Saturday - 8 May 2021 - 1:36 AM

देश में कोरोना की दूसरी लहर कब होगी ख़त्म ? क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

जुबिली स्पेशल डेस्क

नई दिल्ली। पूरा देश में कोरोना का कहर टूट रहा है। कोरोना की दूसरी लहर केवल तबाही लेकर आई है। आलम तो ये है कि कोरोना अब कंट्रोल से बाहर
हो चुका है। इतना ही नहीं कोरोना हर रोज नए रिकॉर्ड बना रहा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की माने तो देश में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 1.5 करोड़ के आंकड़े को पार कर गया है। जरूरी बात ये है कि 1.4 करोड़ से 1.5 करोड़ मामले पहुंचने में केवल 4 दिन का वक्त लगा है।

ऐसा में पूरा देश डरा हुआ है। इसके साथ किसी को पता नहीं है कि कोरोना की दूसरी लहर पर कब काबू किया जा सकेगा। पिछले 24 घंटे के दौरान देशभर से 2 लाख 73 हज़ार से ज्यादा नए मामले सामने आ चुके है जबकि इस दौरान 1619 लोगों की जिंदगी ख़त्म हो चुकी है।

दूसरी लहर पर कब ब्रेक लगेगा इसको लेकर एक्सपर्ट्स की अलग-अलग राय है। सेंटर फोर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी के निदेशक डॉक्टर राकेश मिश्रा ने कहा है भारत के लिए अगले तीन सप्ताह काफी अहम है। उन्होंने इसके साथ ही कहा है अब लोगों को कोरोना प्रोटोकॉल को सख्ती से पालन करना होगा।

राकेश मिश्रा ने न्यूज़ एजेंसी ANI से खास बातचीत में कहा है कि अगर अस्पताल में बेड, ऑक्सीजन सिलेंडर और टीकों की कमी जारी रहती है, तो देश विनाशकारी स्थिति का सामना करना पद सकता है।

ऐसा में भारत के लिए अगले तीन सप्ताह काफी अहम होने जा रहा है। उन्होंने इटली का जिक्र करते हुए कहा कि वहां पर हॉस्पिटल में ऑक्सिजन सिलेंडर की कमी और इलाज न होने के चलते लोगों ने अस्पतालों के कॉरिडोर में ही दम तोड़ना पड़ रहा था।

ये भी पढ़े:  रेमडेसिविर इंजेक्शन के जमाखोरों के खिलाफ लगा एनएसए

ये भी पढ़े:  कोरोना नियमों का पालन करने के सवाल पर शाह ने क्या कहा?

राकेश मिश्रा ने साफ कहा कि दूसरी लहर का सामना देश को करना ही था। मेडिकल बुद्धिजीवियों ने भी यही कहा था और बताया था कि वायरस और इसका प्रभाव अभी कम है और इसका पूरी तरह से सफाया नहीं हुआ है।

हमें इस तरह की स्थिति के लिए थोड़ा और तैयार रहना चाहिए। कोविड -19 जैसे संक्रमणों में, ये काफी सामान्य है कि वायरस की दूसरी लहर आएगी। भारत में कोरोना की नई वेरिएंट आ गई है। ये काफी तेज़ी से फैल रही है।

उन्होंने बताया कि आखिर क्यों कोरोना ने रफ़्तार पकड़ी। राकेश मिश्रा ने कहा ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि लोगों ने मास्क लगाना छोड़ दिया। इसका नतीजा रहा कि कोरोना के मामले लगातार बढ़ने लगे।

ये भी पढ़े:  ये हैं कोरोना के 5 लक्षण, फौरन करे अस्पताल का रुख

ये भी पढ़े:  UP के स्वास्थ्य मंत्री ने भी माना बेड की है कमी

‘राकेश मिश्रा ने कहा कि कोरोना ‘महामारी को रोकने के टीका एक अहम हथियार साबित होगा। हालांकि उन्होंने कहा कि कोरोना के दिशानिर्देशों का पालन करना बेहद जरूरी होगा।

ये भी पढ़े: ममता बनर्जी अब कोलकाता में नहीं करेंगी प्रचार 

ये भी पढ़े: हे सरकार!आखिर इन मौतों का जिम्मेदार कौन है 

क्योंकि वायरस उन लोगों पर भी हमला कर रहा है जो टीका ले चुके हैं. ये वायरस हवा के माध्यम से फैल सकता है. ये एक बंद क्षेत्र में 20 फीट तक बढ़ सकता है. मास्क लोगों को 80 से 90 प्रतिशत सुरक्षित रख सकता है।

बता दे कि सोमवार को लगातार दूसरे दिन देश में ढाई लाख से ज़्यादा नए COVID-19 केस सामने आ चुके है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की माने तो 24 घंटों के दौरान देशभर में 2,73,810 मामले सामने आ चुके है। इस दौरन 1,619 लोगो की जिंदगी ख़म हो चुकी है।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com