Friday - 4 December 2020 - 1:16 PM

कमलनाथ पर क्यों लग रहा है सरकारी कर्मचारियों को धमकाने का आरोप

जुबिली न्‍यूज डेस्‍क

मध्य प्रदेश में उपचुनाव की तारीख से ठीक पहले एमपी में सरकारी कर्मचारियों को लेकर सियासत गर्म हो गई है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और दिग्विजय सिंह पर कर्मचारियों को धमकाने के आरोप लगाते हुए चुनाव आयोग से इस मामले पर संज्ञान लेने की अपील की है। सीएम शिवराज ने कहा है कि आचार संहिता के दौरान कर्मचारियों को धमकाना आचार संहिता का उल्लंघन है। लिहाजा चुनाव आयोग को इस पर संज्ञान लेना चाहिए।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आरोप लगाते हुए कहा कि उपचुनाव में अपनी संभावित हार को देखते हुए कमलनाथ और दिग्विजय सिंह बौखला गए हैं। यही वजह है कि कर्मचारियों को धमकाने का काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि दोनों नेता सरकारी कर्मचारियों का अपमान कर रहे हैं।

MP Vidhan Sabha Election Results 2018 LIVE: Madhya Pradesh Chunav Result  2018 Live at Election Commission of India at www.eciresults.nic.in,  mplocalelection.gov.in

बता दें कि इससे पहले कमलनाथ ने अपने एक बयान में आरोप लगाते हुए कहा था कि कुछ सरकारी कर्मचारी बीजेपी के पक्ष में काम कर रहे हैं। उन्हें याद रखना चाहिए कि 10 के बाद 11 तारीख भी आती है।

ये भी पढ़े: कौन है मालवी मल्होत्रा, जिन पर हुआ हमला

ये भी पढ़े: खुलासा : मोदी से हुई थी नौ घंटे पूछताछ, चाय तक नहीं पी थी

पूर्व सीएम कमलनाथ ने एक दिन पहले ही प्रेस कांफ्रेंस कर आरोप लगाया था कि भाजपा को स्पष्ट लग रहा है कि चुनाव के क्या परिणाम आने वाले हैं। इसलिए बाजार में निकल गए हैं, जो मिले खरीद लो, उनके पास बस यही उपाय रह गया है।

Madhya Pradesh bypolls: BJP decries Kamal Nath's 'item' jibe for woman  candidate | India News,The Indian Express

कमल नाथ ने कहा था कि हमारा चुनाव भाजपा के साथ ऐसे कर्मचारियों अधिकारियों से भी है, जो भाजपा की मदद कर रहे हैं। 10 के बाद 11 तारीख भी आएगी। यह सभी अधिकारी ध्यान रखे। कमल नाथ के इस बयान पर सीएम शिवराज ने पलटवार किया है ।

बताते चले कि 10 नवंबर के बाद 11 नवंबर भी आती है। कमलनाथ के इस बयान को सीधे तौर पर चुनाव के साथ जोड़कर देखा जा रहा है। क्योंकि उपचुनाव की 28 सीटों के लिए 3 नवंबर को मतदान होना है। जबकि 10 नवंबर को चुनाव नतीजे सामने आएंगे।

ये भी पढ़े: तो क्या जरूरत के सामान में नहीं आता सैनिटरी पैड्स ?

ये भी पढ़े:  अब छोटे कारोबारी SMS के जरिए भर सकेंगे GST रिटर्न

कमलनाथ ने अपने बयान में कहा था कि कर्मचारी यह ध्यान रखें कि 10 नवंबर के बाद 11 नवंबर भी आती है। आपको बता दें कि इससे पहले 2018 के विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस पार्टी की ओर से इसी तरह के आरोप लगाए गए थे, लेकिन चुनाव नतीजों के बाद कांग्रेस को बीजेपी से ज्यादा सीटें मिली और उसने प्रदेश में सरकार बनाई थी। उप चुनाव के पहले सरकारी कर्मचारियों को लेकर सियासत एक बार फिर गर्म हो गई है।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com