Saturday - 3 December 2022 - 6:21 PM

इनकम टैक्स के रडार पर 5000 कंपनियां, जल्द अधिकारी मार सकते हैं छापे

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली। इनकम टैक्स विभाग के रडार पर 5000 कंपनियां हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, टैक्स चोरी के मामले में जल्द इनकी जांच हो सकती है। इस संबंध में टैक्स डिपार्टमेंट जल्द कंपनियों को नोटिस भेजेगा। ये सभी मझोली और छोटी कंपनियां हैं।

CBDT (Central Board of Direct Taxes) ने टैक्स अधिकारियों को इन सभी कंपनियों के खिलाफ जांच के आदेश दे दिए हैं। इन कंपनियों के दफ्तरों पर जल्द छापेमारी हो सकती है।

ये भी पढ़े: योगी सरकार बना रही स्मार्ट सि​टी मिशन वाले शहरों के विकास का खाका

GST फाइलिंग के आंकड़ों में बड़ी गड़बड़ी मिली है। पिछले हफ्ते CBDT ने टैक्स अधिकारियों को इस पर कार्रवाई करने का आदेश दे दिया है। अकेले मुंबई में करीब 2000 कंपनियों के जीएसटी रिटर्न के आंकड़ों में गड़बड़ी पाई गई है। सरकार ने टैक्स चोरी की शुरुआती जांच करने के बाद करीब 5,000 कंपनियों की लिस्ट तैयार की है।

शक है कि इन कंपनियों ने गलत आंकड़े दिखाकर टैक्स चोरी की है। इन कंपनियों को नोटिस भेजा जा रहा है। अगर इनका जवाब संतोषजनक नहीं रहा तो इनके खिलाफ नए ब्लैक मनी कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़े: डिफेंस एक्सपो के एयरशो में दहाड़ेगा एएस 565 पैंथर हेलीकॉप्टर

एक सरकारी अधिकारी की माने तो इस वक्त सरकार टैक्स कलेक्शन बढ़ाने पर जोर दे रही है। टैक्स विवाद में मोटी रकम फंसी हुई है। ऐसे में बजट में विशेष स्कीम लाकर इस बड़ी रकम को सरकारी खजाने में डालने का प्रयास किया जाएगा। इस स्कीम के तहत टैक्स विवाद में फंसी मूल रकम पर बड़ी छूट मिल सकती है। निश्चित तौर से सरकार का फोकस इनकम टैक्स विवादों के शीघ्र निपटारे पर है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक विवाद खत्म करने के लिए सबका विश्वास स्कीम के तर्ज पर नई स्कीम को बजट में लाया जा सकता है। इसमें टैक्स विवाद सुलझाने के लिए मौका मिलेगा। विवाद सुलझाने पर पेनल्टी और ब्याज से छूट मिलेगी। विवाद की मूल रकम पर भी छूट संभव है।

ये भी पढ़े: ऑनलाइन फ्रॉड के खिलाफ Paytm का एक्शन, ग्राहकों के लिए ये सुविधा

यह नई स्कीम 2016 की स्कीम से ज्यादा आकर्षक हो सकती है। हालांकि इससे आपराधिक मामले वाले विवाद बाहर रहेंगे। अनुमानित आंकड़ों के मुताबिक, 2017-18 तक 6.20 लाख करोड़ विवादों में अटके हुए थे। करीब 4 लाख करोड़ रुपए कॉरपोरेट टैक्स में अटके हुए हैं।

सबका विश्वास स्कीम पिछले बजट में आई थी। इस स्कीम में 95 फीसदी विवाद निपटे हैं और 35,000 करोड़ रुपए मिले हैं। सबका विश्वास में मूल रकम में 70 फीसदी तक छूट मिली थी।

ये भी पढ़े: 8- 9 फरवरी को आम लोगों को मिलेगा प्रवेश, पीएम 5 फरवरी को करेंगे उद्घाटन

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com