Thursday - 6 May 2021 - 7:25 PM

इतिहासकार पद्मश्री डॉक्टर योगेश प्रवीण का निधन

जुबिली न्यूज़ डेस्क

लखनऊ। अपने दिल-ए-नाशाद को आ शाद करें हम, आओ के लखनऊ को जरा याद करें हम… वो लखनऊ का बखान इन्हीं अलफाज में करते थे। लखनऊ उनके लिए लक्ष्मण की नगरी भी है और नवाबों का शहर भी।

अंग्रेजों की बसाई खूबसूरत कॉलोनी है तो शायरों- साहित्यकारों की जमीन भी है। वो लखनऊ को दुनिया का सबसे बड़ा कॉस्मोपॉलिटन शहर मानते थे। वह दुआ करते थे कि शहर में मिली- जुली तहजीब की फितरत हमेशा कायम रहे।

ये भी पढ़े: लॉकडाउन को लेकर क्या बोले सीएम योगी

ये भी पढ़े: गुड न्यूज़ : इंडिया को मिली एक और वैक्सीन, सरकार ने दी आपातकालीन मंजूरी

अब इन अल्फाजों को सुनाने के लिए वो नहीं है, जिनकी खबर पाकर लखनऊ के आंसू नहीं रुक रहे है। किसी ने नहीं सोचा था इस महामारी के बीच लखनऊ की वो यादें लोगों से कही पीछे छूट जाएंगी, जिनकी तस्दीक खुद वो किया करते थे।

ये भी पढ़े: सिद्धू का शायराना ट्वीट, क्या पंजाब सरकार में होने वाली है वापसी

ये भी पढ़े: कुरान की 26 आयतें हटाने के मामले में वसीम रिज़वी को SC से झटका

इतिहासकार पद्मश्री डॉ. योगेश प्रवीण का सोमवार को लखनऊ में निधन हो गया। उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा गया था। उन्होंने लखनऊ शहर के इतिहास और संस्कृति पर कई किताबें लिखी हैं। लखनऊ का चप्‍पा- चप्‍पा उन्होंने खुद अपने लेखन से किताब की शक्ल में उतारा है।

बताया जा रहा है कि योगेश प्रवीण की तबीयत आज दोपहर बहुत अधिक खराब हो गई थी, उन्हें सांस लेने में तकलीफ थी। परिजन बीमार होने पर उन्हें बलरामपुर अस्पताल ले जा रहे थे। जहां रास्ते में ही उनका निधन हो गया।

वो करीब 84 वर्ष के थे। योगेश प्रवीण ने लखनऊ के इतिहास पर विशेष काम किया है। यहां की हर छोटी से छोटी बात की उन्हें जानकारी थी। वो लखनऊ की पहचान और शान कहे जाते थे।

ये भी पढ़े: एक्सपर्ट्स की टीम ने बताया-इस वजह से कोरोना हुआ बेकाबू

ये भी पढ़े: पेट्रोल-डीजल पर GST लगाने को लेकर क्या बोले अनुराग ठाकुर

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com