Sunday - 27 November 2022 - 8:00 AM

Lulu Mall में नमाज मामले पर भड़के सीएम योगी, दिए ये सख्त आदेश

जुबिली न्यूज डेस्क

लखनऊ: यूपी की राजधानी लखनऊ में खुले लुलु मॉल को लेकर विवादों का सिलसिला लगातार बढ़ता जा रहा है। मॉल में नमाज पढ़ने को लेकर हुआ विवाद तूल पकड़ रहा है। आए दिन नमाज को लेकर नए-नए विवाद सामने आ रहे हैं। इसी कड़ी में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सख्त कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं। सीएम ने कहा कि कानून की धज्जियां उड़ने वालों को बिल्कुल भी माफ नहीं किया जाएगा। उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

लखनऊ प्रशासन को दिए ये सख्त आदेश

बता दे कि उन्‍होंने कहा कि लखनऊ में एक मॉल खुला है। ये मॉल अपने व्‍यावसायिक प्रतिष्‍ठान को लेकर काम कर रहा है। उसको लेकर राजनीतिक का अड्डा बनाना, अनावश्‍यक बयानबाजी जारी करना और उसके नाम पर सड़कों पर प्रदर्शन करके लोगों के आवागमन को बाधित करना।बार-बार लखनऊ प्रशासन द्वारा चेतावनी देने के बावजूद अराजकता पैदा करने और साम्‍प्रदायिक विद्वेष पैदा करने का जो कुत्‍स‍ित प्रयास किया जा रहा है, लखनऊ प्रशासन को इसे बहुत गम्‍भीरता से लेना चाहिए। ऐसी किसी भी शरारत को स्‍वीकार नहीं करना चाहिए। ऐसे तत्‍वों से सख्‍ती से निपटा जाना चाहिए।

पुलिस-प्रशासन सख्त कार्रवाई करें

सीएम ने आदेश दिए हैं कि यातायात बाधित कर सड़कों पर किसी प्रकार के धार्मिक क्रियाकलाप की अनुमति नहीं दी जाए। साथ ही धार्मिक जुलूसों या यात्राओं में किसी भी प्रकार के अस्त्रत्त्-शस्त्रत्त् का प्रदर्शन नहीं किया जाएगा। इसका उल्लंघन करने वालों पर पुलिस-प्रशासन सख्त कार्रवाई करें।मुख्यमंत्री ने सोमवार को मंडल, रेंज, जोन और जनपद में तैनात वरिष्ठ प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों के साथ कांवड़ यात्रा के सुगम व शांतिपूर्ण आयोजन, स्वतंत्रता सप्ताह के सफल आयोजन के संबंध में दिशा-निर्देश दिए।वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से हुई इस विशेष बैठक में मुख्यमंत्री ने आईजीआरएस, जनता दर्शन और सीएम हेल्पलाइन पर प्राप्त शिकायतों के थाना, तहसील व जिला स्तर की रैंकिंग के अनुसार अधिकारियों को कार्यप्रणाली को बेहतर करने के निर्देश भी दिए।

ये भी पढ़ें-आप नेता संजय सिंह ने पीएम मोदी को लेकर कह दी ऐसी बात, जिसे जानकर….

जन हित  को लेकर कही ये बात

सीएम ने कहा कि तहसीलों, प्राधिकरणों आदि जन हित से सीधे जुड़ाव रखने वाले कार्यालयों में हर दिन एक घंटे की अवधि जनसुनवाई के लिए नियत है। इस अवधि में अधिकारी जनता से मिलें, शिकायतें-समस्याएं सुनें और मेरिट पर निस्तारण करें। सीएम ने कहा कि कानून को तोड़ने वाले को माफ नहीं किया आएगा।

ये भी पढ़ें-PIB के तीन अफसरों के खिलाफ दिल्ली में पत्रकार क्यों कर रहे प्रदर्शन?

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com