Saturday - 22 January 2022 - 1:28 AM

…तो पांच राज्यों के चुनाव के बाद कांग्रेस में होगी प्रशांत की एंट्री?

जुबिली न्यूज डेस्क

पिछले कुछ महीनों से चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के कांग्रेस में शामिल होने की खबरें चल रही हैं, लेकिन इस पर अब तक न तो प्रशांत किशोर ने कुछ कहा है और न ही कांग्रेस से।

फिलहाल अब खबर है कि पीके कांग्रेस में शामिल होंगे लेकिन अगले साल पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के बाद।

इंडिया टुडे के लिए लिखे गए एक लेख में ’24 अकबर रोड एंड सोनिया : ए बायोग्राफी’ के लेखक रशीद किदवई ने कहा है कि पीके को लेकर गांधी परिवार (सोनिया, राहुल और प्रियंका) ने पंजाब, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, गोवा और मणिपुर में विधानसभा चुनावों के के समापन के बाद कांग्रेस में औपचारिक प्रवेश पर चर्चा करने के लिए सहमति व्यक्त की है।

सबसे दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस में बहुचर्चित औपचारिक प्रवेश को टालने के लिए प्रशांत किशोर ने जिद नहीं की। कथित तौर पर सोनिया और प्रियंका गांधी की राय थी कि इसे अगले साल होने वाले पांच राज्यों के चुनावी नतीजों से नहीं आंका जाना चाहिए।

दरअसल राहुल गांधी इस बात से आश्वस्त नहीं थे कि पार्टी को पांच चुनावों के परिणामों के बारे में चिंता करनी चाहिए।

किदवई ने अपने लेख में यह भी कहा है कि पंजाब के मुख्यमंत्री के रूप में चरणजीत सिंह चन्नी के चयन में चुनावी रणनीतिकार पीके की कोई भूमिका नहीं है। यह विचार कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खडग़े ने दिया था और राहुल गांधी ने इसे अपनाया था।

लेख में आगे लिखा है कि जानकार सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस-पीके की राजनीतिक समझ 2024 के लोकसभा चुनाव तक ही सीमित है। सोनिया गांधी के साथ उनकी बातचीत कांग्रेस में सुधार, संगठनात्मक बदलाव, टिकट वितरण प्रणाली के संस्थागतकरण, चुनावी गठबंधन, चंदा आदि पर केंद्रित रही है।

यह भी पढ़ें :  ईडी ने एक्ट्रेस लीना मारिया को इसलिए किया गिरफ्तार

यह भी पढ़ें :   तो फिर अंधेरे में डूब सकती है देश की राजधानी

पिछले कुछ महीनों में, पीके के कांग्रेस में प्रवेश की संभावना ने ग्रैंड ओल्ड पार्टी के भीतर काफी बेचैनी पैदा कर दी है। पार्टी के कुछ तेजतर्रार नेता, एआईसीसी के पदाधिकारी और पार्टी शासित राज्यों के मुख्यमंत्री चुनावी रणनीतिकार पर अजीबोगरीब आरोप लगाते रहे हैं।

दरअसल कांग्रेस का एक वर्ग इस बात से नाखुश है कि तृणमूल कांग्रेस सुष्मिता देव, गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री लुइजिन्हो फलेरियो और मेघालय, त्रिपुरा आदि के कई नेताओं का ‘अवैध शिकार’ कर रही है।

वहीं छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और अधिकारी के बीच एक ट्विटर विवाद प्रशांत किशोर के एक ट्वीट पर तृणमूल कांग्रेस खुलकर सामने आई है।

अपने बचाव में प्रशांत किशोर के करीबी सूत्र बताते हैं कि लगभग पूरे तृणमूल कांग्रेस नेतृत्व का अपना ‘कांग्रेस अतीत’ है। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि टीएमसी जानबूझकर उन राज्यों में प्रवेश कर रही है जहां कांग्रेस बेहद कमजोर है, यानी त्रिपुरा और गोवा। यहां आम आदमी पार्टी भी अपनी गहरी पैठ बना रही थी।

यह भी पढ़ें : केजरीवाल सरकार को झटका, केंद्र ने इस योजना पर लगाया ब्रेक

यह भी पढ़ें :  मायावती ने खेला ‘सॉफ्ट हिंदुत्व कार्ड’, बोलीं- अयोध्या, वाराणसी, मथुरा में…

राहुल गांधी ने पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं को प्रशांत किशोर के पार्टी में शामिल होने की संभावना के बारे में बताया है। एके एंटनी, मल्लिकार्जुन खडग़े, अंबिका सोनी से लेकर कई मध्यम और युवा नेताओं तक, किशोर की संभावित प्रविष्टि का स्वागत किया गया है। हालांकि, मौन स्वर में, कुछ ने सुझाव दिया है कि पार्टी को अपनी राजनीतिक गतिविधियों को नए प्रवेशकर्ता के लिए आउटसोर्सिंग के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।

कुछ कांग्रेसी नेताओं को इस बात की जानकारी है कि प्रशांत किशोर के व्यापक संपर्कों को पार्टी लाइनों से परे एक संपत्ति माना जाता है। पीके की ममता बनर्जी, शरद पवार, एमके स्टालिन, उद्धव ठाकरे, अखिलेश यादव, हेमंत सोरेन, जगन मोहन रेड्डी से नजदीकियां जगजाहिर हैं।

दरअसल चुनावी रणनीतिकार का दृढ़ मत है कि जब तक कांग्रेस, जो राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र, असम, हरियाणा, झारखंड, आदि राज्यों में भाजपा के साथ सीधे मुकाबले में है, अपने प्रतिद्वंद्वी को हराना न शुरू कर दें, तो नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले एनडीए को बाहर करने के लिए संयुक्त विपक्ष के प्रयास एक वास्तविकता नहीं बन पाएंगे।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com