Wednesday - 12 August 2020 - 8:59 PM

वेबिनार में हुई देश सेवा की बात

जुबिली न्यूज़ डेस्क

लखनऊ। कु. मायावती राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय, बादलपुर एवं गाज़ियाबाद एनसीसी ग्रुप मुख्यालय के संयुक्त सौजन्य से कारगिल विजय दिवस के मौके पर भव्य समारोह आयोजित किया। आयोजन का दायित्व ग्रुप मुख्यालय द्वारा 13 यूपी गर्ल्स बटालियन को दिया गया।

कार्यक्रम गूगल मीट पर ऑनलाइन कार्यक्रम प्रारम्भ हुआ, जिसकी अध्यक्षता कु. मायावती राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय, बादलपुर की प्राचार्या प्रो. (डॉ) दिव्या नाथ द्वारा किया।

कार्यक्रम 13 गर्ल्स एनसीसी बटालियन की कैडेट द्वारा गाये गए स्वागत गीत से शुरू हुआ, जिसके मधुर बोल थे ‘मन की वीणा से गुंजित ध्वनि मंगलम, स्वागतम स्वागतम’।

ये भी पढ़े: भूमि पूजन में आडवाणी, जोशी, कल्याण और उमा भारती भी रहेंगी मौजूद

ये भी पढ़े: क्या लोहिया संस्थान के अयोग्य डॉक्टर हटाये जायेंगे ?

कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में आमंत्रित सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल रणधीर कुमार मेहता ने कारगिल की शौर्य गाथा से सभी को रोमांचित कर दिया। उन्होंने सेना के अपने निज़ी अनुभवों को साझा कर सभी कैडेट्स का आह्वाहन किया कि वे इस विजय के मूल्य को समझें एवम राष्ट्र के प्रति अपने दायित्वों का नियमानुसार निर्वहन भी करें।

अपने सारगर्भित उदबोधन में उन्होंने भारतीय सनातन दर्शन, मूल्यशास्त्र,नीतिशास्त्र एवम गौरवशाली इतिहास के आलोक में जीवन के आदर्शतम मानदण्डों को स्पष्ट किया। उन्होंने शारीरिक स्वास्थ्य एवम सुगठित शारीरिक संरचना के महत्व को भी सभी को समझाते हुए कहा कि युवा पीढ़ी के लिए भविष्य के संघर्षों से विजय के लिए स्वस्थ्य एवम सुगठित होना अनिवार्य है।

ये भी पढ़े: तो ख़त्म हुआ 70 साल पुरानी इस कंपनी का अस्तित्व, कौन है सौदागर

ये भी पढ़े: किसने उठाया सचिन की काबिलियत पर सवाल

कार्यक्रम के अगले पड़ाव में सामुहिक शपथ ग्रहण आयोजित किया गया, जिसमें सभी उपस्थित कैडेट्स एवम एनसीसी अधिकारियों द्वारा राष्ट्रीय एकता और अखण्डता की शपथ ली। इस अवसर पर कैडेट्स के लिए कारगिल के शौर्य एवम नेशनल वॉर मेमोरियल से सम्बंधित लघु फ़िल्म भी प्रस्तुत की गई।

इस क्रम में एनसीसी अधिकारी पूजा तोमर द्वारा निर्देशित एवं अपनी आवाज़ से सुसज्जित कारगिल युद्ध में परम वीर चक्र विजेताओं के साहस एवं शौर्य पर आधारित लघुफिल्म भी प्रस्तुत की गई जिसने सभी को राष्ट्र एवम विजयभाव से विभोर कर दिया।

इस अवसर पर आयोजित स्वरचित कविता पाठ प्रतियोगिता में गाजियाबाद एनसीसी ग्रुप के अधीन दस बटालियन में से प्रत्येक के एक कैडेट ने अपनी सराहनीय प्रस्तुति दी, जहां थर्ड ऑफिसर शालिनी शर्मा, लेफ्टिनेंट कर्मवीर सिंह एवं लेफ्टिनेंट संगीता सिंह ने निर्णायक मंडल के पद को सुशाभित किया।

वेबिनार की मुख्य संयोजिका लेफ्टिनेंट डॉ. मीनाक्षी लोहानी द्वारा ऑनलाइन प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता के तथ्य और उसमें सहभागिता की संख्या आदि से उपस्थित प्रतिभागियों को अवगत कराया गया।

ये भी पढ़े: राफेल आने पर बलिया के इस गाँव में क्यों मन रहा है जश्न

ये भी पढ़े: मुझे अच्छी लगती हैं बिंदास लड़कियां

कार्यक्रम के समापन सत्र में कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहीं कु.मायावती राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय, बादलपुर की प्राचार्या प्रोफेसर (डॉ.) दिव्या नाथ ने मानव व्यक्तित्व के निर्माण में शहीदों के शौर्य इतिहास के ज्ञान के महत्व को स्पष्ट किया गया।

उन्होंने कहा कि राष्ट्र ऋण से बड़ा कोई ऋण नहीं अतः हम सभी राष्ट्र के सम्मान एवम वैभव के लिए अपने जीवन को समर्पित करें। उन्होंने ये भी कहा कि राष्ट्र सेवा के लिए सेना की वर्दी पहनना ही अनिवार्य नहीं है बल्कि हम जहां जिस क्षेत्र में कार्यरत हों वहां अपनी निष्ठा एवम समर्पण का शत प्रतिशत प्रदर्शन कर भी राष्ट्रभक्ति प्रदर्शित कर सकते है।

अंत में लेफ्टिनेंट डॉ. मीनाक्षी लोहनी द्वारा कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं अध्यक्षा सहित सभी बटालियन के कैडेट्स एवं एनसीसी अधिकारियों को उनकी उपस्तिथि और सहयोग हेतु धन्यवाद ज्ञापित किया गया।

इस अवसर पर उन्होंने कार्यक्रम की सफलता हेतु कर्नल जे.पी सिंह, मेजर रश्मि रॉय चौधरी, सूबेदार मेजर सतीश, वरिष्ठ जीसीआई शालिनी सिंह, निशा, आकांक्षा सहित सभी सैन्य कर्मचारियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों को विशेष धन्यवाद ज्ञापित किया गया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. संजीव कुमार द्वारा किया गया।

ये भी पढ़े: राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम पर आतंकी हमले का खतरा

ये भी पढ़े: एयर क्वालिटी लाइफ इंडेक्स में विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानकों पर खरा नहीं उतरता भारत

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com