Wednesday - 8 July 2020 - 6:37 AM

कांग्रेस नेता की गिरफ्तारी पर भड़की प्रियंका, बोलीं- हमारी आवाज़ नहीं दबा सकते

जुबिली न्यूज़ डेस्क 

लखनऊ में कांग्रेस नेता की गिरफ्तारी पर पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार पर निशाना साधा है। प्रियंका ने मंगलवार को ट्वीट करके कहा कि बीजेपी सरकार यूपी पुलिस को दमन का औजार बनाकर दूसरी पार्टियों को आवाज उठाने से रोक सकती है, हमारी पार्टी की नहीं।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने लिखा, ‘कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता जनता के मुद्दों पर आवाज उठाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। भाजपा सरकार यूपी पुलिस को दमन का औजार बनाकर दूसरी पार्टियों को आवाज उठाने से रोक सकती है, हमारी पार्टी की नहीं। देखिए किस तरह यूपी पुलिस ने हमारे अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष को रात के अंधेरे में उठाया।’

ये भी पढ़े: गैस रिसाव से विशाखापट्टनम में दो मजदूरों की मौत, चार घायल

आगे प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा, ‘पहले फर्जी आरोपों को लेकर हमारे प्रदेश अध्यक्ष को चार हफ्तों के लिए जेल में रखा। ये पुलिसिया कार्रवाई दमनकारी और आलोकतांत्रिक है। कांग्रेस के सिपाही पुलिस की लाठियों और फर्जी मुकदमों से नहीं डरने वाले।’

गौरतलब है कि सोमवार को राजधानी लखनऊ से पुलिस ने कांग्रेस माइनॉरिटी सेल के चेयरमैन शाहनवाज़ आलम को गिरफ्तार किया था। बताया जा रहा है कि सीएए व एनआरसी के विरोध में 19 दिसंबर 2019 को हुए उपद्रव का मामले में पुलिस ने शाहनवाज़ आलम को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने शाहनवाज आलम को मुख्यमंत्री आवास के निकट गोल्फ लिंक अपार्टमेंट के सामने से उठाया है।

कांग्रेस नेताओं ने बताया कि पुलिस ने मुख्यमंत्री आवास के निकट गोल्फ लिंक अपार्टमेंट के सामने से शाहनवाज़ आलम को अचानक उठा लिया। इसी तरह आशीष अवस्थी को भी पुलिस थाने उठाकर ले गई। आशीष अवस्थी यूपीसीसी के सोशल मीडिया का काम देखते हैं। पुलिस ने आशीष अवस्थी की गिरफ्तारी की अबतक जानकारी नहीं दी है।

ये भी पढ़े: अखिलेश ने योगी के इस फैसले पर उठाया सवाल

जब इस बात की सूचना यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष अजय सिंह लल्लू और कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा को मिली तो वे अपने समर्थकों के साथ हजरतगंज कोतवाली पहुंच गए।

देखते ही देखते शहरभर से कांग्रेस कार्यकर्ता वहां जमा हो गए। अपने नेताओं को छुड़ाने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हंगामा शुरू कर दिया। इसी दौरान थाने पर भारी पुलिस बल बुला लिया गया। जब कांग्रेस नेताओं का हंगामा बढ़ने लगा तो पुलिस ने हल्का लाठी चार्ज कर दिया। अब इस मामले को लेकर सियासी हलचल तेज हो गई है।

इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि सरकार डरी हुई है, और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को झूठे मुकदमे में फंसाकर जेल भेज रही है। अजय कुमार लल्लू ने कहा कि अगर पुलिस इन्हें रिहा नहीं करती है तो मंगलवार को कांग्रेस जोरदार प्रदर्शन करेगी।

देर रात कांग्रेस नेता शाहनवाज आलम की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए लखनऊ पुलिस ने एक बयान जारी किया है। डीसीपी सेंट्रल दिनेश सिंह ने कहा कि दिनांक 29-6-2020 को शाहनवाज आलम की गिरफ्तारी हुई है, जो कि कांग्रेस के पदाधिकारी हैं।

पुलिस ने कहा कि मुकदमा अपराध संख्या 600/19 के तहत 19-12-2019 को सीएए और एनआरसी को लेकर जो प्रोटेस्ट हुआ था, उस घटना में इनका नाम पूर्व से प्रकाश में आया था, जिसकी साक्ष्य संकलन की प्रक्रिया जारी थी. पर्याप्त साक्ष्य प्राप्त होने के बाद उनको आज गिरफ्तार किया गया है। आगे संवैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़े:  सरकार का बड़ा एक्शन, 59 चाइनीज ऐप्स की दुकान बंद

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में बीते वर्ष 19 दिसंबर को लखनऊ को हिंसा की आग में झोंकने वाले उपद्रवी तत्वों पर प्रशासन लगातार कार्रवाई कर रहा है। विभिन्न संगठनों द्वारा बुलाए गए विरोध प्रदर्शन के दौरान सुनियोजित तरीके से शहर में हर तरफ हिंसा फैलायी गयी थी।

हिंसा और उपद्रव के दौरान राजधानी में करीब पांच करोड़ रुपये की संपत्ति को आग के हवाले कर दिया गया था। हिंसा में चार थाना क्षेत्रों हजरतगंज, कैसरबाग, ठाकुरगंज और हसनगंज में उपद्रवियों ने तोडफ़ोड़ कर करीब 35 वाहनों को आगे के हवाले कर दिया था। हसनगंज थाना क्षेत्र के मदेयगंज और ठाकुरगंज की सतखंडा चौकी को आग के हवाले किया गया था। प्रशासन ने इस मामले वसूली की कार्रवाई कर रहा है। यह रिकवरी आदेश कैसरबाग और ठाकुरगंज थाना क्षेत्रो में हुए नुकसान के लिए जारी किया गया है।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com