Wednesday - 1 February 2023 - 3:54 PM

कब सुधरेगी यूपी के जेलों की हालत

 

न्यूज डेस्क

देश की जेलों की दुर्व्यवस्था पर लगातार चिंता जतायी जा रही है, लेकिन कोई सुधार नहीं हो रहा है। देशभर की जेलों में क्षमता से अधिक कैदियों के मौजूद होने की समस्या बनी हुई है। राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरों ने भी देश की जेलों की स्थिति का खुलासा किया है।

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के नए आंकड़ों अनुसार वर्ष 2015-2017 के दौरान भी जेल में क्षमता से अधिक कैदी थे। इस अवधि में कैदियों की संख्या में 7.4 प्रतिशत का इजाफा हुआ, जबकि समान अवधि में जेल की क्षमता में 6.8 प्रतिशत वृद्धि हुई।

बीते दिनों एनसीआरबी की जारी रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है। 2015 से 2017 के आंकड़ों को इस रिपोर्ट में शामिल किया गया है।

सांकेतिक तस्वीर

रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2017 के अंत में देश भर की 1,361 जेलों में 4.50 लाख कैदी थे। इस तरह सभी जेलों की कुल क्षमता से करीब 60,000 अधिक कैदी थे।

रिपोर्ट के मुताबिक, जेल में सबसे ज्यादा भीड़-भाड़ उत्तर प्रदेश में है जबकि सभी राज्यों की तुलना में यहां सबसे ज्यादा जेल की क्षमता है। उत्तर प्रदेश की जेलों में सबसे ज्यादा कैदी भी हैं।

उत्तर प्रदेश में कुल 70 जेल हैं, जिनमें 58,400 कैदी रह सकते हैं, लेकिन 2017 के अंत में यहां 96,383 कैदी थे।

रिपोर्ट में कहा गया है कि जेलों में कैदियों के रहने की क्षमता 2015 में 3.66 लाख से बढ़कर 2016 में 3.80 लाख और 2017 में 3,91,574 होने के बावजूद कैदियों की संख्या पार कर गई। इस अवधि में जेलों की क्षमता में 6.8 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।

जेल की क्षमता में बढोतरी के बावजूद कैदियों की संख्या 2015 में 4.19 लाख से 2016 में 4.33 लाख और 2017 में 4.50 लाख हो गयी। इस तरह 2015-17 में 7.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

जेल में कैदियों के रहने की क्षमता की तुलना में कैदियों की संख्या बढऩे के कारण जेल में रिहाइश दर 2015 में 114.4 प्रतिशत से बढ़कर 2017 में 115.1 हो गई।

एनसीआरबी के अनुसार, 2017 के अंत तक विभिन्न जेलों में 4.50 लाख कैदी थे। इनमें 431823 पुरुष और 18873 महिलाएं थीं।

यह भी पढ़ें : दिल्ली में घर बैठे वोट दे सकेंगे बुजुर्ग और दिव्यांग

यह भी पढ़ें : किसकी प्रताड़ना की वजह से बच्चियों ने छोड़ा स्कूल

यह भी पढ़ें : नीरव मोदी ने क्यों दी आत्महत्या की धमकी

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com