Monday - 6 February 2023 - 12:06 PM

अखिलेश-माया के अलग होने के बाद उपचुनाव में कैसे होंगे समीकरण

न्‍यूज डेस्‍क

लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के बीच हुए गठबंधन की नींव कमजोर होती दिखाई दे रही है। बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने यूपी विधानसभा उपचुनाव में अलग होकर चुनाव लड़ने का फैसला किया है। दरअसल, लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश के 11 विधायक सांसद बन गए हैं। अब इन सीटों पर उपचुनाव होने है।

बसपा अध्यक्ष मायावती ने इन सीटों पर अपने दम पर चुनाव लड़ने का ऐलान कर सबको चौंका दिया है। सपा-बसपा गठबंधन अलग-अलग चुनाव लड़ने के फैसले के बाद उत्तर प्रदेश में फिर नये राजनीतिक समीकरण पैदा हो गए हैं। इस समीकरण का असर उपचुनाव में भी पड़ेगा।

गौरतलब है कि अभी तक बसपा उपचुनाव में अपने उम्‍मीदवार नहीं उतारती थी। पिछली बार मायावती ने 2010 में उपचुनाव लड़ा था। लोकसभा में 10 सीटें जीतने के बाद मायावती ने फैसला किया है कि वा उपचुनाव में अपने उम्‍मीदवार खड़ा करेंगी।

अगले छह माह के भीतर होने वाले 11 विधानसभा में उपचुनाव होने हैं। इनमें आठ सीटों पर बीजेपी का कब्‍जा था, जबकि एक पर सपा और एक पर बसपा का कब्‍जा था। साथ ही बीजेपी के सहयोगी साथी अपना दल का भी एक सीट पर कब्‍जा था।

गोविंदनगर विधानसभा सीट

इस लोकसभा चुनाव में यूपी के गोविंदनगर विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी विधायक सत्यदेव पचौरी कानपुर से चुनाव जीतकर सांसद बन गए हैं।2017 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो यहां पर सत्यदेव पचौरी 1 लाख 12 हजार 29 वोट लाकर चुनाव जीते थे। सपा समर्थित कांग्रेस कैंडिडेट अंबुज शुक्ला 40 हजार 520 वोट लाकर दूसरे नंबर पर रहे थे। उन्हें 22.02 फीसदी वोट मिले थे। बसपा कैंडिडेट निर्मल तिवारी को 28 हजार 795 वोट मिले थे और वे तीसरे नंबर पर रहे थे। निर्मल तिवारी 15.65 फीसदी वोट हासिल करने में कामयाब रहे।

  • 16वीं विधानसभा चुनाव 2012 के नतीजे- 16 वीं विधानसभा के चुनावों में बीजेपी के सत्यदेव पचौरी ने कांग्रेस के शैलेंद्र दीक्षित को हराया था। बीएसपी के सचिन त्रिपाठी तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि समाजवादी पार्टी के अशोक अश्वनी चौथे स्थान पर रहे थे।
  • 15वीं विधानसभा चुनाव 2007 के नतीजे- 15 वीं विधानसभा के चुनावों में कांग्रेस के अजय कपूर ने बीजेपी के हनुमान मिश्रा को मात दी थी। समाजवादी पार्टी के वीरेंद्र दुबे तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि बीएसपी के राजेंद्र कुमार तिवारी चौथे स्थान पर रहे थे।
  • 14वीं विधानसभा चुनाव 2002 के नतीजे- 14 वीं विधानसभा के चुनावों में कांग्रेस के अजय कपूर ने बीजेपी के बालचंद्र मिश्रा को हराया था। समाजवादी पार्टी के जादूगर ओपी शर्मा तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि बीएसपी के लखनलाल त्रिपाठी चौथे स्थान पर रहे थे।

लखनऊ कैंट विधानसभा सीट

2019 लोकसभा चुनाव में लखनऊ कैंट से विधायक रीता बहुगुणा जोशी इलाहाबाद से सांसद बन गई हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में रीता बहुगुणा जोशी 95 हजार 402 वोट लाकर चुनाव जीत गई थीं। सपा कैंडिडेट अपर्णा यादव को यहां पर 61 हजार 606 वोट मिले थे। बता दें कि 2017 का विधानसभा चुनाव सपा और कांग्रेस मिलकर लड़ी थी। बसपा कैंडिडेट योगेश दीक्षित 26 हजार 36 वोट मिले थे और 14 प्रतिशत वोट पाकर वो तीसरे नंबर पर रहे थे।

  • 16 वीं विधानसभा चुनाव 2012 के नतीजे- 16 वीं विधानसभा के चुनावों में कांग्रेस की रीता बहुगुणा जोशी ने बीजेपी के सुरेश चंद्र तिवारी को मात दी थी। बसपा के नवीन चंद्र द्विवेदी तीसरे स्‍थान पर रहे थे। जबकि सपा के सुरेश चौहान चौथे स्‍थान पर रहे थे।

टूंडला विधानसभा सीट

फिरोजाबाद के टूंडला विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक एसपी सिंह बघेल इस बार आगरा से सांसद बन गए हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में एसपी सिंह बघेल 1 लाख 18 हजार 584 वोट लाकर चुनाव जीते थे। यहां पर बसपा के राकेश बाबू 62 हजार 514 वोट लाकर दूसरे नंबर पर रहे, उन्हें 25.81 प्रतिशत वोट मिले, जबकि समाजवादी पार्टी के शिव सिंह चाक को बसपा से कुछ ही कम 54 हजार 888 वोट मिले। उन्हें 22.66 फीसदी वोट मिले। ये सीट अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित है।

  • 16वीं विधानसभा चुनाव 2012 के नतीजे- 16 वीं विधानसभा चुनावों में बीएसपी के राकेश बाबू ने समाजवादी पार्टी के अखिलेश कुमार को हराया था। बीजेपी के शिव कुमार चक तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि रालोद के ओम प्रकाश दिवाकर चौथे स्थान पर रहे थे।
  • 15वीं विधानसभा चुनाव 2007 के नतीजे – 15 वीं विधानसभा के चुनावों में बीएसपी के राकेश बाबू ने बीजेपी के शिव कुमार चक को हराया था। समाजवादी पार्टी के रमेश चंद्रा चंचल तीसरे स्थान पर रहे थे। सीपीएम के दौलत राम चौथे स्थान पर रहे थे।
  • 14वीं विधानसभा चुनाव 2002 के नतीजे- 14 वीं विधानसभा के चुनावों में समाजवादी पार्टी के मोहन देव शंकर ने बीजेपी के राम बहादुर चक रहे थे। बीएसपी की स्नेहलता तीसरी स्थान पर रही थीं। जबकि चौथे स्थान पर आरटीकेपी के खूब चंद पिपल रहे थे।

जैदपुर विधानसभा सीट

बाराबंकी के जैदपुर से बीजेपी के विधायक उपेंद्र रावत भी सांसद बन गए हैं. वह बाराबंकी लोकसभा सीट से चुनाव जीते हैं। अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित जैदपुर विधानसभा सीट के 2017 नतीजों की बात की जाए तो यहां से उपेंद्र रावत 1 लाख 11 हजार 64 वोट पाकर चुनाव जीते थे। इस सीट पर कांग्रेस के तनुज पूनिया 81 हजार 883 वोट लाकर दूसरे स्थान पर रहे थे। उन्हें 32.32 प्रतिशत वोट मिले। वहीं बसपा की उम्मीदवार कुमारी मीता गौतम को 48 हजार 95 वोट मिले। उन्हें 19 वोट हासिल हुआ और वह तीसरे नंबर पर रहीं।

  • 16वीं विधानसभा चुनाव 2012 के नतीजे- 16 वीं विधानसभा के चुनाव में समाजवादी पार्टी के धर्मराज सिंह ने बीएसपी के संग्राम सिंह को शिकस्त दी थी। कांग्रेस के छोटेलाल यादव तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि बीजेपी के संतोष सिंह चौथे स्थान पर रहे थे।

मानिकपुर विधानसभा सीट

चित्रकूट के मानिकपुर से बीजेपी विधायक आरके पटेल लोकसभा चुनाव जीतकर सांसद बन गए हैं, उन्हें बांदा लोकसभा सीट से जीत मिली है। 2017 के विधानसभा चुनाव के नतीजों पर नजर डालें तो आर के पटेल 84 हजार 988 वोट पाकर विजयी हुए थे। यहां से कांग्रेस कैंडिडेट संपत पाल को 40 हजार 524 वोट मिला था, 21.24 प्रतिशत वोटों के साथ वे दूसरे नंबर पर रहे। जबकि बसपा कैंडिडेट चंद्रभान सिंह पटेल 32 हजार 498 वोट लाकर तीसरे स्थान पर रहे, उन्हें 17.03 फीसदी वोट मिला था।

  • 16वीं विधानसभा चुनाव 2012 के नतीजे- 16 वीं विधानसभा के चुनाव में बीएसपी के चंद्रभान सिंह पटेल ने समाजवादी पार्टी के श्यामा चरण गुप्ता को हराया था। बीजेपी की पुष्पा तीसरे स्थान पर रही थीं। जबकि कांग्रेस की संपत देवी चौथे स्थान पर रही थीं।
  • 15वीं विधानसभा चुनाव 2007 के नतीजे- 15 वीं विधानसभा के चुनावों में बहुजन समाज पार्टी के दद्दू प्रसाद ने समाजवादी पार्टी के सत्य नरायण को हराया था। कांग्रेस की भारती चौधरी तीसरे स्थान पर रही थीं। जबकि अपना दल के महाबीर चौथे स्थान पर रहे थे।
  • 14वीं विधानसभा चुनाव 2002 के नतीजे- 14 वीं विधानसभा के चुनावों में बीएसपी के दद्दू प्रसाद ने बीजेपी के लखनलाल को पराजित किया था। तीसरे स्थान पर समाजवादी पार्टी के सत्य नरायण तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि कांग्रेस के शिरोमणि भाई चौथे स्थान पर रहे थे।

बलहा विधानसभा सीट

ये सीट बहराइच जिले में स्थित है। यहां से बीजेपी विधायक अक्षयवार लाल गौंड लोकसभा का चुनाव जीत गए हैं।  ये सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। चुनाव आयोग के आंकड़े बताते हैं कि 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी कैंडिडेट रहे अक्षयवार लाल को 1 लाख 4 हजार 135 वोट मिले थे। यहां से बीएसपी उम्मीदवार किरण भारती दूसरे नंबर पर रहीं, उन्हें 57 हजार 519 वोट मिले, उनको मिले मतों का प्रतिशत 28.91 था। तीसरे नंबर पर रहे एसपी कैंडिडेट बंशीधर बौद्ध. उन्हें 29 हजार 349 वोट मिले। उन्हें कुल मतों का 14.75 प्रतिशत वोट मिला।

  • 16वीं विधानसभा चुनाव 2012 के नतीजे- 16वीं विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के सावित्री बाई फुले ने बीएसपी के किरण भारती को हराकर अपना परचम लहराया था। सपा के शब्बीर अहमद 19.79 फीसदी मतों के साथ तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि कांग्रेस के पूनम चौथे स्थान पर रही थीं।

गंगोह विधानसभा सीट

यूपी की गंगोह विधानसभा सीट से चुनाव जीतने वाले बीजेपी उम्मीदवार प्रदीप चौधरी लोकसभा चुनाव में सांसद बन गए हैं। उन्हें चर्चित कैराना लोकसभा सीट से जीत मिली है। गंगोह सीट दलित और मुस्लिम बहुल है। 2017 के विधानसभा चुनाव में प्रदीप चौधरी को यहां पर 99 हजार 446 वोट मिले। दूसरे स्थान पर रहे कांग्रेस के नौमान मसूद। मसूद को 61 हजार 418 वोट मिले। उनके वोटों का प्रतिशत 23.95 रहा।  इस सीट पर सपा और बसपा के बीच कांटे की टक्कर रही. यहां से सपा कैंडिडेट थे इंदर सैनी। उन्हें 47 हजार 219 वोट मिले और वे तीसरे स्थान पर रहे। चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक उन्हें मिले वोटों का प्रतिशत 18.42 था। जबकि बीएसपी कैंडिडेट महिपाल सिंह माजरा को 44 हजार 717 वोट मिले, उन्हें 17.44 प्रतिशत वोट मिले और वे चौथे नंबर पर रहे।

  • 16वीं विधानसभा चुनाव 2012 के नतीजे- साल 2012 में हुए चुनाव में सीट पर कांग्रेस के प्रदीप कुमार ने जीत दर्ज की थी। उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी सपा के रुद्र सेन को लगभग 4 हजार वोटों से परास्त किया था।बीएसपी की शगुफ्ता खान तीसरे स्थान पर रहीं जबकि निर्दलीय उम्मीदवार नाहिद हसन क14.53 फीसदी वोटों के साथ चौथे स्थान पर रहे थे।

इगलास विधानसभा सीट

अलीगढ़ जिले के इगलास विधानसभा सीट से बीजेपी के विधायक राजवीर बाल्मीकि इस बार सांसद बन गए हैं। उन्होंने हाथरस लोकसभा सीट से जीत हासिल की है। 2017 के विधानसभा चुनाव के आंकड़ों के मुताबिक अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित इगलास सीट से राजवीर को 1 लाख 28 हजार वोट मिले। बसपा कैंडिडेट राजेंद्र कुमार को 53 हजार 200 वोट मिले, उन्हें 22.88 फीसदी वोट मिले और वे दूसरे नंबर पर रहे। इस सीट पर राष्ट्रीय लोक दल की सुलेखा सिंह को 28 हजार 141 वोट मिला और वे तीसरे नंबर पर रहीं। उन्हें 12.10 प्रतिशत वोट मिला था. कांग्रेस कैंडिडेट गुरुविंदर सिंह 20 हजार 934 वोट लाकर चौथे नबर पर रहे।

  • 16वीं विधानसभा चुनाव 2012 के नतीजे- 16 वीं विधानसभा के चुनाव में आरएलडी के त्रिलोकी राम ने बसपा के राजेंद्र कुमार को हराया था। तीसरे स्थान पर समाजवादी पार्टी के कन्हैया लाल रहे थे। जबकि चौथे स्थान पर बीजेपी की रामसखी रही थीं।
  • 15वीं विधानसभा चुनाव 2007 के नतीजे- 15 वीं विधानसभा के चुनावों में रालोद के बिमलेश सिंह ने बसपा के मुकुल उपाध्याय को हराया था। कांग्रेस के राकेश चौधरी तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि समाजवादी पार्टी के दिलीप सिंह चौथे स्थान पर रहे थे।
  • 14वीं विधानसभा चुनाव 2002 के नतीजे- 14 वीं विधानसभा के चुनावों में कांग्रेस के विजेंद्र सिंह ने बसपा के नरेंद्र कुमार दीक्षित को हराया था। बीजेपी के चौधरी मलखान सिंह तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि समाजवादी पार्टी के संजय सिंह चौथे स्थान पर रहे थे।

प्रतापगढ़ विधानसभा सीट

यूपी की प्रतापगढ़ विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक संगमलाल गुप्त प्रतापगढ़ लोकसभा सीट से सांसद बन गए हैं। अब इस सीट पर विधानसभा का उपचुनाव होना है। 2017 के विधानसभा चुनाव के आंकड़ों पर नजर डालें तो संगमलाल गुप्ता को 80 हजार 828 वोट मिले थे। यहां से एसपी कैंडिडेट रहे नगेंद्र सिंह को 46 हजार 274 वोट मिले। उन्हें कुल वोटों का 25.29 प्रतिशत वोट मिला था और वे दूसरे स्थान पर रहे। तीसरे स्थान पर रहे बीएसपी के अशोक त्रिपाठी. उन्हें 41 हजार 750 वोट मिले। त्रिपाठी को कुल मतों का 22.82 प्रतिशत वोट मिला था।

  • 16वीं विधानसभा चुनाव 2012 के नतीजे- 16 वीं विधानसभा के चुनावों में समाजवादी पार्टी के नागेंद्र सिंह मुन्ना ने बीएसपी के संजय को हराया था। बीजेपी के हरिप्रताप सिंह तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि अपना दल के अनीस सिंह चौथे स्थान पर रहे थे।
  • 15वीं विधानसभा चुनाव 2007 के नतीजे- 15 वीं विधानसभा के चुनाव में बीएसपी के संजय ने समाजवादी पार्टी के हाजी अब्दुल सलाम को मात दी थी। बीजेपी के हरिप्रताप सिंह तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि कांग्रेस के अनिल प्रताप सिंह चौथे स्थान पर रहे थे।
  • 14वीं विधानसभा चुनाव 2002 के नतीजे- 14 वीं विधानसभा के चुनावों में बीजेपी के हरिप्रताप सिंह ने अपना दल के अब्दुल सलाम को शिकस्त दी थी। समाजवादी पार्टी की ऊषा सिंह तीसरे स्थान पर रही थीं। जबकि बीएसपी के संजय चौथे स्थान पर रहे थे।

रामपुर विधानसभा सीट

यूपी की रामपुर विधानसभा सीट से विधायक और सपा के सीनियर नेता आजम खां इस लोकसभा चुनाव में जीतकर सांसद बन गए हैं। उन्होंने एक हाई प्रोफाइल मुकाबले में बीजेपी की जया प्रदा को हराया। रामपुर एक मुस्लिम बहुत विधानसभा क्षेत्र है। 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में सपा प्रत्यासी आजम खान को एक लाख 2100 वोट मिला था। इस सीट पर बीजेपी के शिव बहादुर सक्सेना 25.84 प्रतिशत वोट लेकर दूसरे स्थान पर रहे। उन्हें 55 हजार 258 वोट मिले। बसपा के तनवीर अहमद खान 25.36 फीसदी वोट लाकर तीसरे स्थान पर रहे, उन्हें 54 हजार 248 वोट मिले।

जलालपुर विधानसभा सीट

जलालपुर विधानसभा सीट से बहुजन समाज पार्टी के विधायक रितेश पांडेय लोकसभा चुनाव जीतकर सांसद बन गए हैं। उन्हें अंबेडकरनगर लोकसभा सीट से जीत मिली है। अब इस सीट पर विधानसभा का उपचुनाव होगा। चुनाव आयोग के आंकड़े के मुताबिक बसपा के रितेश पांडेय को 2017 के विधानसभा चुनाव में 90 हजार 309 वोट मिले थे। दूसरे स्थान पर रहे बीजेपी के डॉ राजेश सिंह। राजेश सिंह को 32.30 फीसदी वोट मिले। उन्हें कुल 77 हजार 279 वोट मिले। समाजवादी पार्टी के शंखलाल मांझी 24.56 प्रतिशत वोट लाकर तीसरे स्थान पर रहे। उन्हें कुल 58 हजार 773 वोट मिले।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com