Saturday - 3 December 2022 - 6:30 PM

यूपी से किसानों की राजनीति करेंगे सत्यपाल मलिक!

  • सत्यपाल और जयंत किसान सम्मेलन के मंच पर होंगे एक साथ
  • पश्चिम यूपी सत्यपाल- जयंत का गठजोड़ भाजपा के लिए बनेगा संकट

राजेंद्र कुमार

मेघालय के राज्यपाल पद से आज रिटायर होने के बाद सत्यपाल मलिक यूपी में यूपी में किसानों की सियासत करेंगे. अपनी इस योजना के तहत ही वह तीन अक्टूबर को शामली (मुजफ्फरनगर) में राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के मुखिया जयंत चौधरी के साथ किसान सम्मेलन का मंच साझा करेंगे.

रालोद नेताओं के अनुसार सतपाल मलिक जल्द ही रालोद में शामिल होंगे. रालोद के प्रदेश महासचिव संगठन राजकुमार सांगवान के अनुसार, रालोद किसानों की पार्टी है और सत्यपाल मलिक पुराने किसान नेता हैं. उनके साथ आने से किसानों का हित होगा.

रालोद के नजदीकी लोगों के अनुसार, सत्यपाल मलिक की इच्छा कैराना सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने की है. इस मंशा की पूर्ति के लिए वह राज्यपाल पद से रिटायर होते ही वह यूपी में सक्रिय होंगे. 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के दिन सत्यपाल मलिक अपनी नई पारी की शुरुआत अलीगढ़ में एक किसान सम्मेलन से करेंगे. इसके अगले दिन वह शामली में जयंत चौधरी के साथ किसान सम्मेलन में मंच साझा करेंगे.

सत्यपाल मलिक बागपत के हिसावदा गांव निवासी हैं. उन्होंने चौ.चरण सिंह की छत्रछाया में अपना राजनीतिक सफर शुरू किया था. कभी वह चौधरी साहब के खासमखास हुआ करते थे. फिर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अपनी दोस्ती के चलते वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए.

सत्यपाल मलिक को दुःख है कि भाजपा उन्हें राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया, लेकिन लोकसभा चुनाव लड़ने का मौका नहीं दिया. जाट समुदाय को प्रभावित करने के लिए 30 सितंबर 2017 को उन्हें बिहार का राज्यपाल बनाया गया. फिर उनको जम्मू-कश्मीर भेजा गया.

धारा 370 हटाने के बाद उनको वहां से हटा कर मेघालय भेजा गया. मेघालय का राज्यपाल रहते हुए उन्होंने केंद्र सरकार के लाये कृषि बिल की खिलाफत भी की. और केंद्र सरकार पर किसानों की अनदेखी का आरोप लगाया.

यहीं नहीं उन्होंने कई बार यह बोला कि ‘मैं इस्तीफा जेब में लेकर चलता हूं।’यहीं नही सामाजिक मंचों पर उन्होंने ‘देश को बिकने से रोकना होगा’ जैसे बयान दिए.

फिलहाल अब 24 साल बाद सत्यपाल मलिक चौधरी परिवार के साथ मंच साझा करेंगे. किसानों के मुद्दों पर सत्यपाल मलिक का चरण सिंह के पौत्र चौधरी जयंत के साथ आना यूपी में किसान राजनीति को ताकत देगा. भाजपा के लिए यह गठजोड़ पश्चिम उत्तर प्रदेश में खतरा बन सकता है.

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com