Thursday - 29 October 2020 - 1:07 AM

नेहरू, मंडल आयोग, अयोध्या, गुजरात और सिख दंगे जैसे टॉपिक्स नहीं पढ़ेंगे असम के छात्र

जुुबिली न्यूज डेस्क

असम के कक्षा बारहवीं के छात्र इस साल जवाहरलाल नेहरु, मंडल कमीशन रिपोर्ट, 1984 और 2002 के गुजरात दंगे जैसी अहम चीजें नहीं पढ़ेंगे।

दरअसल कोरोना वायरस महामारी के चलते केंद्र सरकार के साथ कई राज्य सरकारों ने राज्य शिक्षा बोर्ड्स को अपना पाठ्यक्रम कम करने के लिए कहा है, ताकि इस सत्र में छात्रों को पहले ही हो चुके पढ़ाई के नुकसान की भरपाई की जा सके।

इसी के मद्देनजर असम राज्य बोर्ड ने भी अपने कक्षा-12 के सिलेबस को 30 फीसदी तक छोटा किया है। बोर्ड ने जिन टॉपिक्स को इस साल न पढ़ाने का फैसला किया है, उनमें जवाहरलाल नेहरु, मंडल कमीशन रिपोर्ट, 1984 के सिख दंगे और 2002 के गुजरात दंगे जैसी अहम चीजें शामिल हैं।

यह भी पढ़ें : बिहार विधानसभा चुनाव लड़ने को लेकर पूर्व डीजीपी ने क्या कहा?

यह भी पढ़ें :दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों में शामिल हुए आयुष्मान

यह भी पढ़ें :लखनऊ: अस्पतालों की लापरवाही के चलते 48 कोरोना संक्रमितों की मौत

इस सत्र के लिए असम के हायर सेकेंड्री एजुकेशन काउंसिल (्र॥स्श्वष्ट) ने सिलेबस से हटाए गए सभी टॉपिक्स की लिस्ट हाल ही में अपनी वेबसाइट पर डाली है।

इस संबंध में अधिकारियों का कहना है कि जो सेक्शन पाठ्यक्रम में शामिल किए गए हैं, उन्हें टीचर्स और राज्य में विषय के जानकारों से सलाह-मशविरे के बाद ही रखा गया है।

क्या-क्या हटाया गया पाठ्यक्रम से ?

कक्षा बारहवीं के राजनीति विज्ञान विषय से जिन टॉपिक्स को हटाया गया है, उनमें ‘भारत में स्वतंत्रता के बाद राजनीति’ के सेक्शन से पहले तीन आम चुनाव, देश को बनाने में प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की सोच, भुखमरी और पंचवर्षीय योजनाओं के खात्मे, नेहरू की विदेश नीति, नेहरू के बाद राजनीतिक उत्तराधिकार जैसे अहम टॉपिक्स शामिल हैं।

यह भी पढ़ें : तो क्या बिहार के डीजीपी ने चुनाव लड़ने के लिए छोड़ी है कुर्सी?

यह भी पढ़ें : अभिनेत्री रकुल प्रीत सिंह सहित इन लोगों के बयान दर्ज करेगी एनसीबी

इसके अलावा जो अन्य टॉपिक पाठ्यक्रम से निकाले गए हैं उनमें गरीबी हटाओ की राजनीति, गुजरात का नवनिर्माण आंदोलन, पंजाब संकट और 1984 के सिख दंगे, मंडल कमीशन रिपोर्ट का लागू होना, यूनाइटेड फ्रंट और एनडीए सरकारें, 2004 के चुनाव और यूपीए सरकार, अयोध्या विवाद और 2002 के गुजरात दंगे शामिल हैं।

पाठ्यक्रम में अभी भी जो टॉपिक्स हैं उनमें कांग्रेस पार्टी और उसका इतिहास, कश्मीर मुद्दा; चीन और पाकिस्तान से 1962, 1965 और 1971 की जंग; इमरजेंसी; और जनता दल और भाजपा का उदय शामिल हैं।

यह भी पढ़ें : अब अनुराग कश्यप पर लगा रेप का आरोप

यह भी पढ़ें : क्या भारत ने चीन सीमा पर स्वीकार कर ली है “यथा स्थति” ?

हालांकि, क्लास-12 के इतिहास के सिलेबस में अब ‘समानता, जाति और वर्ग’  से जुड़ा सेक्शन शामिल नहीं है। इसके अलावा अंग्रेजी का एक चैप्टर- मेमोरीज ऑफ चाइल्डहुड भी हटा दिया गया है। इसमें छात्रों को दो महिला लेखकों- अमेरिका की सुधारक जितकाला और भारत की दलित तमिल लेखक और शिक्षक बामा की जीवनी पढऩे के लिए मिलती थीं।

सिलेबस घटाने के मुद्दे पर असम बोर्ड के सचिव मनोरंजन काकती ने कहा, “कोरोनावायरस की वजह से छात्र पहले ही अहम अकादमिक समय गंवा चुके हैं। जब सीबीएसई ने कक्षा-11वीं और 12वीं का सिलेबस घटाने का फैसला किया, तो असम बोर्ड भी इस बारे में गंभीरता से विचार कर रहा था।” उन्होंने कहा कि इसका मुख्य उद्देश्य स्टूडेंट्स के सिर से 2020 के सत्र में बोझ कम करने का है।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com