Thursday - 4 March 2021 - 3:47 PM

क्या अमरीका से दुनिया को कोई सबक़ मिलेगा ?

डॉ. सी पी राय

एक ग़लत फ़ैसला देश को कहा पहुँचा देता है और व्यवस्था तथा समाज को कितना छिन्न भिन्न कर देता है ? कोई अयोग्य और ग़लत व्यक्ति किसी नारे या भावना में सत्ता तो पा सकता हैं पर उसके योग्य वो सफल लोगों का अनुसरण कर, योग्य लोगों से सलाह कर और सबको साथ लेकर तथा ख़ुद को उसके लिए बदलने की इच्छा से ही सिद्ध कर सकता है । ये अमरीका ने 20 जनवरी 2017 से 20 जनवरी 2021 तक देखा और दुनिया के कई देश अभी भी देख रहे है ।

आज अमेरिका का दिन है। आज लोकतंत्र का दिन है। आज अमरीकी एकता का दिन है। मैं पूरे अमरीका का राष्ट्रपति हूँ। अब सबकी बात सुनी जायेगी और सबके लिये किया जायेगा। मतभिन्नता हो सकती है पर विभाजन नही।अमरीका मे किसी भी तरह के और किसी भी आधार के नफरत के लिये जगह नही है।

हमारे विचार अलग हो सकते है पर हम सब पहले और अन्त मे अमरीकी है। हमारे सामने पहले भी चुनौतियां आयी है और हमे विभाजित तथा कमजोर करने वाली ताकतें नई नहीं है, पर अमरीका ने हमेशा इन पर जीत हासिल किया है ।

पिछ्ले दिनो जो हुआ वो अमरीका की 200 साल से ज्यादा की परम्पराओं और लोकतंत्र पर हमला था पर अब ये दुबारा नहीं होगा और कभी नहीं होगा । हम ताकत के उदाहरण से नही बल्की उदाहरण की ताकत से चलेंगे ।

आज अमरीका मे 46 वे राष्ट्रपति जो बाइडेन ने राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद कुछ इस तरह से देश को संबोधित किया और आश्वस्त किया कि अमरीका अपनी सभी चुनौतियों पर एकजुट रह कर विजय पायेगा और पूरा अमरीका एक होकर लडे़गा वो चाहे अभी की आपदा हो या रोजगार का सवाल हो या आने वाली पीढियों के भविष्य का सवाल और उनके लिये समर्थ तथा सक्षम अमरीका बनाने का सवाल हो ।

इसके पहले आज पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 19 वी शताब्दी से अब तक की परम्परा को दरकिनार करते हुये राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा नही लेने का फैसला किया और पहले ही राष्ट्रपति भवन वाइट हाउस छोड़ गये । मैने पिछ्ले साल ट्रम्प की शपथ के दिन ही जो उनके बारे मे लिखा था पूरी तरह सही साबित हुआ ।

यद्दपि सिस्टम ने उनको सम्मानजनक तरीके से और स्थापित परम्परा से ही विदा किया जिसमें उन्हे गार्ड ऑफ आनर देने से लेकर उनकी मर्जी से स्थान तक उसी सम्मान से पहुंचाने तक सब हुआ पर जहां वाइट हाउस पर मुश्किल से 100/200 लोग थे

वहीं, जहां गार्ड ऑफ आनर के बाद ट्रम्प ने अपना आखिरी सम्बोधन दिया वहा भी मुट्ठी भर लोग ही आये और उनके विदाई कार्यक्रम मे खुद उनकी ही पार्टी का कोई मह्त्वपूर्ण व्यक्ति शामिल नहीं हुआ ।

जबकी बिडेन के शपथग्रहण मे जॉर्ज बुश, बिल क्लिंटन ,ओबामा सहित कई पूर्व राष्ट्रपति और वर्तमान उप राष्ट्रपति पेंस,तमाम विदेशी मेहमान सहित वो तमाम लोग मौजूद थे जो ऐसे अवसर पर होते है ।

ये अलग बात है कि ट्रम्प के द्वारा करवाये गये हुडडंग के कारण पूरा समारोह स्थल इस बार छावनी बना हुआ था तो कोरोना के कारण हर बार की तरह लाखों की भीड वाला कार्यक्रम नही था और व्यवस्थाओ मे कटौती कर दी गई थी ।

अमरीका ने एक नया इतिहास भी बनाया इस बार 200 साल से ज्यादा का लोकतंत्र होने के बावजूद आज तक कोई महिला राष्ट्रपति या उप राष्ट्रपति नही हुयी थी जो इस बार हो गया और वही कमला हैरिस के शपथ के साथ पहले अमरीकी एशियायी ने भी इतना बड़े पद पर बैठने का सौभाग्य पाया ।

आज देश को संबोधित करते हुये बिडेन खुद भी भावुक थे और लोगो को भी उन्होने भावुक किया और उनका लगातार जोर अमरीका की एकता , अमरीका के संविधान की सर्वोच्च्ता और लोकतंत्र की रक्षा तथा उसकी मजबूती पर था ।

चुकी अमरीका के राष्ट्रपति का शपथग्रहण था तो पूरी दुनिया की निगाह उसपर थी और संदेश भी स्प्ष्ट था लोकतंत्र के प्रति प्रतिबद्धता और संविधान की रक्षा । शायद दुनिया मे लोकतंत्र और संविधान से खिलवाड़ करने की इच्छा रखने वालो को कुछ सबका मिला होगा और ट्रम्प के प्रति अमरीका के व्यवहार ने भी शायद चेतावनी का काम किया होगा की व्यव्स्थाओं , संस्थाओं , मान्यताओं , परम्पराओं लोकतंत्र, संविधान से खिलवाड़ आप को किस स्थिति में पहुंचा सकता है ।

(लेखक स्वतंत्र राजनीतिक चिंतक और वरिष्ठ पत्रकार हैं)

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com