राष्ट्र भक्त युवा या डिग्री धारक युवा : क्या राष्ट्रीय गौरव न्यूनतम 36% ही होना चाहिए?

प्रो. अशोक कुमार 

बात गोरखपुर की है। मैं एक बार एक सांस्कृतिक संध्या में गया हुआ था। सांस्कृतिक संध्या में मेरे साथ में एक माननीय सांसद जी बैठे हुए थे।

हम सभी लोग मुख्य अतिथि का इंतजार कर रहे थे, उनकी प्रतीक्षा कर रहे थे। लेकिन इसी बीच वर्षा आ गई, पानी बरसने लगा और मुख्य अतिथि की यात्रा में देर से आने की सूचना मिली।

तभी मेरे मन में ख्याल आया, मैंने साथ में बैठे माननीय सांसद जी से एक प्रश्न किया कि आपको भविष्य में या देश को भविष्य में डिग्री धारक युवक चाहिए या राष्ट्रभक्त युवा चाहिए। माननीय सांसद जी ख़ामोश थे। मैंने उनसे फिर वही प्रश्न किया। कुछ देर के लिए खामोशी छायी रही।

सांकेतिक तस्वीर .

तब मैंने उनको कहा कि मैं गोरखपुर विश्वविद्यालय में 24 घंटे में यह बता सकता हूं की अमुक विद्यार्थी डिग्री धारक युवा है या यह विद्यार्थी राष्ट्रभक्त युवा है।

इस बात पर माननीय सांसद जी ने कहा की यह कैसे संभव हो सकता है। मैंने उनको कहा कि गोरखपुर विश्वविद्यालय में एक प्रश्न पत्र है, एक विषय है जिसका नाम है राष्ट्रीय गौरव।

विद्यार्थी को स्नातक की डिग्री तब ही मिलती है जब वह राष्ट्रीय गौरव के विषय मे पास हो जाता है अन्यथा नहीं। इस राष्ट्रीय गौरव में विद्यार्थियों को पास होने के लिए तीन अवसर मिलते हैं। पास होने के लिए केवल न्यूनतम 36फीसदी ही चाहिए।

सबसे मुख्य बात यह है की क्या युवा मे राष्ट्रीय गौरव न्यूनतम 36 फीसदी ही होना चाहिए। मैं तो चाहता हूं कि सभी युवा वर्ग मे राष्ट्रीय गौरव 100 प्रतिशत हो।

शांत-शांत वातावरण। मैंने अपनी बात को फिर आगे कहा की यह अंक जो भी उसको प्राप्त होते हैं वह उस विद्यार्थी के पूर्ण प्राप्तांक में नहीं जुड़ते। इसलिए कोई भी विद्यार्थी इसको बहुत प्रमुखता नहीं देता है।

यह भी पढ़ें : ज्ञानवापी के बाद अब मथुरा ईदगाह के सर्वे की मांग, 1 जुलाई को होगी सुनवाई

यह भी पढ़ें : मनीष सिसोदिया ने BJP पर लगाया गंभीर आरोप, कहा-दिल्ली में 63 लाख घरों को तबाह…

यह भी पढ़ें :  कल से शुरु होगा ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे, डीएम ने की शांति बनाए रखने की अपील

सांकेतिक तस्वीर .

 

दुर्भाग्य से अध्यापकों की कमी होने के कारण इस विषय की कक्षा भी नहीं होती। कोई निश्चित पाठ्यक्रम भी नहीं है। यदि आपका आदेश मिल जाए तो कल को मै एक आदेश निकाल दूं कि राष्ष्ट्रीय गौरव विषय के लिए एक ही अवसर दिया जाएगा और राष्ट्रीय गौरव पर जो उत्तीर्ण के अंक होंगे वह 75 प्रतिशत होंगे।

यह भी पढ़ें : भीषण गर्मी में सूख गए तालाब जंगली जानवरों ने किया इंसानी आबादी का रुख

यह भी पढ़ें : सुप्रीम कोर्ट ने सुब्रत राय को दी बड़ी राहत, हाईकोर्ट के आदेश पर लगाई रोक

यह भी पढ़ें : लालू की बड़ी बहू पहुँची हाईकोर्ट, तेज प्रताप को अदालत से मिला नोटिस 

राष्ट्रीय गौरव में जो 75 प्रतिशत अंक नहीं लाएगा वह मुख्य परीक्षा में नहीं बैठ सकता है। इस आदेश के निकलते ही जो राष्ट्र भक्त युवा होंगे वह शांत रहेंगे और शांति बनाए रखेंगें।

राष्ट्र गौरव के प्रश्न पत्र पर गंभीरता से ध्यान देंगे और जो डिग्री धारक होंगे वह कल 24 घंटे के अंदर भूख हड़ताल, धरना प्रदर्शन आदि करने लगेंगे और हो सकता है कि कुछ आगजनी हो, कुलपति के पुतले भी जलाए जाएं। इस प्रयोग से मालूम हो सकता है कि विद्यार्थी राष्ट्रभक्त युवा हैं या डिग्री धारक युवा है।

आपका क्या ख्याल है? क्या आप मेरी बात से सहमत हैं?

(लेखक , पूर्व कुलपति, कानपुर विश्वविद्यालय, कृषि  विश्वविद्यालय कानपुर, गोरखपुर विश्वविद्यालय ,पूर्व कुलपति, निर्वाण विश्वविद्यालय  जयपुर, पूर्व कुलपति श्री कल्लाजी वैदिक विश्वविद्यालय, राजस्थान )

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com