Monday - 12 April 2021 - 12:24 AM

भूमध्यरेखा पर ग्लोबल वार्मिंग का असर, समुद्री जीवन हुआ अस्त-व्यस्त

डॉ. सीमा जावेद 

एक नए अध्ययन से पहली बार यह पता चला है कि जलवायु परिवर्तन के चलते समुद्री जीवन अस्त व्यस्त हो चुका है। यहाँ तक की भूमध्यरेखा और ट्रॉपिक्स पर पानी में गर्मी इस कदर बढ़ चुकी है कि वहां से तमाम समुद्री जीवन की प्रजातियाँ दूर जा चुकी हैं।

भूमध्यरेखीय जल में पाए जाने वाले खुले पानी की प्रजातियों की संख्या बीते 40 वर्षों में आधी रह गयी है और वजह है ये कि कुछ प्रजातियों के जीवित रहने के लिए भूमध्य रेखा का जल बहुत गर्म हो गया है। प्रजातियों में इस नाटकीय बदलाव का पारिस्थितिकी प्रणालियों और समुद्री भोजन और पर्यटन के लिए समुद्री जीवन पर निर्भर लोगों के लिए बड़े परिणाम हैं।

जैसा कि पूर्वानुमान किया गया था, ग्लोबल वार्मिंग की वजह से 1950 के दशक के बाद से प्रजातियों की संख्या भूमध्य रेखा पर कम हो गई है और उप-उष्णकटिबंधीय में बढ़ी है। सभी 48,661 प्रजातियों में, जब वे समुद्र तल में रहने वाले (बेनथिक) और खुले पानी (पेलाजिक), मछली, मोलस्क (molluscs) और क्रस्टेशियन (crustaceans) में बंटे, यही मसला पाया गया।

ऑकलैंड विश्वविद्यालय के नेतृत्व में करे गए शोध के परिणामों से पता चला कि बेनथिक से ज़्यादा पेलाजिक जाति उत्तरी गोलार्ध में ध्रुव की ओर स्थानांतरित हुई। दक्षिणी गोलार्ध में एक समान बदलाव नहीं हुआ क्योंकि उत्तरी गोलार्ध समुद्र में वार्मिंग, दक्षिण की तुलना में, अधिक थी।

पहले, कटिबंधों को स्थिर और जीवन के लिए एक आदर्श तापमान का माना जाता था क्योंकि वहाँ बहुत सारी प्रजातियाँ पाई जाती हैं। अब, हम महसूस करते हैं कि उष्णकटिबंधीय बहुत स्थिर नहीं हैं और कई प्रजातियों के लिए बहुत ज़्यादा गर्म हैं।

Photo courtesy :theindianwire.com

 

अध्ययन ऑकलैंड विश्वविद्यालय में प्रमुख लेखक छाया चौधरी की PhD (पीएचडी) की पराकाष्ठा था और एक शोध समूह में कई अध्ययनों के आधार पर बनाया गया था जिसमें क्रस्टेशियन (crustaceans), मछली और कीड़ों (worms) सहित विशेष टैक्सोनॉमिक समूहों पर विस्तार से साहित्य और डाटा का अध्ययन किया गया था।

ये सारा डाटा, महासागर जैव विविधता सूचना प्रणाली (Ocean Biodiversity Information System) (OBIS), एक स्वतंत्र रूप से सुलभ ऑनलाइन विश्व डाटाबेस से प्राप्त किया गया था, जिसकी स्थापना विश्वविद्यालय के प्रोफेसर मार्क कॉस्टेलो ने 2000 के दशक से 2010 तक एक वैश्विक समुद्री खोज कार्यक्रम, समुद्री जीवन की जनगणना, के हिस्से के रूप में की थी।  प्रजातियों को कब और कहाँ रिपोर्ट किया गया इसके रिकॉर्ड की सूचना अक्षांशीय बैंड में दी गई और नमूने में भिन्नता के लिए एक सांख्यिकीय मॉडल का उपयोग किया गया था।

पिछले साल, प्रोफ़ेसर कॉस्टेलो ने एक अध्ययन का सह-लेखन किया, जिसमें बताया गया था कि जबकि समुद्री जैव विविधता 20,000 साल पहले, अंतिम हिमयुग के दौरान भूमध्य रेखा पर चरम पर थी, यह औद्योगिक ग्लोबल वार्मिंग से पहले ही समतल हो गई थी। उस अध्ययन ने हजारों वर्षों में विविधता में परिवर्तन को ट्रैक करने के लिए गहरे समुद्री तलछटों में दफन समुद्री प्लवक के जीवाश्म रिकॉर्ड का उपयोग किया।

डिकैडल टाइमस्केल (दशकों का समय का पैमाना) पर किए गए इस नवीनतम अध्ययन से पता चलता है कि पिछली शताब्दी में यह समतलता जारी रही है, और अब प्रजातियों की संख्या भूमध्य रेखा पर कम हो गई है। ये अध्ययन, और अन्य प्रगति में, यह दर्शाते हैं कि वार्षिक औसत समुद्री तापमान 20 से 25 सेल्सियस से ऊपर बढ़ने पर (विभिन्न प्रकार की प्रजातियों के साथ भिन्न)  समुद्री प्रजातियों की संख्या में गिरावट आती है।

जलवायु परिवर्तन पर अंतर्राष्ट्रीय पैनल (आईपीसीसी) की वर्तमान छटी आकलन रिपोर्ट के प्रमुख लेखकों में से एक, प्रोफेसर कोस्टेलो, का कहना है कि निष्कर्ष महत्वपूर्ण हैं।

“हमारे काम से पता चलता है कि मानव-आधारित जलवायु परिवर्तन ने पहले से ही सभी प्रकार की प्रजातियों में वैश्विक स्तर पर समुद्री जैव विविधता को प्रभावित किया है। जलवायु परिवर्तन अब हमारे साथ है, और इसकी गति तेज हो रही है।

“हम प्रजातियों की विविधता में सामान्य बदलाव की भविष्यवाणी कर सकते हैं, लेकिन पारिस्थितिक परस्पर क्रिया की जटिलता के कारण यह स्पष्ट नहीं है कि जलवायु परिवर्तन के साथ प्रजातियों की बहुतायत और मत्स्य (मछली)पालन कैसे बदल जाएगा।”

(लेखिका पर्यावरणविद और वरिष्ठ पत्रकार हैं)

यह भी पढ़ें : गुजरात के किसानों से टिकैत ने क्या कहा?

यह भी पढ़ें : स्वेज नहर में जाम के लिए क्या वाकई शिप कैप्टन मार्वा जिम्मेदार हैं?

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com