Thursday - 4 March 2021 - 3:34 PM

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में आज भी कोई राहत नहीं

जुबिली न्यूज डेस्क

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी की वजह से जनता बेहाल है। आज भी इसकी कीमत में कोई राहत नहीं मिली। आज लगातार 12वें दिन तेल के दाम में बढ़ोतरी हुई है।

दिल्ली में शनिवार को पेट्रोल 39 पैसे प्रति लीटर चढ़ कर 90.58 रुपये पर चला गया तो वहीं डीजल भी 37 पैसे का छलांग लगा कर 80.97 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया।

राजस्थान की बात करें तो श्रीगंगानगर में पेट्रोल 101.22 पर पहुंच गया है। मध्य प्रदेश के भोपाल में पेट्रोल की कीमत 100 रुपए पहुंचने में केवल 40 पैसे दूर है। हालांकि अनूपपुर जिले में सामान्य पेट्रोल की कीमत पहले ही 100 रुपये में बिक रही है। आज यहां 100.98 रुपये लीटर बिक रहा है।

ब्रांडेड पेट्रोल 104 रुपये तो डीजल 96.90 रुपये लीटर

राजस्थान और एमपी में ब्रांडेड पेट्रोल पहले से ही 100 रुपए में बिक रहा है। श्रीगंगानगर में ब्रांडेड पेट्रोल 104 रुपये तो डीजल 96.90 पैसे लीटर है।

वहीं एमपी के भोपाल में पेट्रोल 101.51 रुपये लीटर है।

ये भी पढ़े :  मणिपुर : चार दिनों से बंद हैं अखबार और टीवी चैनल

ये भी पढ़े : 2050 तक 6.1 करोड़ लोग देखने में पूरी तरह होंगे लाचार

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है और इस पर सरकार नियंत्रण लगाने में कोई दिलचस्पी नहीं ले रही है। जनता दाम बढऩे से जनता हलकान है और सरकार के माथे पर शिकन तक नहीं है। ऊपर से प्रधानमंत्री मोदी ने इसके लिए कांग्रेस सरकार जिम्मेदार ठहरा कर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लिया है।

ये भी पढ़े : फेसबुक ने आस्ट्रेलिया के यूजर्स पर लगाई ये रोक

ये भी पढ़े :  कोविड वैक्सीन के 75 फीसदी पर है सिर्फ 10 देशों का नियंत्रण 

पेट्रोल की कीमत में बढ़ोत्तरी का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि सिर्फ डेढ़ महीने में में पेट्रोल अब तक 6.46 रुपये महंगा हो चुका है। हालांकि, जनवरी और फरवरी में महज 24 दिन ही पेट्रोल-डीजल के रेट बढ़े। वहीं इन्ही 24 दिनों में डीजल 6.77 रुपये प्रति लीटर महंगा हो चुका है। पिछले 10 महीने में ही इसके दाम में करीब 17 रुपये 50 पैसे की बढ़ोत्तरी हो चुकी है।

ऐसे बढ़ता है पेट्रोल-डीजल का रेट

पेट्रोल व डीजल के दाम में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और अन्य चीजें जोडऩे के बाद इसका दाम लगभग दोगुना हो जाता है। अगर केंद्र सरकार की एक्साइज ड्यूटी और राज्य सरकारों का वैट हटा दें तो डीजल और पेट्रोल का रेट लगभग 27 रुपये लीटर  रहता, लेकिन चाहे केंद्र हो या राज्य सरकार, दोनों किसी भी कीमत पर टैक्स नहीं हटा सकती, क्योंकि राजस्व का एक बड़ा हिस्सा यहीं से आता है।

हर सुबह होती तय होती हैं कीमतें

दरअसल विदेशी मुद्रा दरों के साथ अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड की कीमत के आधार पर रोज पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है। ऑयल मार्केटिंग कंपनियां कीमतों की समीक्षा के बाद रोज़ाना पेट्रोल और डीजल के रेट तय करती हैं। इंडियन ऑयल , भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम रोज़ाना सुबह 6 बजे पेट्रोल और डीजल की दरों में संशोधन कर जारी करती हैं।

ये भी पढ़े : दिशा रवि की गिरफ्तारी पर क्या बोले अमित शाह

ये भी पढ़े :  पेट्रोल के बाद अब डीजल भी 100 के करीब पहुंचा

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com