Monday - 6 February 2023 - 8:40 AM

दिल्ली में घर बैठे वोट दे सकेंगे बुजुर्ग और दिव्यांग

न्यूज डेस्क

दिल्ली में 2020 में विधानसभा चुनाव होना है। राजनीतिक दलों के साथ-साथ चुनाव आयोग ने भी तैयारी के लिए कमर कस ली है। इस बार चुनाव आयोग बहुत ही हाइटेक तरीके से चुनाव कराने जा रही है। आयोग का एकमात्र मकसद है कि ज्यादा से ज्यादा वोट पड़े। इसलिए आयोग मतदाताओं को कई सुविधाएं देने जा रहा है।

बहुत बुजुर्ग और दिव्यांगों के लिए मतदान केन्द्र तक जाना आसान नहीं होता। सुविधाओं के अभाव में ऐसे लोग मतदान नहीं कर पाते। फिलहाल इस बार दिल्ली विधानसभा चुनाव में ऐसे लोगों को मतदान केन्द्र तक जाने की जरूरत नहीं है। चुनाव आयोग उनकी सुविधा का ख्याल रखते हुए ऐसे लोगों के लिए घर से मतदान करने की सुविधा देने जा रहा है।

 

इस बार दिल्ली में रहने वाले 80 साल और इससे ऊपर के बुजुर्गों और दिव्यांग मतदाताओं को अगामी विधानसभा चुनावों में मतदान के लिए मतदान केंद्रों पर जाने की जरूरत नहीं होगी। चुनाव आयोग ने ऐसे मतदाताओं के सुविधा के लिए इस बार पोस्टल बैलेट पेपर से मतदान करने का फैसला किया है।

इसके अलावा दिल्ली के करीब 1.44 करोड़ मतदाता विधानसभा चुनाव में घर बैठे यह जान सकेंगे कि उनके नजदीकी मतदान केंद्र पर कितनी लंबी लाइन है और अब तक कितने लोगों ने मतदान किया।

दिल्ली चुनाव आयोग के मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉक्टर रणबीर सिंह के अनुसार, वोटर वेरिफिकेशन कार्यक्रम शत प्रतिशत पूरा होने के बाद 4 नवंबर को चुनाव आयोग की एक हाई लेवल टीम आई थी, जिसमें आयोग के सीनियर डिप्टी इलेक्शन कमिश्नर, इलेक्शन एक्सपेंडेचर मॉनेटरिंग टीम के डीजी, मीडिया मैनेजमेंट और आईटी डायरेक्टर शामिल थे। वरिष्ठ अधिकारियों ने दिल्ली के सभी डिप्टी इलेक्शन अफसर, पुलिस अधिकारियों व बाकी विभागों के अफसरों के साथ मीटिंग की।

 मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि मीटिंग में मौजूद चुनाव आयोग के अफसरों ने बताया कि 80 साल के बुजुर्गों और दिव्यांगों के नाम वोटर लिस्ट में गंभीरता से हाईलाइट व वेरिफाई करने को कहा। उन्होंने बताया कि मतदाताओं के लिए एक नया ऐप भी इस बार लॉन्च किया जाएगा। ऐप का नाम होगा बूथ ऐप। इस ऐप से कोई भी मतदाता घर बैठे यह पता कर सकता है कि उसके नजदीकी मतदान केंद्र पर कितनी लंबी लाइन है और कितने लोगों ने अबतक मतदान किया है।

सभी मतदान केंद्रों पर इस बार अगर कोई मतदान करने जाता है, तो हेल्प डेस्क के पास ही उसका फोटो पहचान पत्र स्कैन कर लिया जाएगा। इससे ऐप पर यह पता चलेगा कि कोई व्यक्ति वोट डालने गया है। इसके बाद मतदान करने के बाद उसके फोटो पहचानपत्र को स्कैन किया जाएगा, जिससे ऐप पर पता चलेगा कि उस व्यक्ति ने मतदान कर दिया है। उक्त मतदान केंद्र पर रजिस्टर्ड जितने मतदाता है, उसमें से कितने ने मतदान किया, इसका लाइव पता चलेगा ऐप पर।

यह भी पढ़ें : नीरव मोदी ने क्यों दी आत्महत्या की धमकी

यह भी पढ़ें : गुजरात सरकार ने सीएम के लिए खरीदा 191 करोड़ का विमान

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com