Monday - 12 April 2021 - 12:52 AM

खगोलशास्त्रियों ने खोजा पृथ्वी जैसा एक नया ग्रह

जुबिली न्यूज डेस्क

पृथ्वी के सौरमंडल के पास ही एक नए ग्रह की खोज की गई है। खगोलशास्त्रियों ने इसे एक ‘सुपर-अर्थ’ एक्सोप्लानेट कहा है।

खगोलशात्रियों के मुताबिक नए ग्रह की सतह का तापमान पृथ्वी के सबसे करीबी ग्रह शुक्र से थोड़ा ठंडा है। पृथ्वी से इतर जीवन के सुराग की तलाश में लगे वैज्ञानिकों का कहना है कि पृथ्वी के जैसे ही एक ‘सुपर-अर्थ’ के वातावरण के स्टडी करने का यह अच्छा अवसर है।

वैज्ञानिकों के मुताबिक एक्सोप्लानेट वो ग्रह होते हैं जो पृथ्वी के सौर मंडल के बाहर होते हैं। डीडब्ल्यू के अनुसार जर्मनी के मैक्स प्लैंक खगोलशास्त्र संस्थान के शोधकर्ताओं ने कहा कि ग्लीज 486 बी जीवन की मौजूदगी के लिए एक आशाजनक उम्मीदवार नहीं है क्योंकि वो गर्म और सूखा है। उसकी सतह पर लावा की नदियों के बह रहे होने की भी संभावना है, लेकिन पृथ्वी से उसकी करीबी और उसके भौतिक लक्षण उसे वातावरण के अध्ययन के लिए एक आदर्श उम्मीदवार बनाते हैं।

पृथ्वी और अंतरिक्ष दोनों से काम करने वाली अगली पीढ़ी की दूरबीनों की मदद से यह अध्ययन किया जा सकता है। नासा भी इस साल जेम्स वेब अंतरिक्ष टेलिस्कोप को शुरू करने वाली है। इसकी सहायता से वैज्ञानिक ऐसी जानकारी निकाल सकेंगे जिससे दूसरे एक्सोप्लानेटों के वातावरणों को समझने में मदद मिलेगी।

वैज्ञानिकों के अनुसार इनमें ऐसे ग्रह भी शामिल हो सकते हैं जहां जीवन के मौजूद होने की संभावना हो। विज्ञान की पत्रिका साइंस में छपे इस शोध के मुख्य लेखक ग्रह वैज्ञानिक त्रिफोनोव का कहना है कि इस एक्सोप्लानेट का “वातावरण संबंधी जांच करने के लिए सही भौतिक और परिक्रमा-पथ संबंधी विन्यास होना चाहिए।”

‘सुपर-अर्थ’ क्या है?

सुपर-अर्थ एक ऐसा एक्सोप्लानेट होता है जिसका मॉस हमारी पृथ्वी से ज्यादा हो मगर हमारे सौर मंडल के बर्फीले जायंट वरुण ग्रह यानी नेप्चून और अरुण ग्रह यानी यूरेनस से काफी कम हो। ग्लीज 486 बी का घन पृथ्वी से 2.8 गुना ज्यादा है और यह हमसे सिर्फ 26.3 प्रकाश वर्ष दूर है।

ये भी पढ़े :  तेल की बढ़ती कीमतों पर वित्त मंत्री ने क्या कहा?

ये भी पढ़े :  कोरोना : नेसल वैक्सीन आखिर क्यों है कारगार

यह एक ‘सुपर-अर्थ’ है जिसकी खोज 2009 में हुई थी.

इसका मतलब यह कि यह ग्रह ना सिर्फ पृथ्वी के पड़ोस में है, बल्कि यह हमारे सबसे करीबी एक्सोप्लानेटों में से है। हालांकि त्रिफोनोव ने यह भी कहा, “ग्लीज 486 बी रहने लायक नहीं हो सकता है, कम से कम उस तरह से तो बिल्कुल भी नहीं जैसे हम पृथ्वी पर रहते हैं। अगर वहां कोई वातावरण है भी तो वो छोटा सा ही है।”

डीडब्ल्यू के अनुसार तारा-भौतिकविद और इस रिसर्च के सह-लेखक होसे काबालेरो ने कहा, “हमारा मानना है कि ग्लीज 486 बी तुरंत ही एक्सोप्लानेटों के अध्ययन का रोसेटा पत्थर बन जाएगा, कम से कम पृथ्वी जैसे ग्रहों के लिए तो बिल्कुल ही। रोसेटा पत्थर वो प्राचीन पत्थर है जिसकी मदद से विशेषज्ञों ने मिस्र की चित्रलिपियों को समझा था।

वैज्ञानिक अभी तक 4,300 से भी ज्यादा एक्सोप्लानेटों की खोज कर चुके हैं। कुछ वृहस्पति यानी जुपिटर जैसे बड़े गैस के ग्रह निकले तो कुछ और ग्रहों को पृथ्वी की तरह चट्टानों की सतह वाला पाया गया, जहां जीवन के होने की संभावना होती है।

ये भी पढ़े : बेरोजगारी से निपटने के लिए खट्टर सरकार ने निकाला ये रास्ता 

ये भी पढ़े : ‘मेट्रो मैन’ को केरल में सीएम उम्मीदवार बनाये जाने की बात से पलटे केंद्रीय मंत्री 

ये भी पढ़े :  न्यूजीलैंड में भूकंप के बाद सुनामी आने का खतरा टला

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com