Tuesday - 1 December 2020 - 4:35 AM

अब देश नहीं दुनिया के मंचों पर सुनाई देगी एटा के घुंघरू की खनक

जुबिली न्यूज़ डेस्क

लखनऊ। दो साल पहले तक गुमनामी और बेजारी से जूझ रहे एटा के घुंघरू उद्योग में योगी सरकार ने नई जान फूंक दी है। एक जिला एक उत्पाद (ODOP) योजना में शामिल एटा के घुंघरू देश ही नहीं दुनिया को भी अपनी छम छम से आकर्षित कर रहे हैं। राज्य सरकार भी एटा के कलाकारों के हुनर और मेहनत को अंतररष्ट्रीय मंचों पर पूरी मजबूती के साथ पेश करने में जुट गई है।

उत्तर प्रदेश के एटा जिले में निर्मित घुंघरू देश ही नहीं, अब दुनिया भर के कलाकारों के पैरों में बजेंगे। दक्षिण अफ्रीका, सिंगापुर, मलेशिया, कंबोडिया और साउदी अरब के कलाकारों ने एटा के घुंघरू की मांग की है। जाडर्न, यूएई सरीखे मध्य पूर्व के देशों में भी एटा के घुंघरू को बड़ा बाजार मिल गया है।

ये भी पढ़े: BJP के इस नेता ने बताया-कोरोना की वैक्सीन किसको मिलेगी

ये भी पढ़े: RAW के मुखिया से मिलकर ढीले पड़े पीएम ओली के तेवर

सूत्रों ने बताया कि दक्षिण अफ्रीकी देशों के साथ सिंगापुर, मलेशिया, कंबोडिया, साउदी अरब, जाडर्न, यूएई और ईराक जैसे देशों में कलाकारों के बीच एटा के घुंघरू की मांग ने सरकार की योजना को पंख लगा दिए हैं।

दुनिया के मंच पर मिल रहे इस मौके को हाथों हाथ लेते हुए योगी सरकार ने केन्द्र के माध्यम से इन देशों को सप्लाई शुरू कर दी है। देश और दुनिया में मिल रहे बाजार और मांग को देखते हुए राज्य सरकार ने घुंघरू उत्पादन बढ़ाने के प्रयास भी तेज कर दिए हैं।

ये भी पढ़े: यूपी सरकार हर जिले में बनाएगी एन्टी ह्यूमन ट्रैफिकिंग थाना

ये भी पढ़े: कौन लगाना चाहता है NDA में सेंध

एमएसएमई विभाग के आंकड़ों के मुताबिक पिछले कुछ महीनों में ही एटा के घुंघरू और घंटी व्यापार 15 से 20 फीसदी बढ़ा है। ओडीओपी के तहत नए कलाकारों को प्रशिक्षण देकर इंडस्ट्री का विस्तार किया जा रहा है। ताकि देश और विदेश में बढ़ती मांग को पूरी गुणवत्ता के साथ पूरा किया जा सके।

उन्होंने बताया कि कोलकाता, आगरा, मथुरा, वाराणसी, मुरादाबाद, कानपुर और दिल्ली के साथ दक्षिण भारत में भी एटा के घुंघरू अपना जलवा खूब बिखेर रहे हैं। देश और विदेश में घुंघरुओं की सालाना औसत व्यापार 100 करोड़ को पार कर गया है।

आपको बता दें कि मौजूदा दौर में 10000 से ज्यादा लोग घुंघरू और घंटी उद्योग से सीधे तौर पर जुड़े हुए हैं। ओडीओपी योजना के तहत राज्य सरकार ने उद्योग को बढ़ाने के लिए कलाकारों को 350 करोड़ के लोन के साथ ही मुफ्त प्रशिक्षण और जरूरी साजो सामान उपलब्ध करा रही है।

ओडीओपी योजना के तहत अब तक करीब 1000 नए युवाओं को प्रशिक्षित कर उद्योग से जोड़ा जा चुका है। हालांकि कुछ परेशानियां भी हैं जो इस उद्योग को और रफ्तार पकड़ने में बाधक बन रही हैं। कलाकारों का कहना है कि कोरोना और लाकडाउन के कारण इंडस्ट्री पर काफी असर पड़ा है।

ये भी पढ़े: जब एक बच्ची की जान बचाने के लिए नॉनस्टॉप दौड़ी ट्रेन

ये भी पढ़े: इस सांसद ने दुर्गा पूजा में किया डांस, वीडियो हो रहा वायरल

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com