Wednesday - 18 May 2022 - 8:25 AM

…तो दिल्ली में आ चुकी है कोरोना की पीक

जुबिली न्यूज डेस्क

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शनिवार को कहा कि दिल्ली में कोरोना का पीक आने के बाद अब मामलों में कमी आनी शुरू हो गई है।

उन्होंने कहा कि दिल्ली में कल कोरोना के मामले परसों की तुलना में साढ़े 4 हजार कम आए थे। दिल्ली में कोरोना के मामले पीक पर हैं, लेकिन कल से मामले में गिरावट आ रही है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि राजधानी में कोविड के मामलों में 4,000 की कमी होने की उम्मीद है। पॉजिटिविटी रेट लगभग 30 फीसदी होगा।

उन्होंने कहा कि पिछले 5-6 दिनों में अस्पताल में भर्ती होने की दर नहीं बढ़ी है। यह इस बात का संकेत है कि आने वाले दिनों में मामले और कम होने वाले हैं।

जैन ने कहा कि अस्पतालों में 85 फीसदी बेड खाली हैं। उन्होंने कहा कि मामलों का पीक आ गया है, देखते हैं कब गिरावट शुरू होती है। लगता है मामलों की रफ्तार धीमी पडऩे लगी है।

इससे पहले शुक्रवार को सत्येंद्र जैन ने कहा था कि दिल्ली में कोरोना की मौजूदा लहर में जान गंवाने वाले 75 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जिन्होंने टीके नहीं लगवाए थे।

यह भी पढ़ें : प्रियंका चोपड़ा का अब तक सबसे ग्लैमरस फोटोशूट, आपने देखा क्या

यह भी पढ़ें : UP चुनाव से पहले इन तस्वीरों के क्या हैं मयाने?

यह भी पढ़ें :  UP Election : चंद्रशेखर ने बताया क्यों नहीं हुआ सपा से उनका गठबंधन

उन्होंने यह भी कहा था कि स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, 9 जनवरी से 12 जनवरी के बीच जिन 97 लोगों की मौत संक्रमण से हुई, उनमें से 70 लोगों का टीकाकरण नहीं हुआ था, जबकि 19 ने टीके की पहली खुराक ली थी। वहीं, आठ का पूर्ण टीकाकरण हो चुका था। उनके अलावा सात नाबालिग थे।

यह भी पढ़ें : योगी अयोध्या से लड़ें या मथुरा से उनके मुकाबले खड़ी होगी शिवसेना

यह भी पढ़ें : कितना काम आएगा डैमेज कंट्रोल में जुटी भाजपा का ये प्लान !

यह भी पढ़ें : नहीं रहा पत्रकारिता का कमाल

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना के कारण जान गंवाने वाले 75 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जिन्होंने टीके की एक खुराक भी नहीं ली थी। 90 प्रतिशत मरीजों को कैंसर और गुर्दे संबंधी गंभीर बीमारियां थीं। यहां तक कि 18 साल से कम उम्र के सात मरीजों को भी पहले से कोई बीमारी थी।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com