Tuesday - 30 November 2021 - 8:03 PM

सिगरेट-बीड़ी पीने वालों के साथ रहने से मर जाते हैं हर साल दो लाख लोग

जुबिली न्यूज़ ब्यूरो

लखनऊ. बाल अधिकारों की रक्षा के राष्ट्रीय आयोग ( National commission for protection of child rights) के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो, खुदरा बिक्रेताओं के अंग्थान के प्रतिनिधि, वैश्विक और स्थानीय विशेषज्ञों ने भारत सरकार से मांग की है कि भारत में राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण क़ानून को मज़बूत बनाया जाए. तम्बाकू बिक्री की वैधानिक आयु 18 से बढ़ाकर 21 साल कर दी जाए ताकि युवाओं को तम्बाकू सेवन से बचाया जा सके.

भारत सरकार से यह भी मांग की गई है कि तम्बाकू के प्रचार और संवर्धन पर व्यापक प्रतिबन्ध लगाया जाए. सिगरेट और बीड़ी की खुली बिक्री प्रतिबंधित की जाये. इन प्रतिबंधों से बच्चो और युवाओं में तम्बाकू का उपयोग कम किया जा सकेगा.

भारत में तम्बाकू उत्पादों के विज्ञापन पर रोक न होने की वजह से युवाओं में तम्बाकू सेवन को प्रभावी ढंग से रोका नहीं जा पा रहा है. साल 2003 में बने विनियमन अधिनियम में सिगरेट और अन्य तम्बाकू उत्पादों के विज्ञापन प्रतिबंधित किये जाने की बात कही गई मगर सिगरेट और बीड़ी की खुली बिक्री ने उसे बच्चो की पहुँच तक आसान बना दिया.

केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मांडविया द्वारा हाल में जारी किये गए ग्लोबल यूथ टुबैको सर्वे से पता चलता है कि भारत में 13 से 15 साल की उम्र के बीच के 20 फीसदी छात्र तम्बाकू उत्पादों का इस्तेमाल कर रहे हैं. छात्रों के देशव्यापी सर्वे से पता चला कि 38 फीसदी छात्र सिगरेट, 47 फीसदी बीड़ी और 52 फीसदी बिना धुएं वाली तम्बाकू का इस्तेमाल करते हैं.

प्रियांक कानूनगो का स्पष्ट मानना है कि अगर कोई व्यक्ति 21 साल की उम्र तक तम्बाकू से दूर रह ले तो बहुत संभव है कि वह जीवन भर तम्बाकू से दूर रह सकता है. उन्होंने बताया कि दुनिया के कई देशों ने तम्बाकू उत्पादों की बिक्री के लिए वैधानिक आयु बढ़ाकर 21 साल कर दी है. खुली सिगरेट की बिक्री प्रतिबंधित की गई है. 21 साल की उम्र तक तम्बाकू आदत में नहीं आती है तो इससे खुद को बचाना आसान हो जाता है.

उन्होंने बताया कि कई देशों ने अपने सर्वे में यह पाया है कि तम्बाकू की आदत ज़्यादातर किशोरवय में ही पड़ जाती है. तम्बाकू खरीदने की न्यूनतम उम्र कर दी जायेगी तो कम लोगों को तम्बाकू की आदत पड़ेगी और तम्बाकू की वजह से मरने वालों की तादाद बहुत कम हो जायेगी.

इथोपिया, गुआम, होंडुरास, जापान, कुवैत, मंगोलिया, पलाऊ, फिलीपींस, सामोआ, सिंगापुर, श्रीलंका, थाईलैंड, युगांडा और अमेरिका ने तम्बाकू उत्पाद खरीदने की न्यूनतम आयु 18 साल कर दी है. 86 देशों ने खुली सिगरेट बेचने पर प्रतिबन्ध लगा दिया है.

उत्तर प्रदेश व्यापार मंडल के अध्यक्ष संजय गुप्ता ने बताया कि हम खुदरा बिक्रेताओं को संवेदनशील बना रहे हैं कि वह बच्चो को तम्बाकू उत्पाद न बेचें. उन्होंने कहा कि भारत में तम्बाकू और इसके उत्पादों की बिक्री प्रतिबंधित करने से एक बड़ा बदलाव आएगा.

यह भी पढ़ें : अखिलेश ने भरी हुंकार झूठ बोलने वाली पार्टी का सत्ता वापसी का रास्ता बंद

यह भी पढ़ें : एक करोड़ के लालच में उजाड़ दिया बहन का सुहाग

यह भी पढ़ें : गंगा-जमुना में लाशें बहाने वाली सरकार को जनता उखाड़ फेंकेगी

यह भी पढ़ें : डंके की चोट पर : जिन्दा हूँ हक़ ले सकता हूँ

भारत में तम्बाकू का इस्तेमाल करने वालों की संख्या दुनिया में दूसरे नम्बर पर है. 13 लाख लोग हर साल तम्बाकू के इस्तेमाल की वजह से मर जाते हैं. 10 लाख लोगों की मौतें धूम्रपान की वजह से होती हैं. दो लाख लोगों की मौतें दूसरों की सिगरेट और बीड़ी के धुएं की वजह से मौत होती है. 35 हज़ार लोगों की मौत तम्बाकू के सेवन से होती है.

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com