Thursday - 6 May 2021 - 5:13 PM

रेमडेसिविर इंजेक्शन के निर्यात पर किसने और क्यों लगाई रोक

जुबिली न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली। कोरोना के मामलों में वृद्धि के कारण रेमडेसिविर की मांग बढ़ने के मद्देनजर केन्द्र सरकार ने कहा कि वायरल रोधी इंजेक्शन और इसकी सक्रिय दवा सामग्री (एपीआई) के निर्यात पर स्थिति में सुधार होने तक रोक लगा दी गई है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि इसके अलावा दवा की आसानी से उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए रेमडेसिविर के सभी घरेलू निर्माताओं को अपने विक्रेताओं और वितरकों की जानकारी अपनी वेबसाइट पर प्रदर्शित करने की सलाह भी दी गई है।

ये भी पढ़े: कोरोना का कहर: यूपी में टूटा रिकॉर्ड, लखनऊ में मचा हाहाकार

ये भी पढ़े: मौत के मातम में सरकार मना रही है उत्सव: लल्लू

औषधि निरीक्षकों और अन्य अधिकारियों को भंडार को सत्यापित करने, कदाचारों की जांच करने और इसकी जमाखोरी और कालाबाजारी को रोकने के लिए अन्य प्रभावी कदम उठाने के निर्देश दिये गये है। राज्यों के स्वास्थ्य सचिव संबंधित राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के औषधि निरीक्षकों के साथ इसकी समीक्षा करेंगे।

ये भी पढ़े: राहत भरी खबर : कोरोना को मात देंगे ये 5 टीके

Image

ये भी पढ़े: कोरोना प्रबंधन के लिए सर्वदलीय बैठक में विपक्ष ने की तारीफ

मंत्रालय ने ये भी कहा कि भारत में कोविड के मामले तेजी से बढ़ रहे है। देश में 11 अप्रैल तक उपचाराधीन मरीजों की संख्या 11.08 लाख है और यह संख्या तेजी से बढ़ रही है। इससे कोविड मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन की मांग तेजी से बढ़ी है। ये भी कहा कि आने वाले दिनों में इसकी मांग में और बढ़ोतरी हो सकती है।

मंत्रालय के अनुसार 7 भारतीय कंपनियां मेसर्स गिलीड साइंसेज, अमेरिका, के साथ स्वैच्छिक लाइसेंसिंग समझौते के तहत इंजेक्शन का उत्पादन कर रही हैं। उनके पास प्रति माह लगभग 38.80 लाख इकाइयों को बनाने की क्षमता है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा भारत सरकार ने स्थिति में सुधार होने तक रेमडेसिविर और इसकी सक्रिय दवा सामग्री (एपीआई) के निर्यात पर स्थिति में सुधार होने तक रोक लगा दी गई है।

ये भी पढ़े: ‘टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट’ से टूटेगी संक्रमण की चेन : योगी

ये भी पढ़े: अवसर में बदलना होगा कोरोना का अनुशासन

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com