दिल्ली विश्वविद्यालय में खुलेगी ‘गौशाला’

जुबिली न्यूज डेस्क

दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रमुख संस्थानों में आईटी शुमार है। ये सरकार के राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क (एनआईआरएफ) के तहत कॉलेजों में 14 वें स्थान पर है। वहीं इस साल हंसराज कॉलेज के बायो में एक नया और अनोखा विभाग जुड़ा है, जो पहले ही चर्चा में आ गया है।

जी हां, यह गाय संरक्षण और अनुसंधान केंद्र है। इसका नाम स्वामी दयानंद सरस्वती गौ-संवर्धन एवं अनुसंधान केंद्र रखा गया है।

अभी फिलहाल केंद्र को एक गाय के साथ शुरू किया गया है। वहीं प्रिंसिपल डॉ. रमा के अनुसार, “यदि शोध उपयोगी और फायदेमंद साबित हुआ तो इसका विस्तार किया जाएगा।”

डॉ. रमा के अनुसार, केंद्र सिर्फ “गाय के विभिन्न पहलुओं पर शोध” नहीं करेगा। यह छात्रों के लिए “शुद्ध दूध और घी” भी प्रदान करेगा, और परिसर में आयोजित मासिक “हवन” (प्रार्थना अनुष्ठान) का भी काम करेगा।

उन्होंने कहा, “हमारा एक डीएवी ट्रस्ट कॉलेज है, और इसका आधार आर्य समाज है। उस परंपरा के अनुरूप, हम हर महीने के पहले दिन हवन करते हैं, जिसमें सभी शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारी और छात्र शामिल हो सकते हैं। उस (हवन) के दौरान, हम उन सभी लोगों का अभिनंदन करते हैं जिनका उस महीने जन्मदिन होता है। इसके लिए हमें हर महीने बाजार में जाकर आग पर चढ़ाने के लिए जरूरी चीजें जैसे शुद्ध घी खरीदना पड़ता है। हम इसमें अब आत्मनिर्भर हो सकते हैं।”

वर्तमान में गाय केंद्र पुरुष छात्रावास के लिए कॉलेज गेट के पास स्थित एक बाड़े में है, लेकिन अभी और गाय आना बाकी है। प्रिंसिपल का कहना है कि कॉलेज एक गोबर गैस प्लांट पर काम कर रहा है, जिसे केंद्र का सहयोग मिल सकता है।

इसके अलावा “हम गाय के विभिन्न पहलुओं पर शोध कर सकते हैं। एक और विचार यह है कि जब छात्रावास खुलेगा तो छात्रों को शुद्ध दूध और शुद्ध दही मिल सकता है।”

वहीं डीयू के अधिकारियों को यकीन नहीं है कि यूनिवर्सिटी के अन्य कॉलेजों में भी ऐसी ही पहल मौजूद है या नहीं। रजिस्ट्रार विकास गुप्ता ने कहा, “मुझे इस विशेष परियोजना के बारे में पता भी नहीं था। यह कॉलेज के स्तर पर एक पहल होनी चाहिए।” लेकिन सब लोग परिसर पर ही निर्भर नहीं हैं।

यह भी पढ़ें :   रेलवे भर्ती आंदोलन : जांच के लिए गठित हुई समिति

यह भी पढ़ें :  रूस ने यूक्रेन पर हमला किया तो पुतिन पर प्रतिबंध लगा सकता है अमेरिका  

यह भी पढ़ें :  चीनी टेनिस खिलाड़ी शुआई के समर्थन वाली टी-शर्ट पर लगा बैन हटा

वहीं सीपीआई (एम) के स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) की हंसराज कॉलेज इकाई ने आरोप लगाया है कि एक महिला छात्रावास के लिए निर्धारित भूमि पर गाय केंद्र स्थापित किया गया है। कॉलेज में वर्तमान में केवल एक पुरुष छात्रावास है।

यह भी पढ़ें :   गणतंत्र दिवस : पीएम, गृहमंत्री, राहुल गांधी समेत तमाम नेताओं ने दी शुभकामनाएं

यह भी पढ़ें :  शशि थरूर का तंज, कहा-कांग्रेस युक्त भाजपा, उधर भी सब…

यह भी पढ़ें :  रायबरेली : जहरीली शराब पीने से महिला समेत 6 लोगों की मौत

एसएफआई ने अपने बयान में कहा है, “एसएफआई महिला छात्रावास की जगह पर गौशाला निर्माण की बिना शर्त निंदा और विरोध करता है। वर्षों से महिला छात्रावास का काम रूका हुआ है। हमें यह घृणित लगता है कि हमारा कॉलेज प्रशासन संघर्षरत छात्राओं के बजाय गायों के ‘संरक्षण और पदोन्नति’  को प्राथमिकता देता है। ”

वहीं प्रिंसिपल डॉ. रमा ने एसएफआई के आरोप से इनकार किया है। उन्होंने कहा, “सबसे पहले, वह क्षेत्र एक हॉस्टल की हमारी योजना के लिए बहुत छोटा है, जिसमें कम से कम 100 छात्रों को समायोजित किया जाएगा। वह स्थान छात्रावास के लिए आरक्षित नहीं है। हम छात्रावास के निर्माण के लिए कई औपचारिकताओं से गुजर रहे हैं और कॉलेज के मास्टरप्लान पर फिर से काम कर रहे हैं, जिसे नगर निगम द्वारा अनुमोदित करने की आवश्यकता होगी।”

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com