Friday - 23 October 2020 - 3:14 AM

नजरबंदी में रहकर भी नहीं सुधरे फारुख अब्दुल्ला

कृष्णमोहन झा

मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने का साहसिक और ऐतिहासिक फैसला जिन दिन किया था उसके पहले ही उसने यह अनुमान लगा लिया था कि नेशनल कांफ्रेंस के मुखिया फारुख अब्दुल्ला ,उनके बेटे उमर अब्दुल्ला और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की मुखिया महबूबा मुफ्ती सहित कश्मीर के और दूसरे अलगाववादी संगठनों के नेता सरकार का के इस साहसिक फैसले के खिलाफ राज्य की जनता को भडकाने से बाज नहीं आएंगे।

इसलिए राज्य में इस तरह की अलगाववादी सोच रखने वाले नेताओं को सरकार ने पहले ही या तो गिरफ्तार कर लिया था या उन्हे नजरबंद कर दिया गया था। इसीके तहत राज्य के दो पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला व उमर अब्दुल्ला को सात माह तक नजरबंद रखा गया और गत मार्च में में उनकी रिहाई की गई।

Ex Jammu kashmir cm farukh abdullah give controversial and shameful  statement on Kashmir issue | फारुख अब्दुल्ला के शर्मनाक बयान की चारों ओर  आलोचना, जानिए क्या कहा था? | Hindi News, Zee

उम्मीद तो यह की जा रही थी कि नजरबंदी से रिहाई के बाद फारुख अब्दुल्ला जैसे नेता अपनी राष्ट्र  विरोधी सोच से तौबा कर लेंगे और जम्मू कश्मीर को राष्ट्र की मुख्यधारा में लाने की दिशा में उठाए गए मोदी सरकार के ऐतिहासिक कदम का समर्थन करने में कोई संकोच नहीं करेंगे।

परंतु जल्द ही फारुख अब्दुल्ला ने अपने विवादास्पद बयानों का पुराना सिलसिला फिर से शुरु कर यह साबित कर दिया कि उनसे सुधरने की थोडी सी उम्मीद करना भी बेमानी होगा। 

नजरबंदी से रिहाई के बाद सोच संभलकर बयान देने के बजाय वे ढाक के वही तीन पात कहावत को सच साबित करने में जुट गए हैं। विगत कुछ महीनों में फारुख अब्दुल्ला ने ऐसे कई बयान दिए हैं,जिनसे यह प्रतिध्वनित होता है मानों वे राष्ट्र की संप्रभुता,अखंडता और एकता को चुनौती दे रहे हों।

यह भी पढ़ें :  पीएम केयर्स फंड : सवाल अभी भी जिंदा हैं

यह भी पढ़ें : पीएम केयर्स फंड से अब तक सिर्फ छह फीसदी वेंटिलेटर का हुआ उत्पादन

उनके घोर आपत्तिजनक बयानों के लिए उन पर कोई कानूनी कार्रवाई न होने से उनका दुस्साहस इतना बढ गया कि उनने जम्मू कश्मीर में पुन: अनुच्छेद 370 की अपनी राष्ट्र विरोधी मांग को पूरा करने के लिए चीन से सहयोग लेने की बात कहने में भी कोई  शर्म महसूस नहीं की ।

farooq abdullah being released from detention, PSA Revoked, Jammu Kashmir  news article 370 - अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद हिरासत में लिए गए फारुक  अब्दुल्ला को किया जा रहा है रिहा,

हाल में ही फारुख अब्दुल्ला ने कहा है कि चीन ने जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 समाप्त करने के केंद्र सरकार के फैसले का समर्थन नहीं किया है और अब चीन की मदद से ही राज्य में अनुच्छेद 370की बहाली संभव होगी।

यही नहीं फारुख अब्दुल्ला तो बयान देने में इतना आगे निकल गए कि चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव की वजह भी उन्होंने एक वर्ष पूर्व के मोदी सरकार के उस फैसले को बता दिया जिसके तहत जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी कर उसे भी भारत संघ का एक सामान्य राज्य बना दिया गया था।

फारुख अब्दुल्ला के इस राष्ट्र विरोधी बयान का देश भर में विरोध हो रहा है और उनके विरुद्ध देशद्रोह की धाराओं में मुकदमा चलाने की मांग की जा रही है। इतने सब के बावजूद फारुख अब्दुल्ला ने अपने आपत्तिजनक बयान के लिए क्षमायाचना नही की है ,न ही अपना बयान वापिस लिया है जिससे यह साबित होता है कि यह उनकी सोची समझी शराऱत है जिससे लिए उनके विरुद्ध कठोर कानूनी कार्रवाई होना ही चाहिए।

Farooq Abdullah Came In Front Of Media And Accused The Government - फारुक  अब्दुल्ला ने कहा- मुझे किया गया था नजरबंद, शाह बोले- अपनी मर्जी से हैं घर  में - Amar Ujala

गौरतलब है कि फारुख अब्दुल्ला अभी तक अपने बयानों से पाकिस्तान परस्ती के सबूत देते आए हैं लेकिन अब उन्हें इस कडवी हकीकत का अहसास हो चुका है कि आतंकवाद के मुद्दे पर अंतर्राष्ट्रीय जगत में शर्मसार हो चुके पाकिस्तान से किसी मदद की उम्मीद  करना  बेकार हैे इसलिए पहली बार अब उन्होंने चीन का राग अलापा है लेकिन वे यह नहीं जानते कि भारत की सद्भावना का नाजायज लाभ उठाकर सीमा पर उकसाने की कोशिशों मे लगे चीन की तरफदारी उन्हें कितनी महंगी पड सकती है।

जम्मू कश्मीर या देश के किसी भी भूभाग के बारे में निर्णय लेने के हमारे अधिकार को चुनौती देने का अधिकार किसी देश को नहीं है। फारुख अब्दुल्ला चीन की मदद से  जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 की बहाली का दिवा स्वप्न भी देख रहे हैं तो देश की संप्रभुता को चुनौती देने के अपराध जैसा है।

लानत है फारुख अब्‍दुल्‍ला साहब, आप उमर को पत्‍थरबाज नहीं बना पाए ! - farooq  abdullah calling kashmiri stonepelters as nationalist

चीन या किसी भी देश को हमारे आंतरिक मामलों में दखल देने का कोई अधिकार नहीं है। फारुख अब्दुल्ला जैसे नेताओं को याद रखना चाहिए कि मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर के मामले में मध्यस्थता के अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प के प्रस्ताव को मानने से से भी स्पष्ट इंकार कर दिया था। जम्मू कश्मीर को भारत संघ का सामान्य राज्य बनाने का जो ऐतिहासिक  फैसला मोदी सरकार ने एक वर्ष पूर्व किया था वह अंतिम था जिसका उद्देश्य राज्य को आतंकवाद से मुक्ति दिलाकर अमन चैन की बहाली और विकास के नए युग कीशुरुआत का मार्ग प्रशस्त करना है।

दरअसल मोदी सरकार के इस फैसले से राज्य के उन अलगाववादी नेताओं की राजनीतिक स्वार्थ सिद्धि के सारे रास्ते बंद हो गए हैं जो जनता को बरगलाकर राज्य में अपने हित साधने में जुटे रहते थे। अब वे जिस तरह के बयान दे रहे हैं उनसे खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे कहावत ही चरितार्थ हो रही है। दिक्कत यह है कि उनकी इसके लिए उनकी कितनी भी लानत मलानत क्यों न की जाए वे अपनी इस पहिचान को छोडने के लिए तैयार नहीं हैं।

Jammu kashmir Article 370 Removal: farooq abdullah and omar abdullah

सबसे आश्चर्य की बात तो यह है कि उनकी पार्टी केंद्र में भी गठबंधन सरकार का हिस्सा रह चुकी है और वे खुद केंद्रीय मंत्री की कुर्सी पर आसीन रह चुके हैं परंतु विवादास्पद बयानों से तौबा करने का विचार उनके मन में कभी नहीं आया। गत वर्ष केंद्र की मोदी सरकार ने जब जम्मू कश्मीर राज्य को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधानके अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने का साहसिक फैसला किया तब सरकार ने राज्य में अमन चैन बनाए रखने के लिए जिन नेताओं को नजरबंद कर दिया था। उनमें फारुख अब्दुल्ला भी शामिल थे।

यह भी पढ़ें :   प्रधानमंत्री मोदी के पास कितनी सम्पत्ति है?

यह भी पढ़ें :   भारत को उकसाने की कैसी कीमत चुका रहा चीन !

इसमें कोई संदेह नहीं कि अगर उन्हें भी दूसरे नेताओं के साथ नजरबंद नहीं किया जाता तो वे राष्ट्र विरोधी बयानों से राज्य के अलगाववादी तत्वों को भडकाने से बाज नहीं आते इसलिए सरकार को दूसरे नेताओं के साथ उन्हें भी नजरबंद करने का फैसला लेना पडा। उनकी वृद्धावस्था को देखते हुए  हाल में ही उन्हें  जब  रिहा किया गया था तब उम्मीद तो यह की जा रही थी कि अब तक उनकी मानसिकता में परिवर्तन आ चुका होगा परंतु अपने ताजे बयानों से उनने केवल यही साबित किया है कि उनसे ऐसी कोई भी उम्मीद करना बेयानी है।

नजरबंदी से रिहा होने के बाद अपने बेटे उमर से मिले फारुख अब्दुल्ला - farooq- abdullah-with-meet-his-son-omar-abdullah

राज्य में मुख्यमंत्री और केंद्र सरकार में मंत्री पद का उपभोग करने के लिए ही उन्होंने में संविधान में पूर्ण निष्ठा की शपथ ली थी  लेकिन उसके अनुरूप आचरण करने की उनसे अपेक्षा नहीं की जा सकती। यदि जम्मू कश्मीर में आतंकवाद के उन्मूलन,अमन चैन की बहाली और राज्य के द्रुतगामी आर्थिक विकास में वास्तव में उनकी कोई  रुचि होती तो वे इसका  मार्ग प्रशस्त करने वाले केंद्र सरकार के उस साहसिक फैसले का स्वागत करने का साहस दिखाते जिसके पीछे   राज्य के नागरिकों को राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल करने का पावन उद्देश्य था परंतु वे हमेशा ही ऐसे बयान देते रहे हैं जो उनकी  पाकिस्तान परस्ती का सबूत देते हैं।

उनके उस बयान को कैसे भुलाया जा सकता है जिसमें उन्होंने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को लेकर पडोसी देश के प्रति हमदर्दी दिखाई थी। फारुख अब्दुल्ला यह कैसे भूल गए कि भारतीय संसद अतीत में एक मत से यह प्रस्ताव पारित कर चुकी है कि पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर के जिस भूभाग पर अपना नाजायज कब्जा कर रखा है वह भारत का अभिन्न अंग है। फारुख अब्दुल्ला हों या मेहबूबा मुफ्ती उन सभी नेताओं के सामने  इस सच को स्वीकार कर लेने के अलावा कोई विकल्प  शेष नहीं है।

देशद्रोही वे जो बिना बुलाए बिरयानी खाने पाक जाते हैं', बोले सलमान निजामी -  Traitors are those who go to Pak for Biryani: Salman Nizami - News AajTak

फारुख अब्दुल्ला ने यह बयान न केवल शरारतपूर्ण है बल्कि इसमें देशद्रोही मानसिकता की बू भी आती है इस बयान की  देश के दूसरे राजनीतिक दलों को भी निंदा करनी चाहिए। यदि कोई राजनीतिक दल फारुख अब्दुल्ला के बयान की निंदा करने से परहेज करता है तो उसका यही मतलब निकाला जाएगा कि वह परोक्ष रूप से फारुख अब्दुल्ला का समर्थन कर रहा है।

लोकतांत्रिक देश में सरकार के किसी फैसले की आलोचना का अधिकार सभी को परंतु किसी दूसरे देश की मदद से उस फैसले को पलटवाने के मंसूबे पालना निसंदेह देशद्रोही मानसिकता का ही परिचायक है और फारुख अब्दुल्ला ने अपने ताजे बयान से साबित कर दिया है कि वे कैसी मानसिकता रखते हैं

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com