Tuesday - 30 November 2021 - 8:03 PM

कोरोना की ‘नेजल वैक्सीन’ व ‘बूस्टर डोज’ को लेकर भारत बायोटेक ने क्या कहा?

जुबिली न्यूज डेस्क

‘भारत बायोटेक’ के मुखिया और देश का पहला कोरोना टीका ‘कोवैक्सीन’ विकसित करने वाले कृष्णा एल्ला ने बुधवार को कहा कि कोरोना टीके की दूसरी खुराक के छह महीने बाद ही तीसरी खुराक दी जानी चाहिए, यही सबसे सही समय है।

एल्ला ने साथ में नाक से दिए जाने वाले टीके (नेजल वैक्सीन) के महत्व पर भी जोर दिया। उन्होंने इस बात को भी रेखांकित किया कि उनकी कम्पनी ‘जीका’ रोधी टीका बनाने वाली दुनिया की पहली कम्पनी है।

कृष्णा एल्ला ने कहा कि उनकी कंपनी जल्द ही नेजल वैक्सीन को बूस्टर खुराक के तौर पर लाने का विचार कर रही है। एक कार्यक्रम में एल्ला ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा ‘कोवैक्सीन’ टीका लगवाना उनका भारतीय विज्ञान में भरोसा दिखाता है।

भारत बायोटेक के मुखिया ने कहा, ” दूसरी खुराक के छह महीने बाद ही तीसरी खुराक दी जानी चाहिए। तीसरी खुराक के लिए यही सबसे उचित समय है।।’

उन्होंने कहा कि भारत बायोटेक नाक से दिए जाने वाली टीके को ‘बूस्टर’ खुराक के तौर पर लाने का भी विचार कर रहा है। ‘नेजल वैक्सीन’ के महत्व के बारे में उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया ऐसा टीका चाहती है।’

एल्ला ने कहा, ‘कोरोना संक्रमण रोकने का यही एकमात्र तरीका है। हर कोई ‘इम्यूनोलॉजी’ (प्रतिरक्षा विज्ञान) का पता लगाने की कोशिश कर रहा है और सौभाग्य से, भारत बायोटेक ने इसका पता लगा लिया है।”

उन्होंने कहा, ”हम नाक से देने वाला टीका ला रहे हैं… हम इस बात पर विचार कर रहे हैं कि क्या कोवैक्सिन की दूसरी खुराक को नाक से दिया जा सकता है, यह रणनीतिक रूप से, वैज्ञानिक रूप से भी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि दूसरी खुराक को अगर आप नाक से देते हैं तो आप संक्रमण को फैलने से रोकते हैं।”

जीका’ रोधी टीके के बारे में कृष्णा एल्ला ने कहा कि भारत बायोटेक ने जीका वायरस रोधी टीका बना लिया है। प्रथम चरण पूरा हो गया है। सरकार को और अधिक परीक्षण (ट्रायल) करने होंगे क्योंकि मामले अधिक हैं। ”

उन्होंने कहा, ”हम 2014 में जीका रोधी टीका बनाने वाली विश्व की पहली कम्पनी थे। सबसे पहले हमने ही जीका रोधी टीके के वैश्विक पेटेंट के लिए आवेदन दिया था।”

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com