Saturday - 30 May 2020 - 12:21 AM

तो इसलिए मधुमक्खी पालन को मिला वित्त मंत्री का साथ

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली। केंद्र सरकार का पूरा फोकस अब लोकल मैन्युफैक्चरिंग, लोकल प्रोडक्ट्स और छोटे उद्योगों पर है। इससे ही भारत के आत्मनिर्भर बनने का सपना पूरा होगा। सरकार खादी के साथ दूसरे ग्रामीण उद्योगों को बढ़ाने पर भी फोकस कर रही है।

सरकार ग्रामीण इलाकों में रोजगार बढ़ाने के लिए बड़े पैमाने पर शहद उत्पादन को प्रोत्साहन दे रही। केंद्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रम मंत्रालय ने इसके लिए नीति भी तैयार की है। वहीं आज वित्त मंत्री ने मधुमक्खी पालन के लिए 500 करोड़ रुपये की सहायता देने का एलान भी किया है।

ये भी पढ़े: काश कि प्रधानमंत्री जी इसे पढ़ लेते..

ये भी पढ़े: लोकल को वोकल बनाने की तैयारी में सरकार

मधुमक्खी पालन के लिए 500 करोड़ की मदद से दो लाख मधुमक्खी पालकों की आय में वृद्धि होगी और उपभोक्ताओं को बेहतर शहद मिलेगा। ग्रामीण क्षेत्र के लिए यह आय का अतिरिक्त साधन होगा। लोकल से ग्लोबल की दिशा में यह बड़ा कदम होगा।

ये भी पढ़े: प्रदेश में दवा की किल्लत लेकिन कार्पोरेशन ने 80 करोड़ कर दिया सरेण्डर

साथ ही सरकार ने हनी का बिजनेस शुरू करने के लिए छोटे कारोबारियों की मदद के लिए एक योजना शुरू की है। हनी का बिजनेस शुरू करके आप महीने की लाखों में कमाई कर सकते हैं।

ये भी पढ़े: जब सुहाना के लिए फोटोग्राफर बनी गौरी खान

खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग ने पिछले दो साल से भी कम समय में देश के किसानों एवं बेरोजगार युवकों को मधुमक्खी पालने के लिए एक लाख से अधिक बक्से दिए हैं। आयोग ने यह ‘हनी मिशन’ के तहत किया है। अगर आप अपना बिजनेस शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं तो हनी हाउस और हनी प्रोसेसिंग प्‍लांट लगा सकते हैं।

ये है हनी मिशन

हनी मिशन योजना खादी ग्रामोद्योग विभाग की योजना है। इसके जरिए किसान और पैसा कमाने की चाह रखने वाले लोग रोजगार शुरू कर मोटी कमाई कर सकते हैं। लोग हनी मिशन के तहत मधुमक्खी पालन कर कमाई कर सकते हैं।

ये भी पढ़े: पटरी व्यवसायी को 10 हजार का लोन देगी योगी सरकार

अब ऐसी तकनीक आ गई है, जिसके माध्यम से शहद निकालते समय मधुमक्खियां नहीं मरतीं। मोम और पॉलन भी बनता है। इससे न केवल किसान बल्कि बेरोजगार युवक भी बिजनेस के तौर पर देख रहे हैं।

सरकार करती है मदद

अगर आप इस स्‍कीम के तहत हनी प्रोसेसिंग प्‍लांट लगाना चाहते हैं तो कमीशन की ओर से आपको 65 फीसदी लोन दिलाया जाता है और खादी ग्रामोद्योग आपको 25 फीसदी सब्सिडी भी देता है यानी कि आपको केवल 10 फीसदी पैसा लगाना पड़ता है।

ये भी पढ़े: तो क्या पाकिस्तान को कोरोना संक्रमण का डर नहीं है?

मिलेगा इतना लोन

खादी ग्रामोद्योग आयोग के मुताबिक, आप 20 हजार किलोग्राम सालाना शहद बनाने वाला प्‍लांट लगाना चाहते हैं तो इस पर लगभग 24.50 लाख रुपए का खर्च आएगा। इसमें से आपको लगभग 16 लाख रुपए का लोन मिल जाएगा, जबकि मार्जिन मनी के रूप में 6.15 लाख रुपए मिल जाएंगे और आपको अपनी ओर से केवल लगभग 2.35 लाख रुपए लगाने होंगे।

ये भी पढ़े: …तो इस तरह से एक दूसरे के करीब आये थे माधुरी दीक्षित और श्रीराम नेने

हर महीने होगी एक लाख की कमाई

खादी ग्रामोद्योग आयोग का कहना है कि अगर आप सालाना में 20 हजार किलोग्राम शहर तैयार करते हैं, जिसकी कीमत 250 रुपए प्रति किलोग्राम है, इसमें से 4 फीसदी वर्किंग लॉस को भी शामिल कर लिया जाए तो आपकी सालाना बिक्री 48 लाख रुपए होगी।

इसमें से सभी खर्च जो लगभग 34.15 लाख रुपए होगा को कम कर दिया जाए तो आपको साल भर में लगभग 13.85 लाख रुपए की आमदनी होगी। मतलब आप हर महीने 1 लाख रुपए से ज्यादा कमाई कर सकते हैं।

ये भी पढ़े: उत्साहजनक नहीं है किसान, मज़दूर और छोटे व्यापारियों के लिए पैकेज

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com