Saturday - 26 September 2020 - 2:12 PM

ADR ने बताया बीजेपी और कांग्रेस पार्टी ने कितना धन जुटाया

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) के विश्लेषण के अनुसार, भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने वित्तीय वर्ष 2018-19 में कुल 2,410 करोड़ रुपये दान से जुटाये। इनमें से चुनावी बांड के माध्यम से दान में 1,450.8 करोड़ रुपये जुटाये गए।

देश की दूसरी सबसे बड़ी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने इस दौरान कुल 918 करोड़ रुपये जुटाए। इसमें से 383.2 करोड़ रुपये चुनावी बांड के जरिए आए। इलेक्टोरल बॉन्ड एक ऋण साधन है जिसे भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की चुनिंदा शाखाओं से खरीदा जा सकता है और राजनीतिक दलों को दान दिया जा सकता है।

ये भी पढ़े: अब स्कूल, अस्पताल और मकान के आस पास नहीं बनेंगे पेट्रोल पंप

रिपोर्ट के अनुसार 6 राष्ट्रीय राजनीतिक दलों में से – केवल भाजपा, कांग्रेस और ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस ने ‘चुनावी बांड’ के माध्यम से योगदान से आय प्राप्त करने की घोषणा की है।

 

2018-19 के दौरान कुल इन तीनों पार्टियों ने चुनावी बांड के जरिये कुल 1,931.43 करोड़ जुटाये हैं। तृणमूल कांग्रेस को 97.2 करोड़ रुपये के चुनावी बांड के माध्यम से दान मिला। जबकि पार्टी ने कुल 192.6 करोड़ रुपये की आय घोषित की है।

ये भी पढ़े: जर्मन मैगजीन में छपेगी साक्षी और अजितेश की लव स्टोरी

इस अवधि के दौरान भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) ने कुल 100.9 करोड़ रुपये और मायावती की बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने 69.7 करोड़ रुपये की घोषणा की।

रिपोर्ट बताती है कि वित्त वर्ष 2017-18 में भाजपा की आय 1,027.3 करोड़ रुपये से बढ़कर वित्त वर्ष 2018-19 में 2,410 करोड़ रुपये हो गई। जबकि कांग्रेस की आय भी 199.1 करोड़ रुपये से बढ़कर 918 करोड़ रुपये पहुंच गई है।

आमदनी का जरिया

भाजपा, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, सीपीआई (एम) और सीपीआई ने वित्त वर्ष 2018-19 में दान / योगदान से अपनी उच्चतम आय प्राप्त करने की घोषणा की। भाजपा ने 2,354 करोड़ रुपये का ‘स्वैच्छिक योगदान’ घोषित किया- जो कि उसकी कुल आय का लगभग 97.6 प्रतिशत है।

ये भी पढ़े: क्या धोनी शानदार विदाई के हकदार नहीं है

बीएसपी और सीपीआई (एम) को बैंक हितों (लगभग 38.8 करोड़ रुपये), शुल्क और सदस्यता (लगभग 39.6 करोड़ रुपये) के माध्यम से उच्चतम आय प्राप्त हुई ।

दोनों मुख्य राष्ट्रीय पार्टी का मुख्य व्यय

2018-19 के दौरान भाजपा का अधिकतम खर्च चुनाव अभियानों की ओर था। इसने 792.3 करोड़ रुपये प्रशासनिक लागत (178.3 करोड़ रुपये) दूसरा सबसे बड़ा खर्च था। कांग्रेस ने भी बड़े पैमाने पर चुनावी खर्च (लगभग 308.9 करोड़ रुपये) खर्च किए, इसके बाद सामान्य खर्च 125.8 करोड़ रुपये रहा।

ये भी पढ़े: NPR पर सत्याग्रह पड़ सकता है महंगा

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com