Sunday - 9 August 2020 - 1:23 AM

शिवपाल फिर क्यों बढ़ा रहे दोस्ती का हाथ

स्पेशल डेस्क

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में सपा से अलग हो चुके शिवपाल यादव का सपा प्रेम कम नहीं हुआ है। अखिलेश यादव से उनके रिश्ते बेहद उतार-चढ़ाव भरे रहे हैं। दोनों के बीच की रार कम होने का नाम नहीं ले रही है।

आलम तो यह है कि अखिलेश यादव अपने चाचा को दोबारा पार्टी में लेने के बारे में बातचीत करना भी पसंद नहीं करते हैं लेकिन शिवपाल यादव भले ही पार्टी में लौटने के बारे में कोई ठोस जवाब न दे फिर भी उनका सपा प्रेम कम होता नहीं दिख रहा है।

यह भी पढ़ें : भ्रष्टाचार की पींगें बढ़ाता मुफ्तखोरी का रिवाज

शिवपाल की पार्टी प्रसपा का सपा में विलय नहीं होगा लेकिन सपा के साथ कोई राजनीतिक समझौता संभव है। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि शिवपाल यादव ने इसको लेकर एक बार फिर संकेत दिया है।

यह भी पढ़ें : RBI में निकली वैकेंसी, आवेदन करने की अंतिम तारीख 16 जनवरी

शिवपला ने हाल में ही पार्टी की एक बैठक के बाद एक बार फिर सपा के साथ गठबंधन को लेकर हवा दी है। उन्होंने कहा था कि वह सत्ता में भाजपा को आने से रोकने के लिए किसी के साथ भी हाथ मिला सकते हैं।

यह भी पढ़ें : सख्त होती सत्ता और देशभर में फैलता शाहीनबाग

इसके साथ ही उन्होंने आगामी चुनावों में गठबंधन के संकेत दिए हैं, हालांकि उन्होंने सपा में प्रसपा के विलय की संभावनाओं को सिरे से खारिज कर दिया।

यह भी पढ़ें : नवाज शरीफ वाकई बीमार हैं?

अब देखना होगा कि शिवपाल यादव के इस ताजे बयान के बाद सपा कोई प्रतिक्रिया आती है या नहीं। हालांकि अखिलेश यादव ने साफ कर दिया है अगले चुनाव सपा अकेली ताल ठोंकेगी।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com