Wednesday - 28 September 2022 - 9:00 AM

श्मशान घाट पहुंचा राजू श्रीवास्तव का पार्थिव शरीर, उनके भाई काजू…

जुबिली न्यूज डेस्क

कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव ने बुधवार की सुबह करीब सवा दस बजे इस दुनिया को अलविदा कह दिया। अपनी कॉमेडी से सभी को हंसाने वाले राजू ने जाते-जाते सभी को रुला दिया। राजू श्रीवास्तव का पार्थिव शरीर श्मशान घाट पहुंच गया है। राजू श्रीवास्तव के शव के पास जनसैलाब जमा है जिनके आंखों में आंसू हैं। वहीं आस पास में मौजूद लोग नारे लगा रहे हैं- ‘जब तक सूरज चांद रहेगा, राजू श्रीवास्तव का याद रहेगा।’ राजू श्रीवास्तव के अंतिम दर्शन में जमावड़ा लगा है। सिनेमाई सितारों से लेकर राजनीति जगत से जुड़े लोग भी श्मशान घाट पहुंचे हैं।

निगमबोध श्मशान घाट ले जाया जा रहा राजू का शव

 कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव के पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए निगमबोध श्मशान घाट ले जाया जा रहा है। एंबुलेंस में राजू का पार्थिव शरीर है, जबकि साथ में उनके फैन्स व चाहने वाले मौजूद हैं। राजू की अंतिम यात्रा में उनके चाहने वालों की आंखें नम हैं। राजू के अंतिम दर्शन के लिए सैलाब उमड़ा है।

राजू के अंतिम संस्कार में नहीं पहुंचेंगे उनके भाई काजू

काजू अपने भाई राजू श्रीवास्तव के अंतिम संस्कार का हिस्सा नहीं बन सकेंगे. काजू अभी कानपुर में हैं। काजू बीमार हैं। उनकी पत्नी भी प्रेग्नेंट हैं। काजू को देखने ही राजू दिल्ली गए थे। दिल्ली के इसी दौरे पर राजू को कार्डियक अरेस्ट आया था। फिर अस्पताल में 42 दिन इलाज के बाद कॉमेडियन ने दम तोड़ा. मालूम हो, काजू और राजू दोनों ही एम्स में एडमिट रहे थे। कानपुर में काजू के घर के बाहर लोगों की भीड़ इकट्ठा है। सभी काजू से मिलकर उन्हें संवेदनाएं दे रहे हैं।

ये भी पढ़ें-NIA ने 11 राज्यों में PFI के ठिकानों पर की छापेमारी, 106 गिरफ्तार

अंतिम सफर पर निकले राजू

राजू श्रीवास्तव का परिवार और करीबी लोग बस कुछ ही देर में दिल्ली के निगमबोध घाट पहुंचने वाले हैं। कॉमेडियन के द्वारका के घर (दशरथपुरी) से उनकी अंतिम यात्रा निकल चुकी है। एंबुलेंस में राजू का पार्थिव शरीर रखा गया है. गाड़ी को फूलों से सजाया गया है। गाड़ी पर कॉमेडियन की हंसती मुस्कुराती तस्वीर लगाई गई है. फैंस राजू के अंतिम दर्शन के लिए उमड़े हैं। हर किसी की आंखें नम हो रही हैं। फैंस फोन से राजू की तस्वीरें लेने की कोशिश करते दिखे।

ये भी पढ़ें-इसलिए रुपया अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंचा

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com