Saturday - 22 January 2022 - 2:53 AM

कोरोना के नए वेरिएंट के बाद लगे प्रतिबंध पर दक्षिण अफ्रीका ने क्या कहा?

जुबिली न्यूज डेस्क

दक्षिण अफ्रीका में सामने आए कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन की वजह से पूरी दुनिया अलर्ट मोड में आ गई है। कई देशों ने दक्षिण अफ्रीका आने-जाने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

वहीं दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति ने कोविड के नए वेरिएंट ओमीक्रोन के सामने आने के बाद अपने देश और पड़ोसी मुल्कों पर लगाए गए यात्रा प्रतिबंध की निंदा की है।

राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा ने कहा कि वह इस कार्रवाई से “बेहद निराश” हैं। उन्होंने इसे अनुचित ठहराते हुए प्रतिबंधों को तत्काल हटाने की मांग की है।

यूरोपियन यूनियन, ब्रिटेन, और अमेरिका उन देशों में शामिल हैं जिन्होंने दक्षिण अफ्रीका सहित कुछ अन्य अफ्रीकी देशों पर यात्रा प्रतिबंध लगाए हैं।

दरअसल दक्षिण अफ्रीका से सामने आए कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन को “चिंता का कारण” माना जा रहा है। यह बहुत खतरनाक है। प्रारंभिक सबूत बताते हैं कि इसमें म्यूटेशन काफी तेज है और रि-इंफेक्शन का खतरा की काफी अधिक है।

इस महीने की शुरुआत में दक्षिण अफ्रीका में इस नये वेरिएंट का पता चला था और फिर बीते बुधवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को इसकी सूचना दी गई।

यह भी पढ़ें :  ‘ओमाइक्रोन’ है कोरोना के नये वेरिएंट का नाम, WHO चिंतित

यह भी पढ़ें :  सर्वदलीय बैठक में उठी महंगाई, बेरोजगारी और पेगासस जासूसी विवाद पर चर्चा की मांग

यह भी पढ़ें : लापरवाही बरती तो साढ़े छह लाख रोज़ मिलेंगे कोरोना पॉजिटिव

पिछले दो हफ्तों में दक्षिण अफ्रीका के सबसे अधिक आबादी वाले प्रांत गौटेंग में इसके अधिकतर मामले सामने आए लेकिन अब ये पूरे देश में फैल चुका है।

वहीं डब्ल्यूएचओ ने जल्दबाज़ी में यात्रा पर प्रतिबंध लगाने वाले देशों को चेतावनी देते हुए कहा है कि उन्हें “जोखिम-आधारित और वैज्ञानिक दृष्टिकोण” वाले अप्रोच के बारे में सोचना चाहिए, जबकि,हाल के दिनों में नए वेरिएंट पर चिंताओं के बीच कई देशों से दक्षिण अफ्रीका पर यात्रा प्रतिबंध लगाए गए हैं।

यह भी पढ़ें : अडानी पर मेहरबान हुई छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार!

यह भी पढ़ें :  पूर्व लोकसभा अध्यक्ष ने कहा, हमारे जैसे हिन्दू मन्दिर नहीं जा सकते

यह भी पढ़ें :  पीएम से मुलाकात के बाद बोले मनोहर लाल खट्टर, MSP पर कानून बनाना…

रविवार को दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति रामाफोसा ने अपने भाषण में कहा कि यात्रा प्रतिबंधों का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है और दक्षिणी अफ्रीका अनुचित भेदभाव का शिकार है। उन्होंने यह भी तर्क दिया कि प्रतिबंध वेरिएंट के प्रसार को रोकने में प्रभावी नहीं होंगे।

उन्होंने कहा, “यात्रा पर प्रतिबंध प्रभावित देशों की अर्थव्यवस्थाओं को और नुकसान पहुंचाएगा और महामारी का जवाब देने और उससे उबरने की हमारी क्षमता को कम करेगा।”

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com