Sunday - 27 November 2022 - 6:54 AM

क्या कांग्रेस की राह पर अन्य पार्टियां भी चलेंगी?

जुबिली न्यूज डेस्क

हाथरस मामले में कांग्रेस ने जिस तरह स्टैंड लिया उसकी हर ओर तारीफ हो रही है। कांग्रेस ने हाथरस मामले को देखते हुए एक और नजीर पेश किया है।

जी हां, कांग्रेस हाईकमान ने हाथरस घटना के बाद बिहार में महिलाओं के खिलाफ आपराधिक केस वाले किसी उम्मीदवार को टिकट न देने का फैसला किया है।

कांग्रेस के इस फैसले की चारों ओर तारीफ हो रही है। जानकारों का कहना है कि यदि कांग्रेस अपने इस फैसले पर अन्य चुनावों में आडिग रहती है तो इससे अन्य पार्टियों पर भी दबाव बनेगा। राजनीतिक दलों को महिलाओं के खिलाफ आपराधिक केस वाले नेताओं से दूरी बनानी पड़ेगी।

यह भी पढ़ें :पिछले चुनाव में इस बाहुबली के अपराधों को आरजेडी ने बनाया था मुद्दा और इस बार दिया टिकट

यह भी पढ़ें :तो क्या सवर्णों के सहारे चुनावी वैतरणी पार करना चाहती है बीजेपी

यह भी पढ़ें : सुप्रीम कोर्ट ने कहा – ‘अंग्रेजों के राज में जिस तरीके से किया जाता था वह अभी करना सही नहीं’

हालांकि कांग्रेस हाईकमान के इस फैसले की वजह बिहार में अब तक कांग्रेस पहले चरण के उम्मीदवारों की घोषणा भी नहीं कर पाई है, जबकि जदयू, भाजपा अपनी पहली लिस्ट जारी कर चुकी है।

बताया जा रहा है कि पार्टी हाईकमान के इस फैसले की वजह से पहली लिस्ट आने में अभी समय लग सकता है।

सूत्रों के अनुसार इस देरी की एक वजह यह है कि पार्टी की ओर से टिकट पाने में सबसे आगे ब्रजेश पांडे का नाम है, जिन पर महिलाओं के खिलाफ अपराध और दुष्कर्म के आरोप तक लग चुके हैं। इसे लेकर कांग्रेस के नेताओं ने ही मुखरता से पांडे का विरोध किया था।

बताया गया है कि हरनौत, सुल्तानगंज, हिसुआ और टेकरी विधानसभा सीटों से उम्मीदवारों का ऐलान भी इसी कारण से रोका गया है।

यह भी पढ़ें : उत्तर प्रदेश : मौसेरे भाई की हैवानियत की शिकार बेटी ने तोड़ा दम

यह भी पढ़ें : कोरोना को लेकर ट्रंप ने ऐसा क्या लिखा कि फेसबुक और ट्विटर को लेना पड़ा एक्शन

पिछले कुछ सालों में राजनीति की शुचिता में बहुत गिरावट आई है। राजनीतिक दलों को न तो बाहुबलियों से परहेज है और ही महिलाओं के खिलाफ आपराधिक केस वाले नेताओं से। चुनाव जीतने के लिए वह किसी को भी गले लगा लेती है।

कांग्रेस के फैसले पर वरिष्ठ पत्रकार सुरेन्द्र दुबे कहते हैं कि यदि बिहार में कांग्रेस साफ-सुथरी छवि वाले प्रत्याशियों को ही टिकट देने का सोच रही है तो यह राजनीति के बदलाव का संकेत है। इससे आने वाले समय में अन्य राजनीतिक दलों पर दबाव बनेगा यह कदम उठाने के लिए।

यह भी पढ़ें : तो इस वजह से आधी रात को हाथरस पीड़िता का अंतिम संस्कार किया

यह भी पढ़ें : हाथरस मामले में यूएन ने क्या कहा?

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com