Monday - 27 September 2021 - 12:47 AM

चिराग ने बीजेपी आलाकमान को क्या याद दिलाया?

जुबिली न्यूज डेस्क

अपने ही चाचा की बगावत से राजनीतिक मझधार में फंसे एलजेपी सांसद चिराग पासवान को कोई राह नहीं सूझ रहा है। चाचा पशुपति पारस के वार से घायल चिराग ने अब बीजेपी आलाकमान को कुछ याद दिलाया है।

चिराग पासवान ने बीजेपी आलाकमान को याद दिलाया है कि जब नीतीश कुमार ने एनडीए छोड़ दिया था तब भी उनकी पार्टी एलजेपी एनडीए में ही थी।

दरअसल पिता राम बिलास पासवान की मौत के बाद केंद्रीय कैबिनेट में अपनी जगह तय मान रहे चिराग की उम्मीदों को चाचा की अगुवाई में हुई बगावत से बड़ा झटका लगा है।

यह भी पढ़ें : पंजाब कांग्रेस में नहीं थम रहा विवाद, सिद्धू ने दिखाए तेवर

यह भी पढ़ें :  संसद के मानसून सत्र में कुछ बड़ा करने की तैयारी में है कांग्रेस

अब चिराग पासवान को यह डर है कि उनका मंत्री पद कहीं चाचा को न चला जाए और साथ ही नीतीश कुमार की जेडीयू अगर अधिक मंत्री पद पाने में सफल रही तो यह उनके सियासी करियर के लिए बड़ा झटका होगा। वहीं इस बीच, नीतीश कुमार दिल्ली पहुंच गए हैं।

‘दलित विरोधी हैं नीतीश कुमार’ 

एनडीटीवी से बातचीत में चिराग पासवान ने सीएम नीतीश कुमार पर दलित विरोधी मानसिकता रखने का भी आरोप लगाया और कहा कि वह अपनी पार्टी में भी दलितों के साथ गलत व्यवहार करते हैं।

चिराग ने कहा कि उन्होंने जीतन राम मांझी से सत्ता छीन ली थी। मैं नीतीश कुमार के असली चेहरे को उजागर करूंगा और बिहार के दलितों को इस बारे में बताऊंगा।

चिराग पासवान अगले महीने ‘आशीर्वाद यात्रा’  निकालने जा रहे हैं और यह यात्रा बिहार के सभी विधानसभा क्षेत्रों से होकर जाएगी।

चिराग ने कहा कि इस बात पर भरोसा करना बेहद मुश्किल है कि एलजेपी में हुई इस बगावत का भाजपा के बड़े नेताओं को पता नहीं रहा होगा।

पशुपति पारस के एलजेपी संसदीय दल का नेता चुने जाने को लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने जिस तरह तुरंत सहमति दी है, उससे भी लगता है कि इस खेल में कहीं न कहीं भाजपा शामिल है।

यह भी पढ़ें :  धर्मांतरण मामले में सख्त हुई योगी सरकार

यह भी पढ़ें :   तीसरे मोर्चे के गठन के अटकलों के बीच आई सफाई

नीतीश का बदला

लोक जनशक्ति पार्टी में हुई इस टूट को नीतीश कुमार के द्वारा लिया गया सियासी बदला भी माना जा रहा है क्योंकि चिराग ने विधानसभा चुनाव 2020 में नीतीश को हराने के लिए पूरा जोर लगा दिया था और पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद जेडीयू ने इस बात की तसदीक भी की थी।

चुनाव के दौरान चिराग ने ख़ुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हनुमान भी बताया था।

एनडीटीवी से बातचीत में चिराग पासवान ने कहा, “इस बात को नहीं भूला जाना चाहिए कि हमने 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी का नाम घोषित किए जाने के बाद भी उनसे हाथ मिलाया था जबकि उनके पुराने साथी नीतीश ने उन्हें छोड़ दिया था और ये पासवान वोटर्स ही थे जिन्होंने साथ दिया था।”

वहीं चिराग की कोशिश है कि पिता की राजनीतिक विरासत उन्हें ही मिले, लेकिन जितनी बड़ी टूट एलजेपी में हुई है, उसमें वह अकेले तो पड़ ही गए हैं। उन्हें दिखाना होगा कि वह सियासी दम-खम वाले नेता हैं।

पारस बोले- बनूंगा मंत्री

केंद्रीय कैबिनेट के इस महीने संभावित विस्तार में यह माना जा रहा है कि पशुपति पारस केंद्र सरकार में मंत्री बन सकते हैं। एलजेपी के सांसद पशुपति पारस ने ख़ुद ही इस बात के संकेत दिए हैं।

पारस ने कुछ दिन पहले पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा था कि जिस दिन वे मंत्री बन जाएंगे संसदीय दल के नेता के पद से इस्तीफ़ा देकर अपने किसी दूसरे साथी को नेता बनाएंगे। इससे साफ है कि पारस की बीजेपी आलाकमान से डील हो चुकी है।

यह भी पढ़ें : राज्यपाल धनखड़ का खुलासा, कहा- ममता ने रात में…

यह भी पढ़ें :  केजरीवाल का ऐलान, पंजाब में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार सिख ही होगा

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com