Monday - 12 April 2021 - 12:27 AM

अलादीन के चिराग से कम नहीं है ये कटोरा

जुबिली न्यूज डेस्क

जब इंसान की किस्मत बदलने वाली होती है तो मिट्टी भी सोना बन जाती है। ऐसा ही कुछ अमेरिका में एक शख्स के साथ हुआ है।

अमेरिका के शख्स की किस्मत एक मामूली कटोरे से चमक गई। उस व्यक्ति ने अमेरिका के कनेक्टिकट शहर में एक गैरेज के बाहर लगी सेल से मात्र 35 डॉलर में एक चीनी मिट्टी का कटोरा खरीदा। उस व्यक्ति को सपने में भी ये अंदाजा नहीं था कि से कटोरा उसकी किस्मत बदलने वाला है।

चौकिए नहीं, यह कोई जादुई कटोरा नहीं है। 35 डॉलर का चीनी मिट्टी से बना यह दुर्लभ कटोरा दरअसल 15वीं सदी का है, जिसकी वर्तमान में कीमत 5 लाख डॉलर तक हो सकती है।

चीनी मिट्टी के इस कटोरे पर नीले रंग के फूल बने हुए हैं। जिस व्यक्ति ने इस कटोरे को खरीदा है उसकी पहचान गोपनीय रखी गई है।

इस कटोरे के खरीदार ने मशहूर नीलामी घर सॉदबी के सिरेमिक विशेषज्ञ को इसकी तस्वीरें भेजी, इसके के बाद वह खुद इस कटोरे को लेकर नीलामी घर गया।

इस कटोरे को देखकर विशेषज्ञों ने कहा कि यह मिंग राजवंश के तीसरे सम्राट योंगले के दरबार के लिए बनाया गया था, जिसने 1402 से 1424 तक शासन किया था।

न्यू यॉर्क में सॉदबी चीनी कलाकृतियों की प्रमुख अंगेला मैक्टीर ने बताया, “इस तरह के छह अन्य कटोरे ही दुनिया में बने हैं। यह एक बहुत ही विशिष्ट समूह के हैं।”

ये भी पढ़े :  आखिर कैसे बंगाल से लेकर असम तक बिगड़ गया एआईएमआईएम का चुनावी गणित?

ये भी पढ़े : इमरान खान को पहले का भारत कैसा लगता था ?

ये भी पढ़े :  कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर हाई कोर्ट ने क्या कहा 

17 मार्च को सॉदबी नीलामी के लिए नए खोजे गए सातवें कटोरे को पेश करेगा। इस कटोरे को तीन लाख से लेकर पांच लाख डॉलर कीमत मिल सकती है।

ऐसे ही पांच और दुर्लभ कटोरे संग्रहालयों में है। ऐसे दो कटोरे ताइवान में और दो लंदन और एक तेहरान में है।

ये भी पढ़े:पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव: तो क्या ‘ममता’ के खिलाफ उतरेंगे ‘अधिकारी’

इस कटोरे के बारे में मैक्टीर ने बताया कि छठे कटोरे को आखिरी बार 2007 में बाजार में देखा गया था। उनका कहना है कि इस वजह से खरीदारों में रूचि बढ़ेगी।

कई चीनी कलाकृतियां पीढिय़ों के जरिए आगे बढऩे से पहले 19वीं शताब्दी में पश्चिम में जमा हो गई, लेकिन मैक्टीर का कहना है कि जानकारों को यह जानने में रूचि नहीं है कि यह कटोरा चीन के कबाड़ से बिक्री के लिए यहां तक कैसे पहुंचा।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com