Monday - 6 February 2023 - 8:01 AM

क्या शेयर बाजारों को एक धक्का देने के लिए हैं एग्जिट पोल के नतीजे?

विवेक अवस्थी

एग्जिट पोल के बाद अगली सुबह, बंबई शेयर बाजार में सेंसेक्स में भारी उछाल आ गया । एग्जिट पोल के नतीजों के बाद दोनों सूचकांकों में आज तेजी दर्ज की गई और कहा गया कि भाजपा प्रचंड बहुमत के साथ लोकसभा चुनाव 2019 जीत जाएगी। बीएसई सेंसेक्स 900.32 अंकों या 2.37 फीसदी की बढ़त के साथ 38,831.09 पर और एनएसई निफ्टी 11651.9 पर 244.75 अंकों या 2.15 फीसदी की तेजी के साथ कारोबार कर रहा था।

बेंच मार्क सूचकांकों के साथ व्यापक बाज़ार भी 14,685.83 पर बीएसई MIDCAP व्यापार के साथ, 377.47 अंक या 2.64 प्रतिशत की वृद्धि पर था और बीएसई SMLCAP 14,179.85 पर 292.71 अंक या 2.11 प्रतिशत तक की बढ़ोत्तरी पर रहा ।

दलाल स्ट्रीट पर हलचल तेज हो गई है, लेकिन सड़क पर आम आदमी इन नंबरों को सहजता से स्वीकार नहीं कर रहा है। लोग एग्जिट पोल पर सवाल उठा रहे हैं और उन्हें शेयर बाजार के सूचकांकों में वृद्धि से जोड़ रहे हैं। कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि यह बड़े निवेशको को प्रॉफिट बुकिंग में मदद करने के लिए मीडिया का एक कदम हो सकता है और वे लाभ के साथ बाहर आ सकते हैं, जबकि छोटे निवेशक, जो अब पैसा कमाने के लिए बाजार में प्रवेश करेंगे, वे 23 मई की वास्तविक नतीजों के बाद बर्बाद हो सकते हैं।

लोग विभिन्न बिंदुओं को उठाकर इस सर्वे की गड़बड़ियों पर सवाल उठा रहे हैं । एक एग्जिट पोल ने हरियाणा में भाजपा को 22 सीटें दीं,जबकि राज्य में केवल 10 सीटें ही हैं। एक अन्य चैनल, जिसने पहले तो एसपी-बीएसपी-आरएलडी गठबंधन को 50 प्लस सीट दी, बाद में रात में इस टैली से 13 सीटें काट लीं, जनता ने इसकी विश्वसनीयता पर गंभीर सवाल उठाए और इसकी नियंत्रण शक्तियों की चर्चा भी तेज हो गई।

एक अन्य चैनल, जिसे विपक्ष के नेताओं द्वारा वित्त पोषित कहा जाता है, ने उत्तर प्रदेश के महागठबंधन को कम संख्या दी थी। यह कहा जा रहा है कि इस चैनल के फाइनेंसरों ने चैनल प्रबंधन और आंकड़ों में सुधार किया और सुबह के कार्यक्रम में रात के आंकड़ों में सुधार देखा गया।

एक अन्य प्रतिष्ठित चैनल ने उत्तरांचल में आम आदमी पार्टी को 2.5 प्रतिशत का वोट शेयर दे दिया। लेकिन मलाल यह है कि आम आदमी पार्टी इस पहाड़ी राज्य में एक भी सीट पर चुनाव नहीं लड़ रही है।

अगर हम अकेले उत्तर प्रदेश की बात करें तो इन एक्जिट पोल में पार्टियों को दिए गए आंकड़ों में कोई एकरूपता नहीं दिखती है।

यह भी पढे: LIVE: नतीजें आने से पहले चुनावी मुलाकातों का दौर शुरू

इंडिया टुडे-एक्सिस, रिपब्लिक-सी-वोटर ने उत्तर प्रदेश की 80 में से 68 सीटों के साथ भाजपा को एक शानदार जीत का आंकड़ा दिया, यह संकेत देते हुए कि यूपी में योगी आदित्यनाथ सरकार हो या केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर नहीं थी।

न्यूज 18- IPSOS के आंकड़े बीजेपी के लिए मुफीद थे। इसने भगवा पार्टी को 60 से 62 सीटें और सपा-बसपा गठबंधन को सबसे कम 17-19 सीटें दीं। यह कांग्रेस को 1-2 सीटें देता है, जिससे दर्शक यह अनुमान लगा सकते हैं कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अमेठी से हार रहे हैं या उनकी मां, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी रायबरेली से हार का सामना कर रही हैं।

टाइम्स नाउ-सीएनएक्स ने अलायंस के लिए कम संख्या वाली 20 सीटों, भाजपा को 58 और कांग्रेस पार्टी को 02 सीटों की भविष्यवाणी की। रिपब्लिक भारत-जन की बात एग्जिट पोल ने सभी को सबसे अधिक भ्रमित करने वाली संख्या दी। इस चैनल ने भाजपा को 46 से 57 सीटें, गठबंधन को 32 से 21 सीटें और कांग्रेस को 04 से 02 सीटें दीं। जो थोड़ी भी राजनीति समझते हैं उनके लिए इतना व्यापक फर्क समझना थोड़ा मुश्किल है। जाहिर है ये संतुलन के लिए दिए गए आंकड़े थे।

न्यूज़एक्स- नेता-एक्जिट पोल ने सपा-बसपा-रालोद गठबंधन को 43 और कांग्रेस को 33 सीटें दिखाईं। यह पोल कांग्रेस को सबसे ज्यादा, 04 सीटें देता है।
न्यूज नेशन चैनल के एग्जिट पोल में कहा गया है कि भाजपा को 38 सीटें मिलेंगी और सपा-बसपा-रालोद गठबंधन को भी बराबर सीटें मिलेंगी। यह कांग्रेस पार्टी को 02 से 03 सीटें देती है।

ABP न्यूज़ – नीलसन ने उत्तर प्रदेश में भाजपा को सबसे खराब स्कोर दिया। चैनल का एग्जिट पोल एसपी-बीएसपी-आरएलडी गठबंधन को 56 और बीजेपी को केवल 22 सीटों के बीच सबसे ज्यादा सीटें देता है। यह कांग्रेस के लिए 02 से 03 सीटों की भविष्यवाणी करता है।

यह भी पढे : क्‍या एग्जिट पोल के कयासों को सही ठहराया जा सकता है

लखनऊ से संचालित होने वाले उत्तर प्रदेश के समाचार चैनल, भारत संमाँचार ने भी समाजवादी पार्टी-बहुजन समाज पार्टी और राष्ट्रीय जनता दल गठबंधन की शानदार जीत की भविष्यवाणी की है। इसका एग्जिट पोल अलायंस को 56 सीटें देता है।

एक प्रख्यात वेबसाइट – www.anthro.ai इसी तरह के आंकड़े देती है, यह कहती है – हमें विश्वास है कि उत्तर प्रदेश में बीएसपी+एसपी+आरएलडी 54 सीटें जीतेंगी। हम 8 सीटों के बारे में गलत हो सकते हैं। बीएसपी 27 जीतेगी। एसपी 22 जीतेगी। आरएलडी 2 जीतेगी। हमारे पास एसपी की तुलना में बीएसपी के लिए कुछ अधिक कमजोर अनुमान हैं। हमें विश्वास है कि भाजपा 21 सीटें जीतेगी। यह वर्तमान में अन्य दलों के लिए अनुमानित 9 सीटों से ऊपर जा सकता है।

वेबसाइट के अनुसार हमें विश्वास है कि कांग्रेस 4 सीटें जीतेगी और शिवपाल यादव की पार्टी PSP(L) 1 सीट जीतेगी। हमारा यह भी मानना ​​है कि भाजपा को औसत वोट शेयर में 3-6% की गिरावट देखने को मिलेगी और गठबंधन को अपने वोट शेयर में 2-5% की वृद्धि होगी।

लेकिन किसी भी तरह देखे तो राज्य के लिए अलग-अलग पोल भविष्यवक्ता और चुनाव पंडित अलग-अलग संख्या दे रहे थे। लोग वास्तव में भ्रमित हैं और ऐसा होने के लिए पर्याप्त कारण हैं।

उत्तर प्रदेश के लिए मतदाताओं के बीच उनकी संख्या और भविष्यवाणियों के बीच कोई अस्पष्टता नहीं है। राजनेता जिनके लिए संख्याओं का एक सेट सुविधाजनक है, वे उसी के लिए सहमत हैं और दूसरों के लिए कहते हैं कि अंतिम परिणाम 23 मई को जब मतों की गिनती होगी तब नतीजे अलग होंगे।

कुल मिला कर वास्तविक नतीजे आने तक तक – भ्रम ही सर्वोच्च है!

(विवेक अवस्थी बिजनेस इंडिया टेलीविजन (BTVI) के सीनियर पोलिटिकल एडिटर हैं )

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com