Thursday - 24 June 2021 - 11:41 PM

भाजपा को मिला कांग्रेस से पांच गुना अधिक चंदा, जानिए कौन है दानदाता

जुबिली न्यूज डेस्क

साल 2014 से भारतीय जनता पार्टी केंद्र की सत्ता में है। इस दौरान कॉर्पोरेट और व्यक्तिगत चंदा प्राप्त करने के मामले में भाजपा सबसे ऊपर है।

चुनाव आयोग (ईसी) को सौंपी गई अपनी रिपोर्ट में भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि वर्ष 2019-20 में, पार्टी को कंपनियों और व्यक्तियों से लगभग 750 करोड़ रुपये का चंदा मिला है। भाजपा को जो चंदे के रूप में जो रकम मिली है यह कांग्रेस पार्टी को मिले (139 करोड़ रुपये) से कम से कम पांच गुना अधिक है।

वहीं इस दौरान अन्य पार्टी एनसीपी को 59 करोड़ , टीएमसी को 8 करोड़, सीपीएम को 19.6 करोड़ रुपये और सीपीआई को 1.9 करोड़ रुपये मिले हैं।

यह भी पढ़ें : VIDEO : इस शख्स ने एक नहीं कर डाली 37 वीं शादी, देखें खूबसूरत दुल्हन

यह भी पढ़ें :  वैक्सीन की दोनों डोज़ लेने के बाद युवक पहुँच गया इमरजेंसी

द इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, भाजपा को चंदा देने वालों में सांसद राजीव चंद्रशेखर की जुपिटर कैपिटल, आईटीसी ग्रुप, रियल एस्टेट कंपनियां मैक्रोटेक डेवलपर्स (जिसे पहले लोढ़ा डेवलपर्स के नाम से जाना जाता था) और बीजी शिर्के कंस्ट्रक्शन टेक्नोलॉजी, प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट और जनकल्याण इलेक्टोरल ट्रस्ट प्रमुख हैं।

भाजपा को प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट से 217.75 करोड़ रुपये मिले हैं तो वहीं जनकल्याण इलेक्टोरल ट्रस्ट से 45.95 करोड़, ज्यूपिटर कैपिटल से 15 करोड़, आईटीसी से 76 करोड़, लोढ़ा डेवलपर्स से 21 करोड़, गुलमर्ग डेवलपर्स से 20 करोड़ का चंदा मिला है।

चुनावी ट्रस्ट एक धारा 25 कंपनी है जो मुख्य रूप से कॉर्पोरेट घरानों से स्वैच्छिक चंदा प्राप्त करती है और उन्हें राजनीतिक दलों को वितरित करती है। यह राजनीतिक योगदान करते हुए चंदा देने वालों का नाम गुप्त रखती है।

यह भी पढ़ें :  सूर्य को लगेगा आज ग्रहण, जानें क्या होगा असर 

यह भी पढ़ें :   …तो क्या कैप्टन की कुर्सी बच गई है लेकिन सिद्धू का क्या होगा

प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट के प्रमुख दाताओं के रूप में भारती एंटरप्राइजेज, जीएमआर एयरपोर्ट डेवलपर्स और डीएलएफ लिमिटेड हैं। जनकल्याण इलेक्टोरल ट्रस्ट को छ्वस्ङ्ख ग्रुप की कंपनियों से फंड मिलता है।

जेपी को अक्टूबर 2019 में बिल्डर सुधाकर शेट्टी से जुड़ी रियल एस्टेट कंपनी गुलमर्ग रियल्टर्स से भी 20 करोड़ रुपये का बड़ा चंदा मिला था। प्रवर्तन निदेशालय ने जनवरी 2020 में शेट्टी के आवास और कार्यालय पर छापा मारा था।

बीजेपी के दानदाताओं में कम से कम 14 शिक्षण संस्थान भी शामिल थे। इनमें मेवाड़ विश्वविद्यालय, दिल्ली (2 करोड़ रुपये), कृष्णा इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग (10 लाख रुपये), जीडी गोयनका इंटरनेशनल स्कूल, सूरत (2.5 लाख रुपये), पठानिया पब्लिक स्कूल, रोहतक (2.5 लाख रुपये), लिटिल हार्ट्स कॉन्वेंट स्कूल, भिवानी (21,000 रुपये), और एलन करियर, कोटा (25 लाख रुपये) शामिल हैं।

यह भी पढ़ें : Vaccination को लेकर अब राहुल गांधी ने सरकार से क्या की मांग

यह भी पढ़ें :  राहुल के चार दोस्तों में से दो के रास्ते हुए अलग, बचे दो पर सबकी नजरें

भाजपा को चंदा देने वालों में पार्टी के कई सदस्य, सांसद और विधायक भी शामिल हैं। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने 5 लाख रुपये, राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर ने 2 करोड़ रुपये, अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने 1.1 करोड़ रुपये, किरण खेर ने 6.8 लाख रुपये का योगदान दिया। मणिपाल ग्लोबल एजुकेशन के अध्यक्ष टी वी मोहनदास पई ने बीजेपी को 15 लाख रुपये का दान दिया।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com