Sunday - 27 November 2022 - 8:52 AM

187 वर्ष के लंबे इंतजार के बाद काशी विश्वनाथ मंदिर में मढ़ा गया सोना

जुबिली न्यूज डेस्क

रविवार को काशी विश्वनाथ मंदिर के इतिहास में एक और स्वर्णिम अध्याय जुड़ गया है। 187 साल के लम्बे इंतजार के बाद मंदिर में सोना मढ़ा गया।

मंदिर के गर्भगृह के अंदर की दीवारों पर 30 घंटे के अंदर सोने की परत लगाई गई। सोना लगने के बाद गर्भगृह के अंदर की पीली रोशनी हर किसी को सम्मोहित कर रही है।

मंदिर प्रशासन के अनुसार मंदिर के गर्भगृह में 37 किलो सोना लगाया गया है। बचे अन्य कार्यों में 23 किलो और सोना लगाया जाएगा।

अद्भुत और अकल्पनीय हो गया बाबा का दरबार

काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भ गृह में चल रहे स्वर्ण मंडन के कार्य के पूर्ण होने के बाद पहली बार पूजा करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस कार्य को देखते हुए कहा कि अद्भुत और अकल्पनीय कार्य हुआ है। स्वर्ण मंडन से भगवान भोले का दरबार एक अलग ही छवि प्रदर्शित कर रहा है।

यह भी पढ़ें :  डंके की चोट पर : बम घरों पर गिरें कि सरहद पर, रूह-ए-तामीर ज़ख़्म खाती है

यह भी पढ़ें :  नेपाल में हिंदू राष्ट्र की बहाली के लिए जरूरी हैं योगी

यह भी पढ़ें :  कौन है यूक्रेन की ‘सबसे खूबसूरत हसीना’ जिसने रूस के खिलाफ उठाई है बंदूक

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रविवार शाम करीब 6 बजे मंदिर परिसर पहुंचे। वह विश्वनाथ द्वार से प्रवेश करने के पश्चात मंदिर परिसर के उत्तरी गेट से गर्भगृह में प्रवेश किए।

मंदिर के अर्चक सत्यनारायण चौबे, नीरज पांडे और श्री देव महाराज ने बाबा का षोडशोपचार पूजन कराया। पूजन के पश्चात मोदी ने बाबा श्री काशी विश्वनाथ से जनकल्याण की कामना की। इसके बाद प्रधानमंत्री ने परिसर के अंदर चारों ओर लगे स्वर्ण के कार्य को देखा।

इस मौके पर मोदी ने कहा कि दीवारों पर उकेरी गई विभिन्न देवताओं की आकृतियां स्वर्णमंडन के बाद और भी स्पष्ट प्रदर्शित हो रही हैं। स्वर्ण मंडन के बाद गर्भ गृह की आभा कई गुना बढ़ गई है।

बताते चले कि साल 1835 में पंजाब के तत्कालीन महाराजा रणजीत सिंह ने विश्वनाथ मंदिर के दो शिखरों को स्वर्णमंडित कराया था। बताया गया कि साढ़े 22 मन सोना लगा था। उसके बाद कई बार सोना लगाने व उसकी सफाई का कार्य प्रस्तावित हुआ, लेकिन अंजाम तक नहीं पहुंचा।

काशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के साथ ही मंदिर के शेष हिस्से व गर्भगृह को स्वर्णजड़ित करने की कार्ययोजना तैयार होने लगी थी। इसी दौरान करीब डेढ़ माह पूर्व बाबा के एक भक्त ने मंदिर के अंदर सोने लगवाने की इच्छा जतायी।

मंदिर प्रशासन की अनुमति मिलने के बाद सोना लगाने के लिए माप और सांचा की तैयारी चल रही थी। करीब माहभर तैयारी के बाद शुक्रवार को सोना लगाने का काम शुरू हुआ।

यह भी पढ़ें : सुपरटेक टावर की उल्टी गिनती शुरू, इस तारीख को होंगे ज़मींदोज़

यह भी पढ़ें : कोर्ट ने माना कि लिएंडर पेस ने गर्लफ्रेंड के साथ की हिंसा

यह भी पढ़ें : पोस्टमार्टम के लिए जिन्दा महिला को भेज दिया मर्चुरी

मंदिर प्रशासन की मानें गर्भगृह के अंदर सोना लगाने का काम पूरा होने के बाद अब चारों चौखट से चांदी हटाकर उसपर भी सोने की परत लगायी जाएगी। इसके बाद मंदिर के शिखर के नीचे के बचे हिस्से में भी सोने की प्लेटें लगाई जानी है।

 

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com