधायक पुर्णेश मोदी ने भारतीय दंड संहिता की धारा 499 और धारा 500 के तहत राहुल गांधी पर अमपानजनक टिप्पणी करने का मामला दायर किया था।

यह भी पढ़ें : जो बाइडन के खाते से एक वेश्या को हुआ साढ़े 18 लाख का भुगतान

यह भी पढ़ें : मुंबई में पेट्रोल 104 रुपये तो चेन्नई में 99 रुपये के करीब

यह भी पढ़ें : पीएम संग बैठक से पहले फारूक ने महबूबा के बयान से किया किनारा

सप्ताह भर पहले जस्टिस एएन दवे ने राहुल को 24 जुलाई को ख़ुद कोर्ट में हाजिर रहने और बयान दर्ज कराने को कहा था।

अपनी शिकायत में विधायक ने कहा था कि साल 2019 में एक चुनावी रैली में राहुल गांधी ने ये कह कर मोदी समाज के लोगों का अपमान किया था कि ‘सभी चोरों के नाम के पीछे मोदी क्यों है?’

ये चुनावी सभा 13 अप्रैल 2019 को कोलार में आयोजित हुई थी जिसमें राहुल गांधी ने कथित तौर पर कहा था, “नीरव मोदी, ललित मोदी, नरेंद्र मोदी… इन सभी के नाम के पीछे मोदी सरनेम क्यों है? सभी चोरों के नाम के पीछे मोदी सरनेम क्यों है?”

जिस समय ये बयान दिए जाने की बात की जा रही है उस समय राहुल कांग्रेस के अध्यक्ष थे।

विधायक मोदी ने जिला कलेक्टर और राहुल गांधी का भाषण रिकॉर्ड करने वाले वीडियोग्राफर को गवाह के तौर पर अदालत में पेश करने के लिए गुजरात उच्च न्यायालय में अर्जी दी है। उच्च न्यायालय में इस मामले की सुनवाई सोमवार को होनी है।

यह भी पढ़ें : बीजेपी सांसद ने तमिलनाडु में पार्टी के काम करने के तरीके पर उठाया सवाल

यह भी पढ़ें :  31 जुलाई तक 12वीं के परिणाम घोषित करें सभी राज्यों के बोर्ड : सुप्रीम कोर्ट

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com