राजस्थान कांग्रेस में फिर मची रार, आखिर क्यों नाराज हैं पायलट खेमे के लोग

जुबिली न्यूज डेस्क

राजस्थान कांग्रेस में एक फिर रार मच गई है। सचिन पायलट खेमे के लोग खासा नाराज हैं। जिस तरह के हालात है उससे पार्टी में सुलह कराने की कांग्रेस हाईकमान की कोशिशें एक बार फिर से फेल होती दिख रही हैं।

राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार में राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर घमासान छिड़ गया है। दरअसल सोमवार की रात को प्रदेश सरकार की ओर से 74 नेताओं के नामों की घोषणा की गई, जिन्हें राजनीतिक नियुक्तियां दी गई हैं, लेकिन इनमें से सचिन पायलट के करीबी दो वरिष्ठï नेताओं ने पद लेने से ही इनकार कर दिया।

दूसरी सूची में विधायक सुरेश मोदी का नाम था, जिन्हें ट्रेड वेलफेयर बोर्ड का चेयरमैन बनाने का फैसला लिया गया है। इसके अलावा विधायक जीआर खटाना को बिल्डिंग ऐंड कंस्ट्रक्शन कमिटी का चेयरमैन बनाया गया है।

यह भी पढ़ें : विदेश सचिव ने कहा-अब कीव में नहीं है कोई भारतीय

यह भी पढ़ें : नहीं मिल रही शेयर बाजार को राहत, खुलते ही 700 अंक से अधिक गिरा सेंसेक्स

यह भी पढ़ें : पुतिन को बाइडेन ने क्या चेतावनी दी?

इसके अलावा कांग्रेस की वरिष्ठ नेता अर्चना शर्मा को राजस्थान सोशल वेलफेयर बोर्ड का चेयरपर्सन बनाया गया है। खटाना और सुरेश मोदी को सचिन पायलट के करीबी नेताओं में शुमार किया जाता है।

लेकिन इन दोनों ही नेताओं ने पद लेने से इनकार कर दिया है। राज्य सरकार की ओर से अब तक कुल 52 विधायकों को अलग-अलग बोर्ड्स में चेयरपर्सन बनाया जा चुका है। कई लोगों को निगमों और आयोगों में भी जगह दी गई है।

वहीं पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुशील असोपा को भूमि विकास बोर्ड का सदस्य बनाया गया था, लेकिन उन्होंने सोशल मीडिया पर इस पद को न लेने की जानकारी दी है।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘मैं राज्य सरकार की ओर से दी गई राजनीतिक नियुक्तिको खारिज करता हूं। यह जिम्मेदारी मेरे सलाह लिए बिना ही दी गई थी। मैंने किसी पद के लिए कांग्रेस जॉइन नहीं की थी। मैं बिना किसी स्वार्थ के पूरी जिंदगी काम करता रहूंगा।’

इसके अलावा सचिन पायलट के एक और भरोसेमंद नेता राजेश चौधरी ने भी बिना कोई कारण बताए पद स्वीकारने से मना कर दिया है।

सोशल मीडिया पर चौधरी ने लिखा, ‘मैं पार्टी हाईकमान के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्ता हूं, जिसने मुझे यह मौका दिया। लेकिन मैं इस जिम्मेदारी को नहीं ले सकता। मैं पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता के तौर पर काम करता रहूंगा और एक वर्कर के तौर पर हमेशा उपलब्ध रहूंगा।’

पार्टी नेता नेता ने बताया, क्यों नाराज हैं पायलट समर्थक

वैसे तो सचिन पायलट खेमे के किसी भी नेता ने खुलकर नाराजगी जाहिर नहीं की है, लेकिन पूरे मामले की जानकारी रखने वाले एक पार्टी वर्कर ने बताया कि कुछ लोग बोर्ड के चेयरपर्सन जैसी जिम्मेदारी चाहते थे, लेकिन उन्हें सदस्य ही बनाया गया।

यह भी पढ़ें : अब सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्या के काफिले पर हुआ हमला

यह भी पढ़ें : रूस के सभी विमानों के अमेरिका में आने पर लगी रोक

उन्होंने कहा कि एक बोर्ड में पूर्व मेयर को भी सदस्य ही बनाया गया और एक सामान्य वर्कर को भी। ऐसे में कई नेता असंतुष्ट थे और उन्होंने पद संभालने से ही इनकार कर दिया। एक वरिष्ठï विधायक ने नाराजगी को लेकर कहा कि हर कोई अध्यक्ष ही बनना चाहता है, लेकिन यह तो संभव नहीं है।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com