Wednesday - 26 February 2020 - 1:37 PM

सिस्टम की धीमी चाल के आगे बौने हुए करोड़ों किसानों के बैंक खाते

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली। देश के पांच करोड़ से अधिक किसानों को अभी भी केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री किसान योजना की तीसरी किस्त के पैसे मिलने का इंतजार है। कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के नये आंकड़ों में यह बात सामने आई है।

छोटे और सीमांत किसानों को प्रत्यक्ष सहायता देने के लिए शुरू की गई इस योजना के तहत सरकार उन्हें 6,000 रुपए वार्षिक की आर्थिक मदद देती है।

एक दिसंबर 2018 से शुरू हुई इस योजना के तहत किसानों को हर चार माह में 2,000-2,000 रुपए की किस्त दी जानी है। आरटीआई में सामने आई जानकारी के अनुसार करीब 2.51 करोड़ किसानों को योजना की दूसरी किस्त भी नहीं मिली है।

ये भी पढ़े: ‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’ ट्रस्ट बनाएगा राम मंदिर, 15 ट्रस्टी में होगा एक दलित सदस्य

वहीं 5.16 करोड़ किसानों को अभी तीसरी किस्त मिलने का इंतजार है। दिसंबर 2018 से नवंबर 2019 के बीच योजना के तहत 9 करोड़ से अधिक किसानों ने पंजीकरण कराया है।

इसमें से 7.62 करोड़ या 84% को योजना की पहली किस्त मिली है। जबकि करीब 6.5 करोड़ किसानों को दूसरी किस्त जारी की गई है। वहीं तीसरी किस्त का लाभ मात्र 3.85 करोड़ किसानों को ही मिला है।

ये भी पढ़े: मोदी को फिर याद आए राम

मंत्रालय ने किसानों के पंजीकरण की अवधि का भी जिक्र किया है। इसके अनुसार दिसंबर 2018 से मार्च 2019 के बीच योजना के तहत कुल 4.74 करोड़ किसानों ने पंजीकरण कराया। इसमें 4.02 करोड़ किसानों को पहली किस्त, 4.02 करोड़ को दूसरी किस्त और 3.85 करोड़ किसानों को तीसरी किस्त का लाभ मिला है।

आरटीआई के जवाब में यह नहीं बताया गया है कि शुरुआत में पंजीकृत करीब 50 लाख किसानों को पहली किस्त का 70 लाख किसानों को दूसरी किस्त का और 90 लाख किसानों को तीसरी किस्त का लाभ क्यों नहीं मिला है।

आंकड़ों के अनुसार पश्चिम बंगाल और सिक्किम में कोई भी किसान इस योजना के तहत पंजीकृत नहीं है और ना ही वहां पर किसी तरह के धन का वितरण हुआ है।

ये भी पढ़े: अयोध्या के रौनाही में सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ जमीन

अप्रैल 2019 से जुलाई 2019 के बीच इस योजना के तहत 3.08 करोड़ किसानों का पंजीकरण किया गया। इसमें 2.66 करोड़ किसानों को पहली और 2.47 करोड़ किसानों को दूसरी किस्त का लाभ मिला है।

ये भी पढ़े: CAA : एएमयू के प्रॉक्टर ने दिया इस्तीफा

आरटीआई के जवाब में यह नहीं बताया गया है कि इस अवधि में पंजीकृत करीब 40 लाख किसानों को पहली और 61 लाख किसानों को दूसरी किस्त का लाभ क्यों नहीं मिला।

हालांकि मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि इस अवधि में पंजीकृत किसान तीसरी किस्त पाने के योग्य नहीं है। इस अवधि में पश्चिम बंगाल, पंजाब और चंडीगढ़ में कोई किसान पंजीकृत नहीं हुआ है। ना ही उनको पहली और दूसरी किस्त का कोई लाभ मिला है।

मंत्रालय ने बताया कि अगस्त 2019 से नवंबर 2019 के बीच करीब 1.19 करोड़ किसानों का पंजीकरण किया गया। इसमें 73.66 लाख किसानों को पहली किस्त का भुगतान किया गया। हालांकि इस अवधि के लिए मान्य पहली किस्त का लाभ 45 लाख किसानों को नहीं मिलने की कोई जानकारी मंत्रालय ने नहीं दी है।

इस अवधि में पंजीकृत किसान दूसरी और तीसरी किस्त पाने की योग्यता नहीं रखते हैं। मंत्रालय से आरटीआई में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से जुड़े कुल किसानों की राज्यवार जानकारी मांगी गई थी।

ये भी पढ़े: क्‍या राम मंदिर से भाजपा का पलड़ा भारी होगा ?

Loading...
English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com