Wednesday - 28 September 2022 - 8:01 AM

यूपी विधानसभा में महिला विधायकों के नाम होगा 22 सितंबर!

राजेंद्र कुमार

लखनऊ, उत्तर प्रदेश विधानसभा का यह मानसून सत्र इतिहास बनाएगा. इस सत्र में 22 सितंबर का दिन इतिहास में दर्ज होगा. क्योंकि विधानमंडल के इतिहास में पहली बार एक दिन (22 सितंबर) दोनों सदनों की कार्यवाही महिला विधायकों के नाम रहेगी. उस दिन सदन में सिर्फ महिला विधायक बोलेंगी, महिलाओं के मुद्दे उठेंगे. प्रश्नकाल के बाद सदन में सिर्फ महिला विधायकों को बोलने का मौका दिया जाएगा. हालांकि उस दिन सदन में सभी विधायक मौजूद रहेंगे, लेकिन बोलने का अवसर सिर्फ महिला सदस्यों को मिलेगा.

आजादी के बाद विधानमंडल के दोनों सदनों में महिला विधायकों को खुलकर अपनी बात रखने का यह मौका पहली बार मिल रहा है. यूपी विधानसभा में इस बार सबसे ज्यादा 47 यानी 10.90% महिलाएं जीतकर पहुंची हैं. इससे पहले इतनी बड़ी संख्या में महिला विधायक चुनाव जीत कर विधानसभा नहीं पहुंची थी. यही वजह है कि यूपी की राजनीति में महिला विधायकों को स्पीकर, सभापति, दलों की नेता और संसदीय कार्य मंत्री बनाये जाने में किसी भी राजनीतिक दल ने पहल नहीं की. जबकि दो महिला मुख्यमंत्रियों ने यूपी की सत्ता संभाली. इस विधानसभा में कांग्रेस ने अपना नेता महिला विधायक बनाकर इस दिशा में पहल की तो अब भारतीय जनता पार्टी के सीनियर नेता रहे और वर्तमान में विधान सभा अध्यक्ष सतीश महाना ने पूरे एक दिन सदन की कार्यवाही महिला विधायकों के नाम करने का फैसला ले लिया. महाना का कहना है कि अब यूपी की विधानसभा बदल रही है तो महिलाएं चाहती हैं उनकी जिम्मेदारी भी बढ़े. तो हमने भी उस दिशा में कदम बढ़ाया है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी इस कदम की सराहना की है. और उन्होंने 22 सितंबर को महिलाओं को ही पीठासीन अधिकारी बनाए जाने का अनुरोध किया है. यूपी विधानसभा के इतिहास को देखे तो अब तक विधानसभा में 28 नेता विरोधी दल बनाए जा चुके हैं, पर किसी भी राजनीतिक दल ने एक भी महिला विधायक को नेता विरोधी दल नहीं बनाया. यहीं नहीं विधान परिषद में भी 20 नेता विरोधी दल बने लेकिन उनमें भी महिला विधायकों को जगह नहीं मिली. इसी प्रकार यूपी में अब तक विधानसभा के 18 स्पीकर बनाए जा चुके हैं, जिनमें एक भी महिला नहीं है। और विधान परिषद में भी 13 सभापति हुए, पर इनमें भी कोई महिला नहीं रही. इस बार 47 महिला विधायक सदन पहुंची है.

ये भी पढ़ें-प्राइवेट वीड‍ियो कैसे होते हैं लीक जानें, ऐसे करें बचाव

पहली विधानसभा से अब तक 20 ऐसी महिला विधायक हैं, जो चार से छह बार विधानसभा पहुंच चुकी हैं. छह बार चुनाव जीतने वाली विधायकों में विमला राकेश और बेनी बाई शामिल हैं. शकुंतला देवी, शारदा देवी, राजपत देवी, प्रेमलता कटियार, गुलाब देबी (वर्तमान सरकार में मंत्री) पांच बार विधानसभा पहुंच चुकी हैं. विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना के अनुसार 22 सितंबर को प्रत्येक महिला सदस्य को कम से कम तीन मिनट और अधिकतम आठ मिनट का समय दिया जाएगा. महाना ने दावा किया कि आजादी के बाद से पहली बार विधानमंडल में ऐसा नजारा देखने को मिलेगा।

ये भी पढ़ें-मूवी लवर्स के लिए खुशखबकी, मात्र 75 रुपए में सिनेमाघरों में देख सकते हैं फिल्म, जानें कब

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com