Thursday - 1 October 2020 - 12:20 PM

65 साल से ज्यादा उम्र के बुज़ुर्ग मस्जिद न आएं, घर पर ही पढ़ें नमाज़

प्रमुख संवाददाता

लखनऊ. अनलॉक वन में सरकार ने धार्मिक स्थलों को भी खोलने का फैसला किया है. धार्मिक स्थल खोले जाने का फैसला होने के बाद इस्लामिक सेंटर ऑफ़ इण्डिया के अध्यक्ष और ऐशबाग ईदगाह के इमाम मौलाना खालिद रशीद फरंगीमहली ने मुसलमानों से कहा है कि मस्जिदों में आने के मामले में वह सरकार की उन्हीं गाइड लाइंस का पालन करें जो कोरोना से बचने के लिए जारी की गई हैं.

मौलाना ने कहा है कि 10 साल से कम उम्र के बच्चे और 65 साल से ज्यादा के बुज़ुर्ग मस्जिदों में न आयें वह घरों में ही नमाज़ अदा करें. मस्जिदों में जो लोग नमाज़ अदा करने आयें वह भी फिजीकल डिस्टेंससिंग का पालन करें.

यह भी पढ़ें : कोरोना संकट के बीच मोदी सरकार की उपलब्धियों की चर्चा

यह भी पढ़ें : राज्यसभा की 18 सीटों पर चुनाव 19 जून को, निर्वाचन आयोग ने जारी किया कार्यक्रम

यह भी पढ़ें : अयोध्या के संतों को राम मन्दिर का मौजूदा माडल मंज़ूर नहीं

कोरोना महामारी से बचने के लिए नमाजियों को यह सलाह दी गई है कि वह ज्यादा संख्या में मस्जिद न आयें. नमाज़ के लिए इतने लोग ही मस्जिद में रहें जिनके रहने से नमाज़ के दौरान फिजीकल डिस्टेंससिंग का पालन हो सके.

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com