Monday - 27 September 2021 - 12:45 AM

असम के मुख्यमंत्री ने मिजोरम पुलिस पर क्या आरोप लगाया?

जुबिली न्यूज डेस्क

पूर्वोत्तर के दो राज्यों के बीच सीमा पर बढ़ते तनाव के बीच आज यानी मंगलवार को असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने मिजोरम पुलिस के व्यवहार की आलोचना करते हुए एक वीडियो भी ट्वीट किया है।

शेयर वीडियो में, पुलिसकर्मियों को जमीन पर आराम करते देखा जा सकता है। वीडियो के एक हिस्से में कुछ को धूम्रपान करते हुए भी देखा जा सकता है।

असम सीएम सरमा ने वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, “यह जानने के लिए कि मिजोरम पुलिस के जवानों ने कैसे कार्रवाई की और इस मुद्दे को आगे बढ़ाया, इस वीडियो को देखें।”

असम पुलिस के कम से कम पांच कर्मियों की मौत के मद्देनजर सरमा की यह टिप्पणी आई है। असम पुलिस के अनुसार कल यानी सोमवार को सब-इंस्पेक्टर स्वपन रॉय, कांस्टेबल लिटन सुकलाबैद्य, एमएच बरभुइया, एन हुसैन और एस बरभुइया की मिजोरम पुलिस के साथ हिंसक झड़प के दौरान मौत हो गई। इस दौरान 50 अन्य पुलिसकर्मी भी घायल हो गए।

यह भी पढ़ें : Tokyo Olympics : जोरदार पंच जड़ लवलीना बॉक्सिंग में जगायी मेडल की उम्मीद

यह भी पढ़ें :  संसद में विपक्ष के हंगामे पर मोदी ने कहा-कांग्रेस का असली चेहरा…

मुख्यमंत्री सरमा ने इससे पहले पुलिसकर्मियों की मौत पर शोक व्यक्त किया और कहा कि हिंसा के स्पष्ट सबूत मिल रहे हैं। ये सबूत दिखाते हैं कि मिजोरम पुलिस ने असम पुलिस कर्मियों के खिलाफ लाइट मशीन गन (एलएमजी) का इस्तेमाल किया है।

उन्होंने यह भी कहा कि यह दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है। उन्होंने मिजोरम पुलिस की मंशा पर सवाल उठाए।

सीएम सरमा ने कहा, ”असम अतिक्रमण को लेकर मिजोरम के साथ सीमा विवाद के बाद ‘इनरलाइन फॉरेस्ट की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट जाएगा।”

उन्होंने यह भी कहा कि असम मिजोरम की सीमा से लगते जिलों कछार, करीमगंज, हैलाकांडी में 3 कमांडो बटालियन तैनात करेगा।

दरअसल असम ने मिजोरम पर विवादित सीमा स्थलों पर उसकी जमीन पर कब्जा करने का आरोप लगाया है। इससे पहले मिजोरम के संदिग्ध बदमाशों ने ढोलाखाल खुलिचेरा में असम सरकार के अधिकारियों की टीम पर ग्रेनेड फेंका था। 11 जुलाई को मिजोरम की तरफ अंतर्राज्यीय सीमा पर एक के बाद एक दो विस्फोट हुए थे।

यह भी पढ़ें : खुशखबरी : भारत में अगले महीने से आ सकती है बच्चों की कोरोना वैक्सीन

यह भी पढ़ें :  आंसू बहाते हुए ‘खुशी’ से पदत्याग को मजबूर हुए येदियुरप्पा

वहीं मिजोरम के वैरेंगटे पुलिस स्टेशन में विस्फोटक पदार्थ अधिनियम के तहत आपराधिक मामला दर्ज किया गया है, जबकि असम पुलिस के एक सीनियर अफसर ने दावा किया है कि 10 जुलाई को मिजोरम के लगभग 25-30 लोग खुलिचेरा सीआरपीएफ कैंप से 25 मीटर आगे आए और बाद में यह भीड़ कम से कम 50 लोगों की हो गई। उन्होंने असम के अंदर की जमीन पर कब्जा करने की कोशिश की।

यह भी पढ़ें : CAA के नियम पर अमित शाह ने क्यों मांगा वक्त

यह भी पढ़ें : किसे मिलेगी कर्नाटक की कमान, आज शाम हो सकता है ऐलान

यह भी पढ़ें : परमबीर सिंह के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी, देश छोड़ने पर लगी रोक

उन्होंने कहा कि वन पथ की सफाई के कार्य को रोकने और पीडब्ल्यूडी अधिकारियों को सड़क निर्माण से रोकने के लिए कहा गया।

दोनों राज्यों के कर्मियों के बीच गोलीबारी की सबसे हालिया घटना मंगलवार को गृह मंत्री अमित शाह द्वारा असम और मिजोरम के मुख्यमंत्रियों से मुलाकात के दो दिन बाद हुई है।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com