Wednesday - 1 February 2023 - 2:30 PM

प्रियंका अपने इन कदमों से मोदी को दे रहीं सीधी टक्‍कर

गिरीश तिवारी 

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को जीत दिलाने के लिए पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्‍तर प्रदेश अपने चुनावी प्रचार का आगाज कर दिया है। पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा जवाहर लाल नेहरू के जन्म स्थान प्रयागराज से अपना तीन दिवसीय चुनाव प्रचार अभियान शुरू करेंगी। प्रियंका की ये 140 किलोमीटर की गंगा यात्रा पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी जाकर खत्‍म होगी।

कांग्रेस महासचिव पद संभालने के बाद से जिस तरह एक-एक करके प्रियंका गुजरात से वाराणसी तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेर रही हैं, उससे साफ नजर आ रहा है कि पीएम मोदी को प्रियंका को सीधे टक्‍कर दे रहीं हैं।

मन की बात Vs सांची बात

प्रियंका की वाराणसी और गंगा यात्रा को मोदी को घेरने के लिए एक खास रणनीति के तहत देखा जा रहा है। कांग्रेस महासचिव ‘गंगा-यमुनी तहज़ीब यात्रा’ से मोदी को सीधे तौर पर जवाब देंगी। इस दौरान पीएम मोदी के मन की बात की तर्ज पर ‘सांची बात प्रियंका के साथ’ करेंगी। बात दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने पूरे कार्यकाल के दौरान रेडियो पर मन की बात कार्यक्रम करते आए हैं। इसके जवाब में प्रियंका गांधी जनता से ‘सांची बात’ करेंगी।

चाय पर चर्चा Vsनाव पर चर्चा

प्रियंका बीजेपी के ‘चाय पर चर्चा’ के जवाब में ‘नाव पर चर्चा’ करेंगी। 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी के पीएम कैंडिडेट नरेंद्र मोदी खुद को चायवाला बता कर काफी सुर्खियां रहे थे। इसके बाद बीजेपी  ने देश के कई जगह ‘चाय पर चर्चा’ कार्यक्रम का आयोजन किया था। इसी की तर्ज पर प्रियंका की नाव पर चर्चा को देखा जा रहा है।

छात्रों से बातचीत

प्रियंका गांधी प्रयागराज में छात्रों से भी मिलेंगी। वो यहां इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के करीब 15 छात्रों के साथ युवाओं के मसलों और देश के हालात पर चर्चा करेंगी। यूपी में 18 से 19 साल के आयु वर्ग के युवा वोटरों की संख्‍या कुल 21 लाख 10 हजार 634 है। प्रियंका ऐसा करके उत्‍तर प्रदेश के युवाओं को साधने की कोशिश करेंगी।

priyanka-gandhi,jubilbeepost

शहादत को सलाम

पुलवामा अटैक के बाद से ही देश में राष्‍ट्रवाद को लेकर एक बड़ी बहस छिड़ी हुई है। माना जा रहा है कि बीजेपी लोकसभा चुनाव में एयरस्‍ट्राइक को भुनाने की कोशिश कर रही है। ऐसे में प्रियंका के पुलवामा हमले में शहीद सीआरपीएफ जवान महेश राज यादव के परिजनों के मुलाकात को लेकर बड़े सियासी मायने निकाले जा रहे हैं।

भक्‍त प्रियंका

प्रियंका अपनी चुनावी प्रचार की शुरूआत प्रयागराज में गंगा यात्रा से की। खुद को गंगा मां की बेटी बताते हुए प्रियंका ने गंगा की पूजा की। साथ ही गंगा जल का आचमन भी किया। इसके बाद लेटे हुए हनुमान की पूर्जा-अर्चना भी की। प्रियंका यहां से विंध्यांचल मंदिर जाएंगी और मिर्जापुर में मौलाना इस्माइल चिश्ती की मजार भी उनके कार्यक्रम का हिस्सा है। प्रियंका पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचकर काशी विश्वनाथ मंदिर के दर्शन भी करेंगी। इसके बाद वह जैन समाज के साथ बैठक करेंगी। लोकसभा चुनाव से पहले भक्‍त प्रियंका के इस कदम को सॉफ्ट हिंदू कार्ड खेलने का प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है। गौरतलब है कि 2014 में जब नरेंद्र मोदी वाराणसी आए तब उन्‍होंने कहा था कि ‘मुझे मां गंगा ने बुलाया है।’ साथ ही पीएम नरेंद्र मोदी कई बार मीडिया के सामने पूजा-पाठ करते देखा गया है।

‘भाइयों-बहनों’ Vs ‘बहनों-भाइयों’

पीएम नरेंद्र मोदी अक्‍सर अपने भाषणों की शुरूआत ‘भाइयों और बहनों’ से करते हैं। अपने संबोधन में पीएम मोदी कई बार ‘भाइयों और बहनों’ शब्‍द का इस्‍तेमाल करते हैं। वहीं, प्रियंका ने गुजरात में अपने पहले भाषण की शुरूआत ‘बहनों और भाइयों’ से की। प्रियंका के इस कदम को महिला वोटरों को अपने तरफ लुभाने के लिए प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है।

कुछ अलग करने की कोशिश

राजनीति में चर्चा, खर्चा और पर्चा का बहुत अहम रोल होता है। पीएम नरेंद्र मोदी अक्‍सर कुछ ऐसा कर जाते हैं जो चर्चा का विषय बना रहता है। वर्तमान में ‘मैं भी चौकीदार हूं’ इसका अच्‍छा उदाहरण है। इसी तर्ज पर प्रियंका के चुनावी प्रचार को देखा जा रहा है। चाहे 58 साल गुजरात में CWC की बैठक हो या प्रयागराज में बोट यात्रा, प्रियंका लगातार चर्चा में बनी हुई हैं।

 

 

 

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com