आखिर क्यों इस बार पड़ रही इतनी गर्मी?

जुबिली न्यूज डेस्क

इस बार गर्मी ने सारे रिकार्ड तोड़ दिए हैं। मार्च महीने से शुरु हुई गर्मी अप्रैल आते-आते कहर बनकर टूट पड़ी। लोग गर्मी से बेहाल है।

देश के अधिकतर राज्यों में गर्मी का सितम जारी है। कई राज्यों में तो पारा 46 डिग्री पार कर चुका है। यूपी, दिल्ली, हरियाणा, बिहार, गुजरात और राजस्थान जैसे राज्यों में गर्मी कहर लोग झेल नहीं पा रहे हैं।

देश की राजधानी दिल्ली में बीते दिन अधिकतम तापमान 43.7 डिग्री सेल्सियस रहा। अप्रैल माह में यह तापमान पिछले 12 सालों में सबसे अधिक था।

मौसम विभाग के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में 45.9 डिग्री सेल्सियस तो खजुराहो में 45.6 डिग्री सेल्सिय दर्ज किया गया। वहीं एमपी के खरगौन में 45.2 डिग्री सेल्सियस तो अकोला में 45.4 डिग्री सेल्सियस व जलगांव में 45.6 डिग्री सेल्सियस पारा रहा।

वहीं झारखंड की बात करें तो डाल्टनगंज में बीते दिन का अधिकतम तापमान 45.8 डिग्री सेल्सियस रहा।

आ चुके हैं चार बड़े हीटवेव के स्पेल

उत्तर भारत में इस साल मार्च महीने से ही भीषण गर्मी पडऩे लगी थी। महाराष्ट्र, राजस्थान के कुछ क्षेत्रों में तो में तापमान पिछले दो महीने के दौरान 40-45 डिग्री के बीच दर्ज किया गया।

वहीं देश में मार्च महीने से ही अब तक 4 हीट वेव के स्पेल देखे जा चुके हैं। मार्च के शुरुआत से ही जनता कम से कम 26 हीट वेव के दिन झेल चुकी है। ये हीट वेव के 4 स्पेल हैं।

11 मार्च से 19 मार्च के बीच हीट वेव का पहला स्पेल आया, जिसकी वजह से राजस्थान, कच्छ, दिल्ली, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, सौराष्ट्र, जम्मू, उत्तरी कोंकण, मध्य महाराष्ट्र, पश्चिमी एमपी, पश्चिमी यूपी और ओडिशा के इलाके प्रभावित हुए।

वहीं हीट वेव के दूसरे स्पेल की शुरुआत 27 मार्च को हुई जो 12 अप्रैल तक चला। पहली वेव वाले सभी क्षेत्रों को दूसरी हीट वेव के स्पेल ने भी हिट किया।

इसके साथ झारखंड, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, पश्चिमी एमपी के कई क्षेत्र इससे प्रभावित हुए। वहीं इसके बाद हीट वेव की तीसरी स्पेल 17 अप्रैल को शुरु हुई जिससे राजस्थान, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बिहार और विदर्भ जैसे इलाके प्रभावित हुए।

हीट वेव का चौथा स्पेल 24 अप्रैल से शुरू हुआ जो राजस्थान और कच्छ-सौराष्ट्र के इलाकों को प्रभावित कर रहा।

ऐसा माना जा रहा है कि आने वाले समय में हरियाणा, दिल्ली, यूपी, पंजाब, मध्य प्रदेश, बिहार जैसे प्रदेश भी इससे और प्रभावित होंगे।

पांच दिनों तक राहत नहीं : मौसम विभाग

मौसम विभाग का कहना है कि अभी हाल-फिलहाल गर्मी से रात नहीं मिलने वाली। मौसम विभाग ने कहा, अगले पांच दिनों तक गर्मी से राहत नहीं मिलेगी। इस दौरान हीट वेव की स्थिति बनी रहेगी।

मौसम विभाग ने ट्वीट कर कहा, अगले पांच दिनों के दौरान उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में व अगले तीन दिनों के दौरान पूर्वी भारत में लू की स्थिति बनी रहेगी। लेकिन उसके बाद कम हो जाएगी।

मौसम विभाग ने कहा है कि पूर्वोत्तर भारत में गरज के साथ बारिश/तूफान के साथ बिजली गिरने की भी संभावना है।

वहीं राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली, यूपी और ओडिशा के लिए मौसम विभाग ने ऑरेंज अलर्ट जारी किया है।

यह भी पढ़ें :   बीजेपी विधायक ने लगाया बुल्डोजर पर ब्रेक, कहा समर्थक का घर गिरा तो तहसील फूंक देंगे

यह भी पढ़ें :   कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच आई राहत की खबर

यह भी पढ़ें :  ‘दुर्भाग्य है कि महाराष्ट्र में कोई ‘योगी’ नहीं है’

गर्मी पडऩे की क्या है वजह

पिछले कुछ सालों की तुलना में आखिर क्यों इस बार इतनी अधिक गर्मी पड़ रही है। दरअसल इसके पीछे कई कारण है। पहला इस बार मार्च महीने से ही गर्मी पडऩी शुरू हो गई, जिसके कारण तापमान तेजी से आगे बढ़ा।

दूसरा अन्य सालों की अपेक्षा अधिक लंबा हीटवेव पडऩा और बिल्कुल बारिश नहीं होना भी अधिक तापमान की वजह है।

देश के उन हिस्सों में इस साल मार्च महीने में हल्की बारिश भी नहीं हुई है, जहां पर भीषण गर्मी पड़ रही है। इसके अलावा, यह मार्च 1901 के बाद भारत का सबसे तीसरा सबसे गर्म मार्च रहा।

यह भी पढ़ें :  असम में बोले मोदी, कहा-पहले जहां गोलियों की आवाज सुनाई…

यह भी पढ़ें : VIDEO:बेटे की मौत पर मां रो रही थी लेकिन SDM बोल रही थी-‘बस! बहुत हो गया, चुप रहो’ 

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com